हिंदी कंप्यूटिंग समस्या समाधान हेतु खोजें

व्यंग्य जुगलबंदी 49 - बाबागिरी के मरफ़ी के नियम

साझा करें:

(चित्र - साभार - काजल कुमार ) मरफ़ी का नियम हर जगह लागू होता है. बाबागिरी में भी. कुछ नियम ये हैं – · दुनिया में कुछ नहीं बदलता. बाबागिरी भ...

image

(चित्र - साभार - काजल कुमार )

मरफ़ी का नियम हर जगह लागू होता है. बाबागिरी में भी. कुछ नियम ये हैं –

· दुनिया में कुछ नहीं बदलता. बाबागिरी भी नहीं.

· सबसे बड़ा अंधविश्वास है कि, बाबागिरी जैसी कोई चीज नहीं होती.

· किसी भी दिए गए बाबा के सामने दूसरा दिया गया बाबा बड़ा (डेरा या आश्रम वाला) होता है.

· हर बाबा, बाबागिरी को दोहराता है.


· सदैव संभल कर रहें, दिए गए किसी भी आने वाले समय में, और अधिक संख्या में बाबा पैदा होने वाले होते हैं.

· मुस्कुराएँ. कल और अधिक बाबा पैदा होने वाले हैं.

· किसी भी दिए गए बाबे का डेरा (आश्रम) जितना बड़ा होगा, वो बाबा उतना ही अधिक पतित होगा.

· जितना दिखाई देता है, बाबा उससे ज्यादा पतित होता है.


· बाबे के जितने ज्यादा फालोअर (अंधभक्त) होंगे, बाबा उतना ही अधिक पतित होगा.

· बाबा अपने भक्तों की संख्या के अनुपात में पतित होता है.

· दिया गया कोई भी बाबा, अनुमान से अधिक पतित होता है.

· बाबा जितना शांत और निस्पृह बाहर से दिखता है, उतना ही भयभीत, लोभी और अशांत भीतर से होता है.


· बाबा जब अपने प्रवचनों में त्याग की बात करता है तो वो अपने बारे में नहीं कहता होता है.

· बाबा प्रवचन में जो बात कहता है उसका पालन वो स्वयं किसी सूरत नहीं करता.

· लोगों को पता होता है कि बाबाओं के पास जाना गलत है फिर भी वे जाते हैं.

· यदि आप किसी बाबा के प्रवचन सुनकर सोते हैं तो रात्रि में दुःस्वप्न आते ही हैं.


· लोगों को चिरायु और दीर्घायु का आशीर्वाद देने वाले बाबा स्वयं बीमार और अल्पायु होते हैं.

· सभी बाबे एक जैसे होते हैं – बुरे या और, अधिक बुरे

· यदि बाबा द्रव्यमान है तो भक्त गुरुत्वबल है.

· बाबाओं की सुलभता व उपलब्धता उनकी आवश्यकता के व्युत्क्रमानुपाती में होती है.


· जो ऊपर जाता है वह नीचे आता ही है - बाबाओं में भी.

· यदि कहीं बाबा नहीं भी होता है, तो लोग अपने लिए शून्य में से भी एक बाबा बना लेते हैं.

· किसी भी दिए गए बाबे के विरुद्ध एफ़आईआर, कोर्ट-केस, सजा आदि होने के बाद भी, असली भक्तों को बाबा का असली रंगरूप नजर नहीं आता.

· विश्व के महानतम बाबाओं के उत्थान-पतन में मानवीय भूलों का हाथ रहा है – दूसरे मानवों के.


· नए बाबा नई समस्याएँ पैदा करते हैं.

· गलतियाँ करना मनुष्य का स्वभाव है, परंतु ढेरों, सुधारी नहीं जा सकने वाली गलतियों के लिए एक गुरु बाबा की आवश्यकता होती है.

· दुनिया में सब संभव है. बाबागिरी भी.

· बाबा के आशीर्वाद से आपको तमाम तरक्की, सुख सम्पत्ति मिलेगी, परंतु, फिर, पहले, इसके लिए, अपनी अंटी से बाबा के आश्रम में दान करना होगा.


