हाशिए पर भविष्य


नया ज्ञानोदय : एक संग्रहणीय विशेषांक

नया ज्ञानोदय का अक्तूबर 2006 का तीन सौ पृष्ठों का संग्रहणीय विशेषांक बच्चों के ऊपर लिखी गई रचनाओं पर केंद्रित है. इस अंक में मेरे द्वारा अनूदित कहानी - "एक कहानी छोटी सी एमी की" पृष्ठ 211 पर प्रकाशित हुई है. यह मार्मिक कहानी रचनाकार के पृष्ठों पर पहले ही आ चुकी है. अगर आपने नहीं पढ़ी हो तो अवश्य पढ़ें. यह कहानी बाद में भास्कर मधुरिमा में भी संक्षिप्त रुप में प्रकाशित हुई थी.

.

.

आज का कार्टून :


विषय:

एक टिप्पणी भेजें

नया ज्ञानोदय में छपी इस अनूदित कहानी को पढ़ूँगा जरूर। इसी अंक में मेरे एक मित्र व सहकर्मी महेन्द्र सिंह की रचना भी छपी है जिसे मैं अपने चिट्ठे पर पुनर्प्रकाशित करने जा रहा हूँ।

रवि भाई

बेहद मार्मिक कथा है और साथ ही बहुत शिक्षाप्रद. दिल भर आया पढ़ते पढ़ते. आपके साभार से इस कहानी तक पहुँचा, बहुत धन्यवाद.

समीर लाल

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

[blogger][facebook]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget