इंटरनेट में एक दिन में क्या क्या नहीं घट जाता है!

इंटरनेट में एक दिन में बहुत कुछ घट जाता है. जरा नीचे दिए चित्र (साभार - टेकरिपब्लिक ब्लॉग) को देखें और अपने दांतों तले अपनी उंगली दबाएं! - टीप- चित्र आकार में बड़ा है इसलिए लोड होने में समय ले सकता है.

 

और, आखिरी ग्राफिक्स को ध्यान से देखिए. एक दिन में 3.71 लाख बच्चे जन्म लेते हैं, जबकि उतने ही समय में 3.78 लाख आईफ़ोन की बिक्री हो जाती है. यानी आने वाले किसी समय में दुनिया के हर आदमी - जी हाँ, हर आदमी के हाथ में एक से अधिक आईफ़ोन होगा!

हमारे देश के केंद्रीय मंत्री कहते हैं कि भारत में स्त्रियों को टॉयलेट नहीं, मोबाइल फ़ोन ज्यादा जरूरी होता है, तो, इन आंकड़ों के हिसाब से क्या वो गलत कहते हैं?

विषय:

एक टिप्पणी भेजें

बहुत खूब,इस "इंटरनेट में एक दिन में क्या क्या नहीं घट जाता है!" का अंत अत्यंत खूबसूरत सवाल से किया "हमारे देश के केंद्रीय मंत्री कहते हैं कि भारत में स्त्रियों को टॉयलेट नहीं, मोबाइल फ़ोन ज्यादा जरूरी होता है, तो, इन आंकड़ों के हिसाब से क्या वो गलत कहते हैं?"

जी हाँ अब तो यह ही लग रहा है,कि उन्हे भी एक बार ये ब्लोग पढने की ज़रूरत है... :)

रवि रतलामी जी, महत्वपूर्ण जानकारी देने के लिए आभार

ये ऑंकडे देख/पढ कर मुझे तो घबराहट होने लगी।

अगर इसमें यह भी जुड़ जाता कि इतने किलो कार्बन का उत्सर्जन और इतने किलोवाट बिजली का खर्च इंटरनेट की वजह से हुआ तो आँकड़े और भी डरावने होते।

ये तब है जब अपन नियमित रूप से नेट से जुड़े नहीं हैं। :)

आप हमेशा ही कुछ न कुछ नयी जानकारी देते रहते हैं तभी तो हमें आपकी पोस्‍ट का इंतजार रहता है।

ओह,
मुझे तो लगा ये सब आपका ही किया धरा है :))))

कितना कुछ घटता रहता है, कितना कुछ बढ़ता रहता है।

नियमित हो जाइये... ... :)

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

[blogger][facebook]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget