हिंदी कंप्यूटिंग समस्या समाधान हेतु खोजें

चिट्ठाजगत्.कॉम : भाषाई दीवारों को तोड़ने की एक और नायाब कोशिश

साझा करें:

अंग्रेजी की किसी भी प्रविष्टि को आज आप कम्प्यूटर तकनॉलाजी के जरिए दर्जनों अन्य भाषाओं जिनमें चीनी और अरबी भी शामिल है, में त्वरित और तत्काल...

clip_image002

अंग्रेजी की किसी भी प्रविष्टि को आज आप कम्प्यूटर तकनॉलाजी के जरिए दर्जनों अन्य भाषाओं जिनमें चीनी और अरबी भी शामिल है, में त्वरित और तत्काल परिवर्तन (पढ़ें, अनुवाद), सिर्फ और सिर्फ एक क्लिक से कर सकते हैं. याहू के बेबल फिश और गूगल के औजार तो थे ही, माइक्रोसॉफ़्ट ने कुछ इसी तरह का एक नया लाइव ट्रांसलेटर औजार अभी हाल ही में जारी किया है. संभवतः निकट के कुछ वर्षों में ही हम अंग्रेजी से हिन्दी और हिन्दी से अंग्रेजी भाषा में सिर्फ एक क्लिक से संपूर्ण अनुवाद जैसी कम्यूटिंग सेवाओं की सहायता धड़ल्ले से लेने लगेंगे. जनसंचार की भाषाई दीवार को कम्प्यूटर तकनॉलाजी ने एक तरह से ध्वस्त कर दिया है.

भोमियो के जरिए हमारे ब्लॉगों को अंग्रेजी (रोमन) समेत आधे दर्जन से अधिक अन्य भारतीय भाषाओं की लिपि में पहले ही पढ़ा जा रहा था. चिट्ठाजगत् चिट्ठा संकलक ने इसमें एक और नया आयाम जोड़ा है.

चिट्ठाजगत्.कॉम के जरिए हिन्दी के समस्त चिट्ठे आसान, पठन-पाठन योग्य रोमन हिन्दी में पढ़े जा सकेंगे. इसका रोमन लिप्यांतरण भोमियो की तुलना में ज्यादा सरल और बेहतर प्रतीत होता है. अब आपके लिखे हिन्दी चिट्ठों को दुनिया के उन तमाम पाठकों तक पहुँचने की गारंटी हो गई है जो हिन्दी बोली को समझ तो लेते हैं, परंतु हिन्दी लिपि को पढ़ना उनके लिए असंभव सा कार्य होता है. कहने का अर्थ यही कि मेरा तेलुगु दोस्त जो मुम्बईया फ़िल्म के गाने व डायलॉग तो बखूबी समझ लेता है, परंतु उन्हें हिन्दी में पढ़ नहीं सकता, अब वो भी चिट्ठाजगत्.कॉम के जरिए, रोमन हिन्दी में आराम से पढ़ सकता है, और उनके मजे ले सकता है. अब ये बात जुदा है कि व्यक्तिगत तौर पर रोमन हिन्दी में लिखा मुझे बिलकुल नहीं सुहाता. परंतु फिर, यदि मैं तेलुगु भाषी होता तो संता बंता के हिन्दी चुटकुले रोमन हिन्दी में पढ़कर मजे अवश्य लेता. और शायद इसीलिए, करोड़ों हिन्दी एसएमएस की आज की सर्वाधिक प्रचलित भाषा रोमन हिन्दी ही है.

कुछ अतिरेकी विचारधारी लोगों को चिट्ठाजगत्.कॉम के इस महान कार्य से 180 अंश की असहमति हो सकती है, परंतु यकीन मानिए, इंटरनेट पर हिन्दी भाषा, हिन्दी सामग्री और हिन्दी चिट्ठाकारों की बेहतरी के लिए यह सुविधा एक और वरदान की तरह ही होगी. और, जैसा कि शास्त्री जी ने अपने चिट्ठे पर लिखा है – 80 प्रतिशत पाठक इस नए जरिए से पहुँचेंगे, तो संभवतः ये बात कुछ हद तक कटु-सत्य भी हो सकती है – जब तक कि हर उपलब्ध कम्प्यूटर पर बाइ डिफ़ॉल्ट देवनागरी हिन्दी की सुविधा मिल नहीं जाती.

