योग के मरफ़ी के नियम


• यदि कहीं अनुलोम है तो वहाँ विलोम भी होगा (भावार्थ अथवा गूढ़ार्थ - जहाँ रामदेव है, वहाँ ओवैसी भी होगा, इसी तरह अन्य नियम भी भावार्थ अथवा गूढ़ार्थ निकाल कर पढ़े जाएं, :)).

• यदि कहीं कुछ गलत योग-मुद्रा हो सकने की संभावना होती है तो अंततः ऐसा होता ही है.

• यदि बहुत सी गलत योग-मुद्रा के हो सकने की संभावनाएँ होती हैं, तो वही एक गलती होती है जिससे कि सर्वाधिक समस्या होती है.

• उपप्रमेय: यदि किसी योग-मुद्रा के गलत के हो सकने का सबसे खराब समय होता है, तो उसी सबसे खराब समय में होता है.

• यदि किसी के लिए, कहीं, कभी, कोई गलत योग-मुद्रा हो ही नहीं सकती हो तो फिर वहाँ अंततः गलत योग-मुद्रा होती ही है.

• यदि आप यह महसूस करते हैं कि चार संभावित तरीकों से गलत योग-मुद्रा हो सकती है, और आप इन सभी तरीकों से बच निकलते हैं, तभी, गलत योग-मुद्रा हो सकने का एक पाँचवाँ अप्रत्याशित तरीका तत्परता से पैदा हो जाता है.

• यदि योग-मुद्राओं को अपने हाल पर छोड़ दिया जाए, तो वे बद से बदहाल होने की कोशिशें करती हैं.

• यदि आपकी योग-मुद्राओं में सब कुछ अच्छा चलता प्रतीत हो रहा है, तो यकीन मानिए, आपने कुछ अनदेखा किया ही है.

• प्रकृति हमेशा योग-मुद्रा के गुप्त दोषों के पक्ष में होती है.

• मुस्कराओ... योग-मुद्रा में कल तो और बुरा होगा.

• योग-मुद्रा में कुछ गलत होता है तो सारा कुछ एक साथ होता है.

• योग-मुद्रा में ज्यादा अनुसंधान आपके सिद्धान्त का समर्थन करने के लिए अग्रसर होते हैं

• योग-मुद्रा में सब कुछ कभी भी सही नहीं होता. अतः यदि सब कुछ सही हो रहा हो... तो कहीं कुछ गलत है.

• योग-मुद्रा में कुछ भी जो गलत हो सकता है, उसे अंततः गलत होना ही है.

• किसी योग-मुद्रा को करते समय, यदि आपको इसके फायदे का पहले से पता होता है तो इस बात से हमेशा ही मदद मिलती है.

• कोई भी योग-मुद्रा उतनी आसान नहीं होती जितनी वह दिखाई देती है.

• हर योग-मुद्रा के लिए उससे ज्यादा समय लगता है जितना आप समझते हैं.

• यदि कोई योग-मुद्रा कभी गलत हो ही नहीं सकती तो अंततः उसे गलत होना ही है.

• जब आप कोई योग-मुद्रा करने के लिए निकल पड़ते हैं तो पता चलता है कि कोई अन्य योग-मुद्रा पहले करना जरूरी है.

• हर योग-मुद्रा एक नई, आवश्यक योग-मुद्राओं के साथ आता है.

• किसी योग-मुद्रा की आसानी उसके महत्व के उलटे अनुपात में होती है.

• किसी योग-मुद्रा के सीखने की संभावना उसके लाभ के सीधे अनुपात में होता है.

• आखिरी असंभावित योग-मुद्रा का सरल विकल्प कुछ न कुछ मिल ही जाता है.

• आप चाहे जितनी भी मशक्कत कर सबसे आसान योग-मुद्रा सीख लेते हैं तो इसके तुरंत बाद पता चलता है कि इसका और सरल विकल्प कुछ और था.

• सामूहिक योग में, हर समय, आपके इस बाजू वाला आपसे ज्यादा अच्छा योग-मुद्रा कर रहा होता है, और जब आप करवट बदल कर देखते हैं तो उस बाजू वाला भी ज्यादा अच्छा योग-मुद्रा कर रहा होता है.

• योग-मुद्रा नहीं करने के लिए आपको यह साबित करना होता है कि आप तो पहले से ही योगी हैं और आपको तो योग की कतई आवश्यकता ही नहीं है.

• किसी भी योग-मुद्रा को अगर आप अपने मुताबिक सुधार कर सरल बनाना चाहते हैं तो जितना सोचा गया होता है उससे कहीं ज्यादा कठिन योग-मुद्रा की जरूरत होती है.

