हिंदी कंप्यूटिंग समस्या समाधान हेतु खोजें

आर यू स्टिल ऑन फ़ेसबुक?

साझा करें:

क्या आप अभी भी फ़ेसबुक पर हैं? पांच-छः साल पहले लोग गर्व से कहते थे – आ’यम ऑन फ़ेसबुक. आर यू ऑन फ़ेसबुक? और यदि कोई नहीं होता था फ़ेसबुक में...

image

क्या आप अभी भी फ़ेसबुक पर हैं?

पांच-छः साल पहले लोग गर्व से कहते थे – आ’यम ऑन फ़ेसबुक. आर यू ऑन फ़ेसबुक?

और यदि कोई नहीं होता था फ़ेसबुक में तो, वो अपने आप को तकनीकी रूप से बेहद पिछड़ा, अति पिछड़ा, अति अति पिछड़ा आदि आदि न जाने क्या क्या समझने लगता था.

और, अब मुंह छुपाने का समय आ गया है.


लोग कह रहे हैं – आर यू स्टिल ऑन फ़ेसबुक?


फ़ेसबुक का मेरा परीक्षण (हाँ, यह एक तरह से अभी भी परीक्षण खाता ही है, क्योंकि मैं इसमें सक्रिय कभी भी नहीं रहा) खाता स्व. ओरकुट (RIP) के जमाने से है. और इसकी पॉलिसी मुझे कभी भी रास नहीं आई. पहले पहल तो यह कि कहीँ भी, किसी भी उपकरण में फ़ेसबुक के सार्वजनिक पृष्ठों को भी पढ़ने देखने के लिए आपको एक अदद खाता बनाना पड़ेगा और लॉगिन करना होगा.

फ़ेसबुक पर जो सामग्री लिखी जाती है उसका सर्च इत्यादि से ढूंढ पाना मुश्किल होता है. फ़ेसबुक ने बेहद शातिराना तरीके से सर्च इंजन बनाया है जो कि अपने उपयोगकर्ताओं से पैसे ऐंठ कर अथवा विज्ञापनदाताओं से पैसे वसूल कर उनके मनमाफ़िक सामग्री को सदैव आगे प्रदर्शित करता रहता है. और यही बात अप उसके गले की हड्डी बनती जा रही है.

शायद इसी तरह की घटिया, मगर शातिराना पॉलिसी के कारण, और संभवतः बेहद सरल इंटरफ़ेस और मजमा जमाने (लड़ी दार टिप्पणी करने की बेहतरीन सुविधा) की सुविधा के कारण फ़ेसबुक उत्तरोत्तर लोगों में फैलता भी गया. परंतु घड़ियाल के मुंह में खून लग गया था. उसने अपने उपयोगकर्ताओं के डेटा उचित अनुचित तरीके से उपयोग में लेने भी प्रारंभ कर दिए. नतीजा सामने है.

आर यू स्टिल ऑन फ़ेसबुक?

इफ़ यस, दैन गो बैक टू ब्लॉग, यू फ़ूल! Smile

टिप्पणियाँ

ब्लॉगर: 1
Loading...
.... विज्ञापन ....

-----****-----

-- विज्ञापन --

---

|हिन्दी_$type=blogging$count=8$page=1$va=1$au=0$src=random

-- विज्ञापन --

---

|हास्य-व्यंग्य_$type=complex$count=8$page=1$va=0$au=0$src=random

-- विज्ञापन --

---

|तकनीक_$type=blogging$au=0$count=7$page=1$src=random-posts

नाम

तकनीकी ,1,अनूप शुक्ल,1,आलेख,6,आसपास की कहानियाँ,127,एलो,1,ऐलो,1,गूगल,1,गूगल एल्लो,1,चोरी,4,छींटे और बौछारें,143,छींटें और बौछारें,337,जियो सिम,1,जुगलबंदी,49,तकनीक,40,तकनीकी,683,फ़िशिंग,1,मंजीत ठाकुर,1,मोबाइल,1,रिलायंस जियो,2,रेंसमवेयर,1,विंडोज रेस्क्यू,1,विविध,371,व्यंग्य,508,संस्मरण,1,साइबर अपराध,1,साइबर क्राइम,1,स्पैम,10,स्प्लॉग,2,हास्य,2,हिन्दी,496,hindi,1,
ltr
item
छींटे और बौछारें: आर यू स्टिल ऑन फ़ेसबुक?
आर यू स्टिल ऑन फ़ेसबुक?
https://lh3.googleusercontent.com/-Kj0UAn80W2o/WrTHKRcMAZI/AAAAAAABASk/jU4v24zK7e0Fxpt_fswfn95CN2DbwsdlwCHMYCw/image_thumb?imgmax=800
https://lh3.googleusercontent.com/-Kj0UAn80W2o/WrTHKRcMAZI/AAAAAAABASk/jU4v24zK7e0Fxpt_fswfn95CN2DbwsdlwCHMYCw/s72-c/image_thumb?imgmax=800
छींटे और बौछारें
https://raviratlami.blogspot.com/2018/03/are-you-still-on-facebook.html
https://raviratlami.blogspot.com/
https://raviratlami.blogspot.com/
https://raviratlami.blogspot.com/2018/03/are-you-still-on-facebook.html
true
7370482
UTF-8
सभी पोस्ट लोड किया गया कोई पोस्ट नहीं मिला सभी देखें आगे पढ़ें जवाब दें जवाब रद्द करें मिटाएँ द्वारा मुखपृष्ठ पृष्ठ पोस्ट सभी देखें आपके लिए और रचनाएँ विषय ग्रंथालय खोजें सभी पोस्ट आपके निवेदन से संबंधित कोई पोस्ट नहीं मिला मुख पृष्ठ पर वापस रविवार सोमवार मंगलवार बुधवार गुरूवार शुक्रवार शनिवार रवि सो मं बु गु शु शनि जनवरी फरवरी मार्च अप्रैल मई जून जुलाई अगस्त सितंबर अक्तूबर नवंबर दिसंबर जन फर मार्च अप्रैल मई जून जुला अग सितं अक्तू नवं दिसं अभी अभी 1 मिनट पहले $$1$$ minutes ago 1 घंटा पहले $$1$$ hours ago कल $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago 5 सप्ताह से भी पहले फॉलोअर फॉलो करें यह प्रीमियम सामग्री तालाबंद है चरण 1: साझा करें. चरण 2: ताला खोलने के लिए साझा किए लिंक पर क्लिक करें सभी कोड कॉपी करें सभी कोड चुनें सभी कोड आपके क्लिपबोर्ड में कॉपी हैं कोड / टैक्स्ट कॉपी नहीं किया जा सका. कॉपी करने के लिए [CTRL]+[C] (या Mac पर CMD+C ) कुंजियाँ दबाएँ