रविवार, 15 जुलाई 2007

मैं और मेरी चिट्ठाकारी


मेरे, तरंग में आकर लिखे गए आत्मालाप पर पहले शास्त्री जी ने अपनी टिप्पणी में, और फिर ज्ञानदत्त जी ने अपने चिट्ठे में मुझसे प्रश्न किया कि जिस बिना पर मैंने आत्मालाप किया है, वैसा ही कुछ, अन्य चिट्ठाकारों चिट्ठों को कैसे प्राप्त हो – इस पर लिखें. यानी शुद्ध-सरल भाषा में – चिट्ठों पर हिट और चिट्ठे के समर्पित पाठक बढ़ाने के तरीके लिखें.

वैसे, सही में देखा जाए तो फ़ीडबर्नर के जो आंकड़े मेरे चिट्ठे पर दिख रहे हैं, वैसा ही कुछ जतन (ब्लॉगर+फ़ीडबर्नर फ़ीड योग) फ़ुरसतिया पर होता या संभवतः ई-पंडित या मोहल्ला पर होता तब भी ऐसा ही कुछ या इससे बेहतर आंकड़ा दिखाई देता होता – और इसीलिए मैंने कहा भी था – ज्यादा खुशी मनाने जैसी कोई बात नहीं, और, वैसे भी, ये तो शुरूआत है – आने वाले दिनों में सैकड़ों हजारों हिन्दी चिट्ठे तमाम तरह की लोकप्रियता प्राप्त करेंगे. दरअसल, अभी इंटरनेट का आम हिन्दी पाठक चिट्ठों के बारे में एक तरह से अंजान ही है. नहीं तो हिन्दीमीडिया को उसके प्रारंभ होने के मात्र दो महीने के भीतर ही दो-लाख हिट्स नहीं मिलते!

चलिए, फिर भी, अब जब चूंकि मुझे आसन पर बैठा ही दिया गया है, तो कुछ प्रवचन मैं भी दे ही देता हूँ. वैसे, प्रवचन तो हर कोई सुना सकता है. अब ये दीगर बात है कि श्रोता अमल करें या न करें, और, अहम् बात, किसे पता कि वाचक खुद अपने प्रवचनों पर अमल करता भी है या नहीं!

तो, लीजिए प्रस्तुत है चिट्ठों को हिट कराने के 10 प्रमुख नुस्ख़े –

# 1 - आप 200 के लिए नहीं, बल्कि 2000 के लिए लिखें, और हो सके तो 2 लाख के लिए लिखें.

# 2 – आप ऐसा लिखें जो आज भी पढ़ा जा सके, कल भी और परसों भी और आज से दस साल बाद भी. कालजयी प्रविष्टियाँ खोद-खाद कर लिखी-पढ़ी-और छापी जाती हैं, और हमेशा ताजा बनी रहती हैं.

# 3 - आप ऐसी, फुरसतिया, मनोरंजक, हास्य-विनोद की भाषा में लिखें जो सहज और सरल हो. दूसरों के बजाए अपने ऊपर जोक मारें – और आमतौर पर पाठकों को पता चल ही जाता है कि निशाने पर कौन है. अजदकी, भड़ासी व भदेस भाषा के अपने अलग, विशिष्ट, खास पाठक होते हैं, और, अत्यंत सीमित पाठक होते हैं.

# 4 - आप विषयों में विविधता रखें, उसे बहुआयामी बनाएँ – आज आलू के बारे में लिखा तो कल रतालू के बारे में लिखें. रोज आलू खा कर व्यक्ति चार दिन में बोर हो जाता है. आज आपने कविता लिखी है, कल ग़ज़ल ट्राई करें, परसों यात्रा वृत्तांत लिखें – भले ही वह आपके लोकल ट्रेन या मेट्रो के सफर का अलहदा सा वृत्तांत हो.

# 5 – आप अपने चिट्ठा पोस्ट में जहाँ तक बन पड़े, एकाध संदर्भित-असंदर्भित चित्र अवश्य डालें. यकीन मानिए, आपका कंप्यूटर और इंटरनेट चित्रों का भंडार है. दूसरे का चित्र या सामग्री हो तो उसे क्रेडिट अवश्य दें.

