मंगलवार, 7 जून 2016

एमएलएम ऐप्प से जरा बचके!

ऐसा हो नहीं सकता कि आज का, वर्तमान का कोई बंदा एमएलएम - यानी मल्टीलेवल मार्केटिंग के चक्कर में न फंसे. और, फंसे क्यों न? ये मार्केटियर एक से एक नायाब फंडे जुगाड़ते हैं चारा फेंकने को. इंटरनेट पर कई स्कीमें बाबा आदम के जमाने से चलती चली आ रही हैं, नई आती हैं पुरानी बंद होती हैं, लोग अपना पॉकेट जला लेते हैं एक दूसरे को आगाह करते हैं मगर फिर ट्रैप में फंस जाते हैं.

अब एमएलएम के तो ऐप्प भी बन गए हैं. पता नहीं कैसे और क्यों ये ऐप्प प्ले स्टोर में स्वीकार कर लिए गये हैं! ऐसे ऐप्प कहीं आपको भी दिखें तो दुर्व्यवहार की रिपोर्ट करें.

एक ऐसे ही ऐप्प का विज्ञापन इस ब्लॉग के एक पोस्ट में टिप्पणी के रूप में आया. आप भी देखें और सम्भल जाएं!

 

image

2 टिप्पणियाँ./ अपनी प्रतिक्रिया लिखें:

  1. आपकी ब्लॉग पोस्ट को आज की ब्लॉग बुलेटिन प्रस्तुति ब्लॉग बुलेटिन - चार विभूतियों की पुण्यतिथि में शामिल किया गया है। सादर ... अभिनन्दन।।

    उत्तर देंहटाएं
  2. जागरूक करती आपकी पोस्ट से महत्वपूर्ण जानकारी मिली।

    उत्तर देंहटाएं

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

----

नया! छींटे और बौछारें का आनंद अपने स्मार्टफ़ोन पर बेहतर तरीके से लें. गूगल प्ले स्टोर से छींटे और बौछारें एंड्रायड ऐप्प image इंस्टाल करें. ---