शुक्रवार, 18 जुलाई 2014

12,06,53,161 बार देखा गया!

बारह करोड़ छः लाख तिरपन हजार एक सौ इकसठ बार देखा गया!

आप पूछेंगे कि क्या?

तो यह यू-ट्यूब का कोई वायरल वीडियो नहीं है. और न ही कोई मनोरंजक ट्वीट.

यह मेरे गूगल+ प्रोफ़ाइल को देखे जाने का आंकड़ा है.

झटका लगा ना?

यूं ही जब कुछ विचरण कर रहा था तो इस आंकड़े को देख कर मुझे भी तगड़ा झटका लगा था!

 

नीचे का चित्र देखें -

image

 

और, यदि पुष्टि करना चाहें तो मेरे गूगल+ प्रोफ़ाइल के पृष्ठ के लिंक पर जाएं . पर, वहां जाकर आप इन आंकड़ों में वृद्धि ही करेंगे!

 

3 ख़ान + रोशन + कुमार के संयुक्त आंकड़ों से भी संभवतः अधिक!

परंतु लोगों को किसी के प्रोफ़ाइल में इतनी अधिक दिलचस्पी क्यों होगी भला? हाँ, बॉट्स (स्वचालित कंप्यूटर प्रोग्राम जो पेज को बार बार लोड / रीफ़्रेश करते रहते हैं) की करतूत यह ज्यादा लगती है.

 

जो भी हो, असल बात तो गूगल बाबा ही बता सकते हैं. पर, उनसे पूछे कौन?

9 blogger-facebook:

  1. अरे तो इसमें तो आपको मिठाई बाँटनी चाहिये एक लड्डू हमारे हाथ भी आयेगा :)

    उत्तर देंहटाएं
  2. रोचक !! वैसे अधिकाँश हिन्दी ब्लॉगरों के गूगल प्लस अकाउंट के प्रोफाइल के व्यूज उनके ब्लॉग के कुल पृष्ठदृश्य से ज्यादा ही है। सादर।।

    नई कड़ियाँ :- हिन्दी चिट्ठाकारों (ब्लॉगरों) के लिए आ रहा है गूगल एडसेंस Google Adsense !!

    उत्तर देंहटाएं
  3. बधाई हो - कितने महत्वपूर्ण हैं आप ,फिर भी हम लोगों के साथ -हम लोग धन्य हुए !

    उत्तर देंहटाएं
  4. अतुल्य योगदान है आपका...बधाईयाँ...

    उत्तर देंहटाएं
  5. उत्तर
    1. सचमुच, वाह क्या बात है - कल से (एक दिन में) आंकड़े में 20 हजार की और वृद्धि हो गई है! ये तो शर्तिया किसी बॉट की कारस्तानी लगती है, परंतु गूगल बाबा पकड़ क्यों नहीं पा रहे ये नहीं पता :)

      हटाएं
  6. आपके बारह करोड़ में हमें तो पूरा भरोसा है। जन हम जैसे के भी दो करोड़ दिखाए तो आप भला क्यूँ पछ्ताएं?


    हा हा हा
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. पर, यही तो समस्या है. ये बारह करोड़ इस ब्लॉग के पृष्ठ दृश्य के होते तो मामला कुछ और हो जाता!

      हटाएं

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

---------------------------------------------------------

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------