...यूँ और भी नियम हैं. कुछ आपको भी याद आ रहे हों तो कृपया बताएँ !

टिप्पणियाँ

ब्लॉगर
.... विज्ञापन ....

-----****-----

-- विज्ञापन --

---

|हिन्दी_$type=blogging$count=8$page=1$va=1$au=0$src=random

|हास्य-व्यंग्य_$type=complex$count=8$page=1$va=0$au=0$src=random

|तकनीक_$type=blogging$au=0$count=7$page=1$src=random-posts

नाम

तकनीकी ,1,अनूप शुक्ल,1,आलेख,6,आसपास की कहानियाँ,127,एलो,1,ऐलो,1,गूगल,1,गूगल एल्लो,1,चोरी,4,छींटे और बौछारें,142,छींटें और बौछारें,336,जियो सिम,1,जुगलबंदी,49,तकनीक,40,तकनीकी,683,फ़िशिंग,1,मंजीत ठाकुर,1,मोबाइल,1,रिलायंस जियो,2,रेंसमवेयर,1,विंडोज रेस्क्यू,1,विविध,371,व्यंग्य,508,संस्मरण,1,साइबर अपराध,1,साइबर क्राइम,1,स्पैम,10,स्प्लॉग,2,हास्य,2,हिन्दी,496,hindi,1,
ltr
item
छींटे और बौछारें: व्यंग्य जुगलबंदी 49 - बाबागिरी के मरफ़ी के नियम
व्यंग्य जुगलबंदी 49 - बाबागिरी के मरफ़ी के नियम
https://lh3.googleusercontent.com/-LuoZJQgqOO4/WaP--LpnMBI/AAAAAAAA6j4/7ftNcFySoLEi4MEtO5IQukpZ3Wgdi6GkwCHMYCw/image_thumb%255B1%255D?imgmax=800
https://lh3.googleusercontent.com/-LuoZJQgqOO4/WaP--LpnMBI/AAAAAAAA6j4/7ftNcFySoLEi4MEtO5IQukpZ3Wgdi6GkwCHMYCw/s72-c/image_thumb%255B1%255D?imgmax=800
छींटे और बौछारें
https://raviratlami.blogspot.com/2017/08/49.html
https://raviratlami.blogspot.com/
https://raviratlami.blogspot.com/
https://raviratlami.blogspot.com/2017/08/49.html
true
7370482
UTF-8
सभी पोस्ट लोड किया गया कोई पोस्ट नहीं मिला सभी देखें आगे पढ़ें जवाब दें जवाब रद्द करें मिटाएँ द्वारा मुखपृष्ठ पृष्ठ पोस्ट सभी देखें आपके लिए और रचनाएँ विषय ग्रंथालय खोजें सभी पोस्ट आपके निवेदन से संबंधित कोई पोस्ट नहीं मिला मुख पृष्ठ पर वापस रविवार सोमवार मंगलवार बुधवार गुरूवार शुक्रवार शनिवार रवि सो मं बु गु शु शनि जनवरी फरवरी मार्च अप्रैल मई जून जुलाई अगस्त सितंबर अक्तूबर नवंबर दिसंबर जन फर मार्च अप्रैल मई जून जुला अग सितं अक्तू नवं दिसं अभी अभी 1 मिनट पहले $$1$$ minutes ago 1 घंटा पहले $$1$$ hours ago कल $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago 5 सप्ताह से भी पहले फॉलोअर फॉलो करें यह प्रीमियम सामग्री तालाबंद है चरण 1: साझा करें. चरण 2: ताला खोलने के लिए साझा किए लिंक पर क्लिक करें सभी कोड कॉपी करें सभी कोड चुनें सभी कोड आपके क्लिपबोर्ड में कॉपी हैं कोड / टैक्स्ट कॉपी नहीं किया जा सका. कॉपी करने के लिए [CTRL]+[C] (या Mac पर CMD+C ) कुंजियाँ दबाएँ