आसपास की कहानियाँ ||  छींटें और बौछारें ||  तकनीकी ||  विविध ||  व्यंग्य ||  हिन्दी || 2000+ तकनीकी और हास्य-व्यंग्य रचनाएँ -

कांग्रेस का पीएम बन नहीं सकता और बीजेपी का मैं बनने नहीं दूंगा...

image

बीजेपी का पीएम बनने के ख्वाब देखने का अधिकार तो सिर्फ मेरा और सिर्फ मेरा है!

 

व्यंज़ल

 

दूसरे की थाली में ज्यादा माल

किसी सूरत मैं ये होने नहीं दूंगा

 

मेरे सामने किसी और का फंडा

शर्तिया ये मैं चलने नहीं दूंगा

 

इस हमाम में सिर्फ मेरी धुलेगी

किसी और को धोने नहीं दूंगा

 

मुल्क मेरी विरासत है इसलिए

बाकियों को मैं हगने नहीं दूंगा

 

जब व्यंज़लों की बात हो  रवि

किसी और को जमने नहीं दूंगा

--

टिप्पणियाँ

  1. हाहाहा.. बढ़िया..
    ये आपस में ही मर मिटेंगे...

    उत्तर देंहटाएं
  2. ठीक है जी, गजब दबंगाई से लिखा गया है :) काहे टिप्पणी कर पंगा लें.

    वैसे नितिश और केजरीवाल के मन में लड्डू फूटे है. एक रूपये में दो मिलते है :)

    उत्तर देंहटाएं
  3. बड़ी गम्भीर समस्या है यह तो।

    उत्तर देंहटाएं
  4. बेनामी8:28 pm

    O HO RE TAL MILE NADI KE JAL ME
    NADI MILE SAGAR MILE KOUNSE JAL ME
    KOI JAANE NA .
    UDAY TAMHANE
    BHOPAL

    उत्तर देंहटाएं
  5. सत्‍तालोभ सा कुछ भी नहीं

    उत्तर देंहटाएं
  6. मज़ेदार लिखा है रविजी.

    'ठाकरे' साहब के अरमान भी सुन लीजीये:

    http://mansooralihashmi.blogspot.in/2010/02/mhhashmis-scrapbook-tubely-100-free.html#comment-form

    ठेकेदार !

    बिन बुलाया कोई मेहमान न चलने दूँगा,
    पाक-ओ-कंगारू है बयमान न चलने दूँगा.

    मैं किसी और की दूकान न चलने दूँगा,
    नाम में जिसके जुड़े खान न चलने दूँगा.

    याँ जो रहना है वडा-पाँव ही खाना होगा!
    इडली-डोसा, पूरबी-पकवान; न चलने दूँगा.

    घाटी लोगों की जमाअत का भी सरदार हूँ मैं,
    पाटी वालो का हो अपमान! न चलने दूँगा.

    सिंह सी हुंकार भरू; शेर ही आसन है मैरा,
    कोई 'ललूआ' बने यजमान, न चलने दूँगा.

    इकड़े-तिकड़े जो न सीखोगे; तो ऐसी-तैसी!
    बोले 'मानुस' को जो इंसान* न चलने दूँगा.

    मैरे अपने को मिले 'राज'; चला लूंगा मगर,
    'रोमी' पाए कोई सम्मान! न चलने दूँगा.

    valentine पे करो प्यार तो पूछो मुझसे,
    love में किस करने का अरमान न चलने दूँगा.

    'प्यार के दिन'* पे पिटाई की परिपाटी है!,
    'तितलियाँ फूल पे क़ुर्बान' न चलने दूँगा.

    यह जो 'ठेका' है मैरे नाम का हिस्सा ही तो है,
    मै किसी और का फरमान! न चलने दूँगा.

    'सामना' कर नहीं पाओ तो दिखाना 'झंडे',
    घर मैरा! ग़ैर हो सुलतान, न चलने दूँगा.

    बिन-ब्याहों* को सियासत में न लाना लोगों,
    'मन विकारों से परेशान'*, न चलने दूँगा.

    रोक दो! शायरी; बकवास नहीं सुनता मैं,
    'कोंडके'* सा न हो गुण-गान, न चलने दूँगा.

    इंसान=अमराठी भाषी शब्द,
    प्यार का दिन=valentine day,
    बिन-ब्याहे=अटल,मोदी,माया,उमा,
    राहुल....
    मन विकारों से परेशान= frustrated.