• यदि कोई आसन हो नहीं रहा है, तो कोई दूसरा आसन आजमाएँ. दूसरा न हो तो तीसरा, चूंकि अंततः दूसरा आसन भी कोई पहले से आसान नहीं होता.

• यदि कोई असंभव योग-मुद्रा को प्रशिक्षक के सामने किया जाता है तो वह योग-मुद्रा अचानक भली भांति होने लग जाता है.

• यदि कोई ऐसा आसान योग-मुद्रा बना लिया जाता है जिसका इस्तेमाल कोई बेवक़ूफ़ भी कर सकता हो तो फिर उसका इस्तेमाल सिर्फ बेवक़ूफ़ ही करेंगे.

• हर एक के पास योगी बनने की योजनाएँ होती हैं जो काम नहीं करतीं.

• किसी भी योग-मुद्रा में प्रत्येक व्यक्ति अपने स्वयं के अयोग्यता स्तर के चरम पर पहुँच जाता है और फिर वह वहीं बना रहता है.

• किसी भी योग-मुद्रा को सबसे बढ़िया करने के लिए कोई समय नहीं होता, परंतु उस योग-मुद्रा को निपटा लेने के लिए समय हमेशा होता है.

• जीवन में कोई भी योग-मुद्रा या तो असंभव, या गैरजरूरी होती है.

• संशय के समय योग-मुद्रा में ज्यादा विश्वसनीयता लाएँ.

• योग-मुद्रा के सबसे महत्वपूर्ण, कठिन आसन पर ही आपके मोबाइल पर एक बेहद जरूरी, वाट्सएप्प संदेश अपडेट होता है.

• जहाँ सहनशक्ति और धैर्य असफल हो जाता है, योग-मुद्रा की जीत होती है.

• यदि आप कुछ सरल योग-मुद्रा चाहते हैं, अधिक संभावना है कि आपको वह न करना पड़े.

• यदि आप समझते हैं कि आप सही और बढ़िया योग-मुद्रा कर रहे हैं, तो इसके आपके सामने ही गलत ठहराए जाने की पूरी संभावना है.

• बूमरेंग प्रभाव याद कीजिए; आपकी योग-मुद्राएँ आपके पास लौट कर वापस आती हैं.

• जब आप अकेले योग कर रहे होते हैं तभी आपके आसन स्वाभाविक, नियमानुसार, शत-प्रतिशत शुद्ध होते हैं.

• आपका सबसे बुरा योगासन तभी बनता है जब आप औरों के सामने प्रदर्शित करते होते हैं जिन्हें आपको प्रभावित करना होता है.

• आप चाहे जितनी भी कोशिश कर लें, आप ठीक से एक भी योग-मुद्रा नहीं कर सकते.
(उदाहरण के लिए, परिवार के सभी लोगों को योग सिखाने की कोशिश करना)

• मित्रों को योग सिखाने की कीमत बीयर की कीमत के सीधे अनुपात में होती है.

• ग्रेट योग-मुद्राएँ कभी भी याद नहीं किए जाते और सरल योग-मुद्राएँ कभी भूले नहीं जाते.

• योग-मुद्राओं में से हमेशा वही भूला जाता है जो कठिन, असंभव किस्म का होता है.

• जो योग-मुद्रा आप आसानी से कर सकते हैं, प्रशिक्षक आपके लिए गैरजरूरी बताता है और जो आपको करने को कहा जाता है उसे आप हरगिज करना नहीं चाहते.

• योग-मुद्रा का सर्वकालिक नियम – जो योग-मुद्रा आप करना चाहते हैं वह संभव नहीं है, जो आप कर सकते हैं उसे आप करना नहीं चाहते.

• दैनिंदनी योग का समय आप कितने लेट हो चुके हैं या होने वाले हैं उसके सीधे अनुपात में होती है.

• किसी योग-मुद्रा की पेचीदगी का गुणांक, उस योग-मुद्रा को सीखने में कितना समय लगता है तथा वह कितना महत्वपूर्ण होता है उसके उलटे अनुपात में होता है.

• लोगों के द्वारा किसी व्यक्ति के योग-मुद्रा का अवलोकन किए जाने की संभाव्यता उसके द्वारा किए जा रहे ऊटपटांग योग-मुद्रा के सीधे अनुपात में होती है.

• यदि आप धूल-धूसरित होकर उठते हैं तो यकीनन आपकी योग की चटाई में धूल है.

• योग के नियमों की जानकारी होने मात्र से किसी भी परिस्थिति में कोई मदद नहीं मिलती है.

• यदि आप अपना प्रभाव जमाने के लिए कोई योग करते हैं तो यकीन मानिए, आपका प्रभाव खतम हो जाता है.

एक टिप्पणी भेजें

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

[blogger][facebook]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget