बुधवार, 23 फ़रवरी 2011

मेरी धुन : रेखा को देखा तो ऐसा लगा...

image

 

मेरीधुन की याद है आपको? यदि नहीं तो यहाँ जाकर याद कर लें.

गीतों को व्यक्तिगत रूप-रंग देने वाली सेवा ने अब अपने कदम और फैला लिए हैं और अब हिंदी के अलावा कन्नड़, मराठी और तमिल भाषा में भी पर्सनलाइज़्ड सांग तैयार किए जा सकते हैं.

मेरीधुन की सेवा में एक और अतिरिक्त खूबी जोड़ी गई है. अब आप मेरीधुन के जरिए प्रति सप्ताह एक गीत मुफ़्त में पर्सनलाइज़्ड कर सकते हैं. अलबत्ता वे जो गीत आपके लिए प्रस्तुत करते हैं उसे ही आप व्यक्तिगत बनवा सकते हैं. दूसरे और भी सैकड़ों गीतों में से चुनकर पर्सनलाइज़्ड करवाने के लिए आपको पैसे खर्चने होंगे. फिर भी, आप देखेंगे कि कुछेक सप्ताह में ही आपके पास व्यक्तिगत बनाए गए मुफ़्त के गीतों का पूरा एक संग्रह तैयार हो गया है!

मैंने पिछले कई हफ़्तों के मुफ़्त गीत बनवा लिए हैं. ताज़ा ताज़ा गीत ये है -

---

हो…  रेखा  को देखा तो ऐसा लगा
  रेखा  को देखा तो ऐसा लगा
जैसे खिलता गुलाब
जैसे शायर का ख्वाब
जैसे उजली किरण
जैसे वन में हिरण
जैसे चाँदनी रात
जैसे नगमे की बात
जैसे मंदिर में हो एक जलता दिया
हो....  रेखा   को देखा तो ऐसा लगा
हो....   रेखा   को देखा तो ऐसा लगा
 रेखा  को देखा तो ऐसा लगा
जैसे सुबहों का रूप
जैसे सर्दी की धूप
जैसे वीणा की तान
जैसे रंगों की जान
जैसे बलखाए बेल
जैसे लहरों का खेल
जैसे खुश्बू लिए आए ठंडी हवा
हो.... रेखा  को देखा तो ऐसा लगा
हो....   रेखा   को देखा तो ऐसा लगा
 रेखा  को देखा तो ऐसा लगा
जैसे नाचता मोर
जैसे रेशम की डोर
जैसे परियों का राग
जैसे संदल की आग
जैसे सोलह सिंगार
जैसे रस्की फुहार
जैसे आहिस्ता आहिस्ता बढ़ता नशा
हो.... रेखा  को देखा तो ऐसा लगा
  रेखा   को देखा तो ऐसा लगा

--MALE--
Ho…  rekha  Ko Dekha To Aisa Laga
  rekha  Ko Dekha To Aisa Laga
Jaise Khilta Gulaab
Jaise Shaayar Ka Khwaab
Jaise Ujli Kiran
Jaise Van Mein Hiran
Jaise Chaandni Raat
Jaise Naghme Ki Baat
Jaise Mandir Mein Ho Ek Jalta Diya
Ho....   rekha  Ko Dekha To Aisa Laga
Ho....   rekha  Ko Dekha To Aisa Laga
 rekha  Ko Dekha To Aisa Laga
Jaise Subahon Ka Roop
Jaise Sardi Ki Dhoop
Jaise Veena Ki Taan
Jaise Rangon Ki Jaan
Jaise Balkhaaye Bel
Jaise Lehron Ka Khel
Jaise Khushboo Liye Aaye Thandi Hava
Ho....  rekha  Ko Dekha To Aisa Laga
Ho....   rekha  Ko Dekha To Aisa Laga
 rekha  Ko Dekha To Aisa Laga
Jaise Naachta Mor
Jaise Resham Ki Dor
Jaise Pariyon Ka Raag
Jaise Sangdal Ki Aag
Jaise Sola Sighaar
Jaise Raski Fuhaar
Jaise Aahista Aahista Badhta Nasha
Ho....  rekha  Ko Dekha To Aisa Laga
  rekha  Ko Dekha To Aisa Laga

इस व्यक्तिगत बनाए गए गीत को आप यहाँ जाकर सुन सकते हैं -

 

http://www.meridhun.com/forms/general/songdownload.aspx?userid=23743&ordeDetailID=58435

 

अब, आप ये मत पूछिएगा कि ये रेखा कौन है?

---

7 blogger-facebook:

  1. हमने तो रेखा के लिंक पर क्लिक भी नहीं किया.

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (24-2-2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।

    http://charchamanch.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  3. ये रेखा कौन है?

    गाने की लिंक राजनंदगांव तक भेज दी गयी है|

    उत्तर देंहटाएं
  4. गीत तो नहीं सुन पाए लेकिन बेफिकर रहिए। रेखा के बारे में आपको बताने की कोई जरूरत नहीं। सब जानते हैं कि आप क्‍या छुपा रहे हैं।

    उत्तर देंहटाएं

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

---------------------------------------------------------

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------