ब्लॉग : आइए, आचार संहिता को मारें गोली!

SHARE:

एक छोटा सा दूरस्थ प्रस्तुतिकरण जो मैंने वर्धा कार्यशाला में दिया था, वह नीचे एम्बेड है, जिसे चलाकर आप देख सकते हैं. स्लाइड में दिए उपशीर्षको...

एक छोटा सा दूरस्थ प्रस्तुतिकरण जो मैंने वर्धा कार्यशाला में दिया था, वह नीचे एम्बेड है, जिसे चलाकर आप देख सकते हैं. स्लाइड में दिए उपशीर्षकों के जरिए प्रस्तुतिकरण का सारांश आसानी से और बखूबी समझा जा सकता है.

COMMENTS

BLOGGER: 25
  1. मुझे तो गोला बारूद कभी भी पसंद नहीं रहा, वैसे आपकी यह प्रस्तुति बहुत जोरदार थी। हाँ, वर्धा में आपकी कमी अवश्य खली।
    ................
    वर्धा सम्मेलन: कुछ खट्टा, कुछ मीठा।
    ….अब आप अल्पना जी से विज्ञान समाचार सुनिए।

    जवाब देंहटाएं
  2. अच्छी और जरूरी जानकारी के लिए शुक्रिया...एक खास वर्ग के लिए ये बेहद आवश्यक है.

    जवाब देंहटाएं
  3. आपके हुकुम करने की देर थी, हमने उसी समय गोली मार दी थी... :)

    जवाब देंहटाएं
  4. आज आपके बलोग से एक काम की जानकारी और मिल गयी | टोर प्रोजेक्ट ......|

    जवाब देंहटाएं
  5. आपका यह प्रसारण वर्धा संगोष्ठी की चर्चा का मुख्य विषय बनने के साथ-साथ सबके लिए उत्सुकता का भी विषय रहा ...आपका प्रस्तुतीकरण भी शानदार था ...आभार आपका ...

    जवाब देंहटाएं
  6. उपयोगी जानकारी।
    एक प्रश्न:
    बिना टॉर के, यदि कोई बेनामी बनकर ई मेल करना या ब्लोग लिखना चाहता है तो क्या निम्नलिखित युत्कि में कोई कमी हैं?

    १) एक फ़र्जी email ID अपनाओ और समय समय पर उसे बदलते रहो
    २) कई सारे साइबर कैफ़े का प्रयोग करो और बारी बारी से इन साइबर कैफ़े से पोस्ट करो।
    ३)साइबर कैफ़े के रजिस्टर में कभी अपना सही नाम और पता मत लिखना
    ३) कभी अपने कंप्यूटर या लैपटॉप पर पोस्ट की हुई सामगरी की प्रति नहीं रखना।
    ४) इसकी प्रति अपने फ़र्जी email ID के mailbox में ही रखना

    क्या यह एक सुरक्षित तरीका है?

    शुभकामनाएं
    जी विश्वनाथ

    जवाब देंहटाएं
  7. रवि जी,
    आप लखनऊ आये और मैं महाराष्ट्र की यात्रा से इसी दिन लौटा था मुलाक़ात नहीं हो सकी ....फिर सोचा वर्धा में मुलाक़ात होगी किन्तु दुर्भाग्यवश मिलाने का सुयोग न बन सका, वैसे आपकी कमी बहुत खली वर्धा में ! आपकी प्रस्तुति ने न केवल आपके वहां होने का एहसास करा दिया वल्कि आपकी सार्थक उपस्थिति की मुहर भी लगा दी ! अच्छी लगी आपकी प्रस्तुति, आपका आभार !

    जवाब देंहटाएं
  8. गोली मार... ,भेजा शोर करता है।

    जवाब देंहटाएं
  9. जी सही कहा, हम तो छूटते ही गोली मार दिये थे…
    हालांकि आपका प्रस्तुतीकरण देखने का सौभाग्य मुझे नहीं मिला, क्योंकि ट्रेन का समय हो रहा था…

    अलबत्ता मेरी तरफ़ से एक और अन्तिम गोली बेंगाणी जी ने भी आते-आते मारी थी… :)

    जवाब देंहटाएं
  10. आपने अच्‍छी जानकारी दी। मुझे लगता है,मेरे कुछ मित्र आपके अत्‍यधिक आभारी रहेंगे।

    जवाब देंहटाएं
  11. जी. विश्वनाथ जी,
    आपके सुझाए गए तरीके पूरी तरह सुरक्षित नहीं हैं. इन युक्तियों के प्रयोग से व्यक्ति की पहचान जाहिर होने व उसके पकड़े जाने का खतरा तो कुछ न कुछ बना ही रहता है, भले ही वो अत्यल्प हो. जबकि यदि आप टॉर जैसी युक्ति का प्रयोग करते हैं तो यह खतरा इसलिए नहीं रहता क्योंकि इसमें आईपी ट्रैकिंग जैसी संभावना है ही नहीं. और सुरक्षा के पूरे और पुख्ता इंतजाम हैं.

    जवाब देंहटाएं
  12. रवीन्द्र प्रभात जी,
    मुझे भी अफसोस था वहाँ न पहुँचपाने का. आशा करता हूँ जल्द ही आपसे मुलाकात होगी.

    जवाब देंहटाएं
  13. मरी हुई आचार संहिता में गोली मारना न तो समझदारी है न वीरता !