    -मंसूर अली हाशमी

    उत्तर देंहटाएं
  7. ठेकेदार !

    बिन बुलाया कोई मेहमान न चलने दूँगा,
    पाक-ओ-कंगारू है बयमान न चलने दूँगा.

    मैं किसी और की दूकान न चलने दूँगा,
    नाम में जिसके जुड़े खान न चलने दूँगा.

    याँ जो रहना है वडा-पाँव ही खाना होगा!
    इडली-डोसा, पूरबी-पकवान; न चलने दूँगा.

    घाटी लोगों की जमाअत का भी सरदार हूँ मैं,
    पाटी वालो का हो अपमान! न चलने दूँगा.

    सिंह सी हुंकार भरू; शेर ही आसन है मैरा,
    कोई 'ललूआ' बने यजमान, न चलने दूँगा.

    इकड़े-तिकड़े जो न सीखोगे; तो ऐसी-तैसी!
    बोले 'मानुस' को जो इंसान* न चलने दूँगा.

    मैरे अपने को मिले 'राज'; चला लूंगा मगर,
    'रोमी' पाए कोई सम्मान! न चलने दूँगा.

    valentine पे करो प्यार तो पूछो मुझसे,
    love में किस करने का अरमान न चलने दूँगा.

    'प्यार के दिन'* पे पिटाई की परिपाटी है!,
    'तितलियाँ फूल पे क़ुर्बान' न चलने दूँगा.

    यह जो 'ठेका' है मैरे नाम का हिस्सा ही तो है,
    मै किसी और का फरमान! न चलने दूँगा.

    'सामना' कर नहीं पाओ तो दिखाना 'झंडे',
    घर मैरा! ग़ैर हो सुलतान, न चलने दूँगा.

    बिन-ब्याहों* को सियासत में न लाना लोगों,
    'मन विकारों से परेशान'*, न चलने दूँगा.

    रोक दो! शायरी; बकवास नहीं सुनता मैं,
    'कोंडके'* सा न हो गुण-गान, न चलने दूँगा.

    इंसान=अमराठी भाषी शब्द,
    प्यार का दिन=valentine day,
    बिन-ब्याहे=अटल,मोदी,माया,उमा,
    राहुल....
    मन विकारों से परेशान= frustrated.

    -मंसूर अली हाशमी

    उत्तर देंहटाएं
  8. आदरणीय़ आडवाणी जी को अब ससम्मान सेवा निवृत्त हो जाने के बारे में विचार मम्थन करना चाहिए। अटल बिहारी वाजपेयी जी के पीछे-पीछे चलने का अभ्यास तो है ही।

    उत्तर देंहटाएं
  9. सूझती हैं जो बातें मुझे
    किसी और को सूझने नहीं दूँगा।

    वाह! वाह! गुरुजी। क्‍या कहने?

    उत्तर देंहटाएं
  10. मुझे इस कथन से तिटाही कि कथा याद आ गई .ऐसी महानता भरी बातों के लिए कुछ लाइन
    पैर के निचे
    धरती
    सर के ऊपर
    आसमान
    फिर तू कैसे?
    हो गया महान

    उत्तर देंहटाएं
  11. koi bhi bane desh ka kalyaan karna hi inka maksad hoga . jo bi tarakki our karya hai vah sabhi hamekhud hi karne honge ,sarkar to phir hum banate eahenge

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

विशाल लाइब्रेरी में से पढ़ें >

अधिक दिखाएं

---------------

छींटे और बौछारें का आनंद अपने स्मार्टफ़ोन पर बेहतर तरीके से लें. गूगल प्ले स्टोर से छींटे और बौछारें एंड्रायड ऐप्प image इंस्टाल करें.

इंटरनेट पर हिंदी साहित्य का खजाना:

इंटरनेट की पहली यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित व लोकप्रिय ईपत्रिका में पढ़ें 10,000 से भी अधिक साहित्यिक रचनाएँ

हिन्दी कम्प्यूटिंग के लिए काम की ढेरों कड़ियाँ - यहाँ क्लिक करें!

.  Subscribe in a reader

इस ब्लॉग की नई पोस्टें अपने ईमेल में प्राप्त करने हेतु अपना ईमेल पता नीचे भरें:

FeedBurner द्वारा प्रेषित

ऑनलाइन हिन्दी वर्ग पहेली खेलें

***

Google+ Followers

फ़ेसबुक में पसंद करें