# 6 – आप एक पोस्ट लिखने से पहले कम से कम दस और हो सके तो बीस पोस्ट पढ़ें – आवश्यक नहीं कि हिन्दी में, और यह भी आवश्यक नहीं कि कम्प्यूटर पर ही पढ़ें (अखबारों-पत्र-पत्रिकाओं में पढ़ें). और, संभव हो तो जिस विषय पर लिख रहे हैं उस विषय के बारे में पढ़ें.

# 7 – आप जहाँ तक बन पड़े जवाबी पोस्ट न लिखें. उनकी कोई उम्र नहीं होती, और स्वतंत्र रुप से उनका कोई आधार भी नहीं होता. वह सिर्फ एक दिन के लिए प्रासंगिक, जीवंत होता है. दूसरे दिन वह अप्रासंगिक, मृतप्राय: हो जाता है.

# 8 - आप नियमित, कुछ न कुछ लिखें. प्रविष्टि 250 शब्दों से कम न हो – पाठक को यह न लगे कि यह पोस्ट प्रकाशित कर उसे बेवकूफ़ बनाया गया है. सप्ताह में कम से कम एक प्रविष्टि तो लिखें ही. अंग्रेज़ी के भारत के सर्वाधिक सफल ब्लॉगर अमित (और विश्व के दूसरे सफल ब्लॉगर भी) एक दिन में 5-6 प्रविष्टियाँ लिखते हैं – और, सारे के सारे जानकारी से भरे, विविधता पूर्ण.

# 9 - आप पाठकों की, टिप्पणियों की चिंता किए बगैर, नियमित लिखते रहें. जिस दिन आपके चिट्ठे पर सारगर्भित पोस्टों की संख्या हजार के आंकड़े को छू लेगी (अभी तो मेरे इस चिट्ठे ने भी नहीं छुआ है ;)), विश्वास रखिए, उस दिन आपके चिट्ठे के पाठकों की संख्या भी हजार को पार कर लेगी.

# 10 – ऊपर दिए गए नियमों को सिरे से नकार दें. चिट्ठे किसी नियम-बंधन-संपादन-विषयवस्तु से बंधे नहीं हैं. जो लिखना चाहें बिंदास लिखें. हिट-मिस की चिंता न करें. जब चाहें, जैसा चाहें लिखें, न चाहें न लिखें और चाहें तो अपने लिखे चिट्ठे मिटा दें और मिटा कर नए बना लें – चिट्ठा है भाई! मैं अपने चिट्ठे में कुछ भी करने को स्वतंत्र हूँ – क्योंकि ये चिट्ठा मेरा है!



पुनश्चः इस प्रविष्टि को प्रकाशित करने के तत्काल बाद ही यह रचना पढ़ने में आई -

कहें दीपक बापू मत पडो हिट- फ्लॉप के चक्कर में

आग्रह है कि उक्त रचना को इस प्रविष्टि का परिशिष्ट समझें!

********



चिट्ठाजगत अधिकृत कड़ी

14 blogger-facebook:

  1. मुझे आपसे जलन होती है, जब मै फीडबर्नर पर पाठक संख्या देखता हुँ. :) ससच्ची

    उत्तर देंहटाएं
  2. फ़ुर्सतिया के चिट्ठे पर तो ये सुविधा नहीं है.. मोहल्ले पर है. उसके ६६ रीडर्स हैं.. खाकसार भी इस संख्या को प्रदर्शित करता है.. और दो दिन में यह संख्या उछ्ल कर २३ से ४० पर पहुँच गई है.. इतरा तो हम भी बहुत रहे हैं.. पोस्ट लिखने लायक तो नहीं.. मगर यहाँ टिपियाने में उगल ही गए..
    बाकी आपके दिशा निर्देशों को नोट किया माना जाय..