    जवाब देंहटाएं
  14. aapke is prastutikaran ko warddha me baithkar dekha aur phone par suna ... lekin abh yaha dekhaa to bhaai vivek ka comment ekdam mast lagaa,
    khair,
    jo sawal mann me aaye vo ye ki,

    kya ho agar koi tor ka prayog karte hue kisi ke upar mangadhant kuchh bhi kah de, tab?

    koi rasta use pakadne ka?

    jab ham anaitik/naitik dono paksha pratust karne kaa ek aur rastaa banaa rahe ho tab anaitik wale ko pakadne ka upaay?

    kynki jaisa ki aapne apne prastutikaran me torrent downloading ka udaharan diya tha us sandarbh me hi puchh rahaa hu ki downloading aur blog me kisi ke sandarbh me kuchh bhi likh dene me kaafi antar hai.....mujhe agyaani ka maargdarshan karein...

    जवाब देंहटाएं
  15. स्लाइड शो देख के मज़ा आया.

    जवाब देंहटाएं
  16. है कहाँ आचार सहिंता..

    जवाब देंहटाएं
  17. विवेक सिंह से सहमत |
    मृत आचार संहिता में गोली मरना गोली और समय दोनों जाया करना समान है |

    जवाब देंहटाएं
  18. आपका यह स्टाइल तो बहुते बढ़िया लगा !!!!!!!!!!!!

    जवाब देंहटाएं
  19. संजीत भाई,
    विवेक की टिप्पणी तो सदैव की तरह व्यंग्य है :)
    बाकी सवाल आपका तो टॉर उन लोगों के लिए है जो शासन, कुशासन, स्थानीय माफिया और बाहुबली के भ्रष्ट तंत्र के विरूद्ध प्रभावी सीटी बजाने के लिए अपनी खुद की पूरी सुरक्षा करते हुए काम में लेते हैं, नहीं तो उनका भी हश्र अनिरूद्ध बहल और आलोक तोमर (सोचिए कि जब ये बड़े पत्रकार हैं, और सीटी बजाने पर इनके विरूद्ध ही मुकदमा ठोंक दिया गया तो अदना ब्लॉगर का क्या हाल होगा)की तरह हो जाएगा.
    और, किसी भी तंत्र के सु-और-कु-प्रयोग के उदाहरण तो होते ही हैं. आग, आग लगाती भी है, और आपके लिए खाना भी पकाती है. आपके ऊपर है कि आप उसका अपने लिए क्या कैसे प्रयोग में लाते हैं. :)

    जवाब देंहटाएं
  20. विवेक जी,
    सिर्फ शीर्षक पे न जाओ यारों!

    जवाब देंहटाएं
  21. The link is broken

    http://www.slideshare.net/raviratlami/blogging-ethics-5441971

    Sorry! We could not find what you were looking for :(

    -Arun Jain

    जवाब देंहटाएं
  22. गुरुजी ..बढ़िया पोस्ट

    Tor के अलावा...सबसे सरल Ultrasurf है, या फिर फ्री VPN Services जैसे Hotspot Shield आदि | Tor कुछ ज्यादा ही स्लो था |

    जवाब देंहटाएं
  23. बहुत अच्छि जानकारी धन्यवाद रवि जी

    जवाब देंहटाएं
आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

नाम

तकनीकी ,1,अनूप शुक्ल,1,आलेख,6,आसपास की कहानियाँ,127,एलो,1,ऐलो,1,कहानी,1,गूगल,1,गूगल एल्लो,1,चोरी,4,छींटे और बौछारें,146,छींटें और बौछारें,340,जियो सिम,1,जुगलबंदी,49,तकनीक,52,तकनीकी,701,फ़िशिंग,1,मंजीत ठाकुर,1,मोबाइल,1,रिलायंस जियो,2,रेंसमवेयर,1,विंडोज रेस्क्यू,1,विविध,380,व्यंग्य,513,संस्मरण,1,साइबर अपराध,1,साइबर क्राइम,1,स्पैम,10,स्प्लॉग,2,हास्य,2,हिंदी,2,हिन्दी,508,hindi,1,
ltr
item
छींटे और बौछारें: ब्लॉग : आइए, आचार संहिता को मारें गोली!
ब्लॉग : आइए, आचार संहिता को मारें गोली!
छींटे और बौछारें
https://raviratlami.blogspot.com/2010/10/blog-post_14.html
https://raviratlami.blogspot.com/
https://raviratlami.blogspot.com/
https://raviratlami.blogspot.com/2010/10/blog-post_14.html
true
7370482
UTF-8
Loaded All Posts Not found any posts VIEW ALL Readmore Reply Cancel reply Delete By Home PAGES POSTS View All RECOMMENDED FOR YOU LABEL ARCHIVE SEARCH ALL POSTS Not found any post match with your request Back Home Sunday Monday Tuesday Wednesday Thursday Friday Saturday Sun Mon Tue Wed Thu Fri Sat January February March April May June July August September October November December Jan Feb Mar Apr May Jun Jul Aug Sep Oct Nov Dec just now 1 minute ago $$1$$ minutes ago 1 hour ago $$1$$ hours ago Yesterday $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago more than 5 weeks ago Followers Follow THIS PREMIUM CONTENT IS LOCKED STEP 1: Share to a social network STEP 2: Click the link on your social network Copy All Code Select All Code All codes were copied to your clipboard Can not copy the codes / texts, please press [CTRL]+[C] (or CMD+C with Mac) to copy Table of Content