हिंदी कंप्यूटिंग समस्या समाधान हेतु खोजें

व्यंग्य जुगलबंदी–38 : साहित्यिक खेती

साझा करें:

साहित्यिक खेती यदि आपमें पत्रकारीय गुण हैं तो आप साहित्यिक खेती के लिए सदा-सर्वदा से उपयुक्त पात्र होंगे, वो भी इस सृष्टि के प्रारंभ से, और ...

image

साहित्यिक खेती

यदि आपमें पत्रकारीय गुण हैं तो आप साहित्यिक खेती के लिए सदा-सर्वदा से उपयुक्त पात्र होंगे, वो भी इस सृष्टि के प्रारंभ से, और इसके अंत होने तक. क्योंकि, जहाँ न पहुँचे रवि वहाँ पहुँचे साहित्यकार. ठीक है, तुकबंदी में थोड़ी तुक मिल नहीं रही है, मगर मसला अब खांटी-कवि से आगे बढ़कर बहु-विध-साहित्यकार तक पहुँच गया है, इसलिए बेतुका भी चलेगा.

तो, बात साहित्यिक खेती की और पत्रकारीय गुण की हो रही थी. यदि आपमें पत्रकारीय गुण हैं तो आप हर विषयों में लिखने में पैदाइशी सक्षम होंगे. सृष्टि के हर अंधे कोने में प्रकाश डालने में सक्षम होंगे. हर विषयों के ज्ञाता होंगे. आपके लिखे के हर हर्फ, हर वाक्य और हर पैराग्राफ में ज्ञान-गंगा बहती मिलेगी. इतनी, कि आप लता को लता नहीं, केवल भजन गायिका भी कह लेंगे, और ऐसा कहते हुए आपको कान पकड़ने की भी जरूरत नहीं होगी. अब भले ही उस किस्म का लेखन केल्कुलेटेड मूव हो, टीआरपी बटोरक हो, मगर भई, बात खेती की हो रही है तो उपज तो अच्छा मंगता है ना? इसलिए, कंट्रोवर्सी की  शातिराना खाद, इन्वोकिंग की कीटनाशक-खरपतवार नाशक और ट्रॉलिंग की निराई-गुड़ाई भी भरपूर होती है और ऐवज में उपज में बढ़ोत्तरी दिनोंदिन होती है. इतनी, कि इधर स्टेटस का एक सड़ियल सा बीज बोया, और उधर लहलहाती फसल तैयार!

साहित्यिक खेती में कविताई खेती सबसे आसान है. हर कोई – दोहराया जा रहा है – हर कोई, जिसके हाथ में आज एक अदद स्मार्टफ़ोन है, वो कविता लिखने में सक्षम है और अधिकांश लिख रहे हैं, छप भी रहे हैं, भले ही ये बात दीगर हो कि कहाँ छप रहे हैं अथवा छप कहाँ रहे हैं. मेहनत लगे न मजूरी, कविता बढ़िया आय. वो भक्तिकालीन जमाना गया जब रसछंदालंकार की बातें होती थीं, और कविताई में मात्रादि की गिनती होती थी, भाव और वर्तनी की बातें होती थी. अब तो जब भाषा में देवनागरी अक्षरों के साथ रोमन स्क्रिप्ट भी घुसती चली आ रही है तो मात्राओं की गिनती की बातें तो छोड़िये, वर्तनी भी भूल जाइए. पता नहीं किस दिलजले शब्दकार ने ‘कि’ और ‘की’ गढ़ दिया जिसमें प्रकटतः आज के तथाकथित मॉडर्न साहित्यकारों को कोई आम-या-खास अंतर नज़र ही नहीं आता.

कविता में, जब भावों को पढ़ने वालों के ऊपर छोड़ा जा सकता है तो वर्तनी को भी तो पाठक के ऊपर छोड़ा जा सकता है – कि भइए, तुझमें अगर औकात है तो ठीक करके पढ़ले. नहीं तो आगे बढ़ले! या, शायद अधिकांश समकालीन कविता लेखन इसी थ्योरी के आधार पर होने लगी हैं. भले ही माइक्रोसॉफ्ट, गूगल से लेक फ़ेसबुक तक सब अपने अपने लेखन प्लेटफ़ॉर्म में हिंदी वर्तनी जांच की अंतर्निर्मित सुविधा प्रदान कर दें, पर, हमें क्या? वर्तनी से हमारे लेखन को क्या लेना-देना? आज की साहित्यिक खेती की फसल में वेल्यू एडीशन वर्तनी से नहीं, बल्कि स्त्रीवाद, दलितवाद, किसानवाद, राष्ट्रवाद आदि-आदि से होता है. और हाँ, मार्क्सवाद से कभी आता रहा होगा, पर अब जमाना आईएसआईएसवाद का आ गया है, गौरक्षावाद का आ गया है.

