रविवार, 3 जनवरी 2016

फ़ेसबुक फ्रीबेसिक्स - तेरी तो वाट लग गई!

और, हमारे अपने भले के लिए.

image

धीरे से ही सही, प्रिंट मीडिया ने अब फ़ेसबुकिया  फ्रीबेसिक्स की पोल खोलनी शुरू कर दी है.

टीवी पर तथा दो दो पेज के सेंटर स्प्रेड के भारी भरकम विज्ञापन के दम पर फ़ेसबुक ने ये दांव खेला था कि मीडिया फ्रीबेसिक्स के विरुद्ध कुछ कहेगा लिखेगा नहीं, और शुरू में लग भी रहा था, मगर अंततः मीडिया मालिकों और संपादकों की अंतः प्रेरणा रंग लाई और अब वे फ़ेसबुक फ्रीबेसिक्स की पोल खोल रहे हैं और वो भी जम कर.

उम्मीद करें कि अब ट्राई को भी अकल आए, बेवजह ऑनलाइन राय न मांगे, और भारत में फ्रीबेसिक्स कभी भी लागू नहीं करे.

0 टिप्पणियाँ./ अपनी प्रतिक्रिया लिखें

एक टिप्पणी भेजें

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

----

नया! छींटे और बौछारें का आनंद अपने स्मार्टफ़ोन पर बेहतर तरीके से लें. गूगल प्ले स्टोर से छींटे और बौछारें एंड्रायड ऐप्प image इंस्टाल करें. ---