चिट्ठाजगत्.कॉम के इस प्रयास का स्वागत और उनके नए नायाब प्रयासों को नमन्.

----------

टिप्पणियाँ

ब्लॉगर: 5
Loading...
.... विज्ञापन ....

-----****-----

-- विज्ञापन --

---

|हिन्दी_$type=blogging$count=8$page=1$va=1$au=0$src=random

|हास्य-व्यंग्य_$type=complex$count=8$page=1$va=0$au=0$src=random

|तकनीक_$type=blogging$au=0$count=7$page=1$src=random-posts

नाम

तकनीकी ,1,अनूप शुक्ल,1,आलेख,6,आसपास की कहानियाँ,127,एलो,1,ऐलो,1,गूगल,1,गूगल एल्लो,1,चोरी,4,छींटे और बौछारें,142,छींटें और बौछारें,336,जियो सिम,1,जुगलबंदी,49,तकनीक,39,तकनीकी,682,फ़िशिंग,1,मंजीत ठाकुर,1,मोबाइल,1,रिलायंस जियो,2,रेंसमवेयर,1,विंडोज रेस्क्यू,1,विविध,370,व्यंग्य,508,संस्मरण,1,साइबर अपराध,1,साइबर क्राइम,1,स्पैम,10,स्प्लॉग,2,हास्य,2,हिन्दी,495,hindi,1,
ltr
item
छींटे और बौछारें: चिट्ठाजगत्.कॉम : भाषाई दीवारों को तोड़ने की एक और नायाब कोशिश
चिट्ठाजगत्.कॉम : भाषाई दीवारों को तोड़ने की एक और नायाब कोशिश
http://lh4.google.com/raviratlami/Rv-Lw_1ZCQI/AAAAAAAABhY/9InCD6btE6A/clip_image002_thumb%5B1%5D.jpg
http://lh4.google.com/raviratlami/Rv-Lw_1ZCQI/AAAAAAAABhY/9InCD6btE6A/s72-c/clip_image002_thumb%5B1%5D.jpg
छींटे और बौछारें
https://raviratlami.blogspot.com/2007/09/blog-post_30.html
https://raviratlami.blogspot.com/
https://raviratlami.blogspot.com/
https://raviratlami.blogspot.com/2007/09/blog-post_30.html
true
7370482
UTF-8
सभी पोस्ट लोड किया गया कोई पोस्ट नहीं मिला सभी देखें आगे पढ़ें जवाब दें जवाब रद्द करें मिटाएँ द्वारा मुखपृष्ठ पृष्ठ पोस्ट सभी देखें आपके लिए और रचनाएँ विषय ग्रंथालय खोजें सभी पोस्ट आपके निवेदन से संबंधित कोई पोस्ट नहीं मिला मुख पृष्ठ पर वापस रविवार सोमवार मंगलवार बुधवार गुरूवार शुक्रवार शनिवार रवि सो मं बु गु शु शनि जनवरी फरवरी मार्च अप्रैल मई जून जुलाई अगस्त सितंबर अक्तूबर नवंबर दिसंबर जन फर मार्च अप्रैल मई जून जुला अग सितं अक्तू नवं दिसं अभी अभी 1 मिनट पहले $$1$$ minutes ago 1 घंटा पहले $$1$$ hours ago कल $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago 5 सप्ताह से भी पहले फॉलोअर फॉलो करें यह प्रीमियम सामग्री तालाबंद है चरण 1: साझा करें. चरण 2: ताला खोलने के लिए साझा किए लिंक पर क्लिक करें सभी कोड कॉपी करें सभी कोड चुनें सभी कोड आपके क्लिपबोर्ड में कॉपी हैं कोड / टैक्स्ट कॉपी नहीं किया जा सका. कॉपी करने के लिए [CTRL]+[C] (या Mac पर CMD+C ) कुंजियाँ दबाएँ