साहित्यिक खेती में एक बात और विशिष्ट किंतु मजेदार है. हर कोई, अपने-अपने खेत-खलिहान को बटोरने, चमकाने, बढ़िया फसल पाने और उसके बाद बाजार में उसका उत्तम मूल्य पाने में संघर्षरत है. मगर साथ-साथ वो दूसरे की खेती को एकदम निकृष्ट, बेकार, अनुपयोगी, कचरादि बताने-स्थापित करने में उतना ही तल्लीन और प्रयासरत है. यहाँ तक कि एक समकालीन कवि अपने और गिनती के दो और के अलावा किसी और को कवि मानता ही नहीं. बताओ भला! जिस देश में सोशल मीडिया से लेकर प्रिंट मीडिया तक में कवि, कविताई, कविता-संग्रहादि भरे पड़े हों, यहाँ तक कि नुक्कड़ की भजिए की दुकान में किसी कागज के ठोंगे में पकौड़े खाते हुए इस बात की शत-प्रतिशत संभावना रहती है कि ठोंगे का कागज़ किसी कविता-संग्रह के चिकने आर्टपेपर का बना है और उसमें किसी कवि की उद्दात्त प्रेम कविता छपी है, वहाँ केवल और केवल तीन अदद कवि! हे ईश्वर! इन पंक्तियों का सृजन होते समय यह सृष्टि नष्ट क्यों न हो गई!

मैंने भी आज की अपनी साप्ताहिक जुगलबंदी की खेती कर ली है. देखते हैं टिप्पणियों, साझाकरण आदि की वाइरल फसल कितनी होती है.

टिप्पणियाँ

ब्लॉगर: 1
Loading...
.... विज्ञापन ....

-----****-----

-- विज्ञापन --

---

|हिन्दी_$type=blogging$count=8$page=1$va=1$au=0$src=random

|हास्य-व्यंग्य_$type=complex$count=8$page=1$va=0$au=0$src=random

|तकनीक_$type=blogging$au=0$count=7$page=1$src=random-posts

नाम

तकनीकी ,1,अनूप शुक्ल,1,आलेख,6,आसपास की कहानियाँ,127,एलो,1,ऐलो,1,गूगल,1,गूगल एल्लो,1,चोरी,4,छींटे और बौछारें,142,छींटें और बौछारें,336,जियो सिम,1,जुगलबंदी,49,तकनीक,40,तकनीकी,683,फ़िशिंग,1,मंजीत ठाकुर,1,मोबाइल,1,रिलायंस जियो,2,रेंसमवेयर,1,विंडोज रेस्क्यू,1,विविध,371,व्यंग्य,508,संस्मरण,1,साइबर अपराध,1,साइबर क्राइम,1,स्पैम,10,स्प्लॉग,2,हास्य,2,हिन्दी,496,hindi,1,
ltr
item
छींटे और बौछारें: व्यंग्य जुगलबंदी–38 : साहित्यिक खेती
व्यंग्य जुगलबंदी–38 : साहित्यिक खेती
https://lh3.googleusercontent.com/-GQ69bYP4AvI/WT0A9uQQEcI/AAAAAAAA45s/-u-LZXZn6YkpvK9I2kCQY1GzgtlXWv8SQCHM/image_thumb%255B1%255D?imgmax=800
https://lh3.googleusercontent.com/-GQ69bYP4AvI/WT0A9uQQEcI/AAAAAAAA45s/-u-LZXZn6YkpvK9I2kCQY1GzgtlXWv8SQCHM/s72-c/image_thumb%255B1%255D?imgmax=800
छींटे और बौछारें
https://raviratlami.blogspot.com/2017/06/38.html
https://raviratlami.blogspot.com/
https://raviratlami.blogspot.com/
https://raviratlami.blogspot.com/2017/06/38.html
true
7370482
UTF-8
सभी पोस्ट लोड किया गया कोई पोस्ट नहीं मिला सभी देखें आगे पढ़ें जवाब दें जवाब रद्द करें मिटाएँ द्वारा मुखपृष्ठ पृष्ठ पोस्ट सभी देखें आपके लिए और रचनाएँ विषय ग्रंथालय खोजें सभी पोस्ट आपके निवेदन से संबंधित कोई पोस्ट नहीं मिला मुख पृष्ठ पर वापस रविवार सोमवार मंगलवार बुधवार गुरूवार शुक्रवार शनिवार रवि सो मं बु गु शु शनि जनवरी फरवरी मार्च अप्रैल मई जून जुलाई अगस्त सितंबर अक्तूबर नवंबर दिसंबर जन फर मार्च अप्रैल मई जून जुला अग सितं अक्तू नवं दिसं अभी अभी 1 मिनट पहले $$1$$ minutes ago 1 घंटा पहले $$1$$ hours ago कल $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago 5 सप्ताह से भी पहले फॉलोअर फॉलो करें यह प्रीमियम सामग्री तालाबंद है चरण 1: साझा करें. चरण 2: ताला खोलने के लिए साझा किए लिंक पर क्लिक करें सभी कोड कॉपी करें सभी कोड चुनें सभी कोड आपके क्लिपबोर्ड में कॉपी हैं कोड / टैक्स्ट कॉपी नहीं किया जा सका. कॉपी करने के लिए [CTRL]+[C] (या Mac पर CMD+C ) कुंजियाँ दबाएँ