बुधवार, 14 अगस्त 2013

हिंदी के कवियों! जरा मात्रा गिनकर तो कविता करो!!!

अब अगर मैं अधिकार से हिंदी कवियों को ललकार रहा हूँ तो इसकी कोई वजह है.

वजह यह है कि अब हिंदी के कवि अपनी कविताओं में मात्रा गिनने का श्रमसाध्य काम कंप्यूटर के भरोसे छोड़ सकते हैं.

जी हाँ, हिंदी के कवियों! आपकी सुविधा के लिए गीत-गतिरूप नामक एक ऑनलाइन औजार अब आ गया है जो आपकी कविताओं में मात्रा को एक क्लिक पर गिन कर दे देगा. तो यदि आपकी कविता की दो पंक्तियों के बीच कुल मात्राओं में कुछ फर्क नजर आए, तो आप उनमें सुधार कर लें.

हाँ, यदि आप मात्रा-हीन, छंद-हीन, नियम-हीन कविता करने वाले कवि हैं, तो फिर यह आपके किसी काम का नहीं.

आप इस औजार को सीधे इस लिंक http://manaskriti.com/vis/hindi-poem-vis/  पर क्लिक कर उपयोग कर सकते हैं.

उदाहरण के लिए मेरी दो पंक्तियों की इस अर्थहीन तुकबंदी को देखें -

मेरा कोई खयाल नहीं है
तुझसे तो ये सवाल नहीं है

इसे उक्त ऑनलाइन औजार पर मात्रा गणना के लिए विंडो में कॉपी-पेस्ट किया गया और वहाँ दिए विजुअलाइज बटन को क्लिक किया गया तो आउटपुट यह प्राप्त हुआ -

image

वाह! मेरी तुकबंदी में दोनों पंक्तियों में 17-17 मात्राएं. यानी यह बढ़िया कविता है. यदि मात्राएं 16-16 हो जाती तो क्या ये बढ़िया चौपाई न हो जाती? और, यदि इन मात्राओं को बढ़ाकर मैं 24-24 कर लूं, तो बढ़िया दोहा नहीं बन जाएगा?

गीत-गतिरूप के बारे में और जानने-समझने के लिए इस लिंक http://www.kaavyaalaya.org/hindipoetrystructure2a.shtml  को देखें.

28 टिप्पणियाँ./ अपनी प्रतिक्रिया लिखें:

  1. मन ने हमको बहुत सताया,
    हम भी साथ रहे पर मन से।

    १६, १६ निकली यह तो।

    उत्तर देंहटाएं
  2. आदरणीय रवि जी ! इस उपयोगी औजार की दक्षता से अलावा मेरी प्रतीति में तो भावों की अभिव्यक्ति ही सही है, गीत और कविता छंद बद्ध हो सकते हैं. परन्तु यदि अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता बाधित हो तो क्यूँ न रीति से अनुमति प्राप्त कर लिखा जाये ? ऐसी किसी रचना को लिख चुकने पर यद्यपि कोई भी एवं किसी भी भांति की युक्त प्रतिक्रिया प्राप्त नहीं होती पर मन से संतोषोदगार जतला देते हैं कि रीति की भित्ति से परे इस कल्पना को शब्दों में जता पाए.

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपकी यह पोस्ट आज के (१४ अगस्त, २०१३) ब्लॉग बुलेटिन - जय हो मंगलमय हो पर प्रस्तुत की जा रही है | बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाह बहुत उपयोगी ज्ञान ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. ये तो बढिया काम का हथियार है.

    स्वतन्त्रता दिवस की हार्दिक शुभ कामनाएँ.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  6. इस पर तो एक व्यंजल बनता है.

    उत्तर देंहटाएं
  7. उपयोगी औजार। आभार।। 66वें स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ। जय हिंद।।

    नये लेख : 66वें स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ।

    ब्लॉग या वेबसाइट से कमाई के लिए AdsOpedia का उपयोग कैसे करें?

    उत्तर देंहटाएं
  8. कविता न हुई गणित हो गया. :)

    उत्तर देंहटाएं
  9. वाह! क्या सुविधा है।

    उत्तर देंहटाएं
  10. सुन्दर...स्वतन्त्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ...

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत रोचक। अपनी एक कविता इस सॉफ्टवेयर पर जाँची। बहुत मज़ा आया। दिन सफल हुआ। धन्यवाद और आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  12. क्या बात है कम्प्यूटर बेहतर कविता करेगें!

    उत्तर देंहटाएं
  13. हाथ कंगन को आरसी क्या -आज ही लिखी कविता को जाकर जांचता हूँ !

    उत्तर देंहटाएं
  14. वाह! मशीन ने भी कविता पढी!!

    उत्तर देंहटाएं
  15. अरे बहुत बढ़िया...अभी देखती हूँ...
    अब तो भीड़ लग जायेगी कवियों शायरों की :-)

    आभार
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  16. kuchh ham jaise tukbandi karne walo ko bhi seekhne ko meelega... wah :)

    उत्तर देंहटाएं
  17. ham jaise tukbandi master ke liye kuchh seekhne layak :)
    dhanyawad..

    उत्तर देंहटाएं
  18. उपयोगी ज्ञान आभार

    उत्तर देंहटाएं
  19. बहुत अच्‍छा । कविता के क्षेत्र में प्रवेश करने वाले कवियों के लिये साथ ही नौसिखियों का हौंसला भी बढायेगा ।

    उत्तर देंहटाएं
  20. हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल {चर्चामंच} के शुभारंभ पर आप को आमंत्रित किया जाता है। कृपया पधारें!!! आपके विचार मेरे लिए "अमोल" होंगें | आपके नकारत्मक व सकारत्मक विचारों का स्वागत किया जायेगा |

    उत्तर देंहटाएं
  21. बहुत सुन्दर प्रस्तुति.. हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल {चर्चामंच} के शुभारंभ पर आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी पोस्ट को हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल में शामिल किया गया है और आप की इस प्रविष्टि की चर्चा {रविवार} (25-08-2013) को हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल {चर्चामंच} पर की जाएगी, ताकि अधिक से अधिक लोग आपकी रचना पढ़ सकें। कृपया पधारें, आपके विचार मेरे लिए "अमोल" होंगें | आपके नकारत्मक व सकारत्मक विचारों का स्वागत किया जायेगा | सादर .... Lalit Chahar

    उत्तर देंहटाएं
  22. बहुत उत्कृष्ट अभिव्यक्ति..श्री कृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक बधाई और शुभकामनायें!
    कभी यहाँ भी पधारें
    http://saxenamadanmohan.blogspot.in/
    http://saxenamadanmohan1969.blogspot.in/

    उत्तर देंहटाएं
  23. बहुत उपयोगी एवं ज्ञान वर्धक लेख है रवि जी,

    क्या ऐसी ही कोई विधि ग़ज़ल या नज़्म की मात्राएँ गिनने के लिए भी है???

    उत्तर देंहटाएं
  24. बहुत अच्छी कविता है। ये बता दे कि मात्राऒ में कितने तक कि हेर फ़ेर क्षम्य है। क्या 32 और 34 तक का हेर फ़ेर सही माना जाता है।

    उत्तर देंहटाएं

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

----

नया! छींटे और बौछारें का आनंद अपने स्मार्टफ़ोन पर बेहतर तरीके से लें. गूगल प्ले स्टोर से छींटे और बौछारें एंड्रायड ऐप्प image इंस्टाल करें. ---