    उत्तर देंहटाएं
  3. raviji
    vastv mein aapse seekhnaa chaahiye. bahut dadhiya, apne mere rachnaa do apna parishishth kahaa.aapke pryass hindi blog jagat ke liye rang la rhe hain.
    deepak bharatdeep

    उत्तर देंहटाएं
  4. प्रिय रवि

    इस लेख के लिये बहुत शुक्रिया. आवश्यक लगभग सारी प्राथमिक जानकारी इस लेख में आ गई है. जो सीखना चाहते हैं उनको दिशा दे दी है. अब उनके ऊपर है कि वे इस सीढी का उपयोग करे या न करे.

    -- शास्त्री जे सी फिलिप
    www.Sarathi.info

    उत्तर देंहटाएं
  5. जगदीश भाटिया6:45 pm

    जरा बैंक के चक्कर ज्यादा लगाया कीजिये और अपने लॉकर से निकाल निकाल कर ला कर ऐसी पोस्ट ज्यादा लिखा कीजीये।
    हमें बहुत जरूरत होती है ऐसे ज्ञान की

    उत्तर देंहटाएं
  6. अगर आप के कीबोर्ड इतनी काम की पोस्‍टें न उगले तब तो हिंदी चिट्ठा भंडार हम जैसों की बेमतलब के उवाचों से गंधा ही जाए।

    शुक्रिया

    उत्तर देंहटाएं
  7. आपके बताए नियम बहुत ही उपयोगी और विचारणीय हैं। पूरी कोशिश रहेगी इनको फॉलो करने की।

    वैसे तो आपके बताए सारे ही टिप्स एक से बढ़कर एक हैं पर निम्न वाला मुझे खास पसंद आया।

    "आप पाठकों की, टिप्पणियों की चिंता किए बगैर, नियमित लिखते रहें. जिस दिन आपके चिट्ठे पर सारगर्भित पोस्टों की संख्या हजार के आंकड़े को छू लेगी (अभी तो मेरे इस चिट्ठे ने भी नहीं छुआ है ;)), विश्वास रखिए, उस दिन आपके चिट्ठे के पाठकों की संख्या भी हजार को पार कर लेगी. "

    उत्तर देंहटाएं
  8. रवि जी,नयी सीख देने के लिए आपका धन्यवाद।बहुत सही लिखा है।

    उत्तर देंहटाएं
  9. आभार आदरणीय जो यह टिप्स हमारे साथ आपने बांटे!!

    कोशिश यही होगी कि इन्हें अपने आप पर लागू कर सकें!!

    उत्तर देंहटाएं
  10. उस्‍तादजी ! आनन्‍द आ गया । आपकी बातें गुदगुदाती भी हैं और सहारा भी देती हैं । आप हिन्‍दी ब्‍लागिंग पर कोई पुस्‍तक क्‍यों नहीं लिखते ? आने वाला समय हिन्‍दी ब्‍लागिंग का है, तब आपकी पुस्‍तक असंख्‍य नव-लिक्‍खडों के लिए संजीवनी का काम करेगी ।

    उत्तर देंहटाएं
  11. इतनी बढ़िया जानकारी देने का शुक्रिया। और अब तो राज भी खुल गया।

    उत्तर देंहटाएं
  12. बढ़िया है। अब अमल शरू करते हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  13. ऐसे तो सभी बिन्दु नोट करने लायक हैं पर दसवें नंबर का बिन्दु सबसे महत्वपूर्ण है। आप वह लिखें जो आप को पसंद हो - क्योंकि वही आप सबसे अच्छा लिख सकते हैं और अच्छा लिखा ही पढ़ा जायगा। इसे सरल भाषा में लिखें - क्योंकि सरल भाषा ही समझ आयगी। दुनिया बहुत बड़ी है। आपको अपनी पसंद के लोग हमेशा मिलेंगे

    उत्तर देंहटाएं
  14. ...तो आप ही हैं वे रिसर्च गाइड जिनकी अंगुली पकडकर रिसर्च रूपी वैतरणी पार की जा सकती है!

    उत्तर देंहटाएं

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

---------------------------------------------------------

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------