रविरतलामी घर आ जा वे...

यदि आपके पास विचारों की कमी नहीं है तो इंटरनेट की दुनिया में आप कभी भी धूम-धड़ाका कर सकते हैं. और वो भी बढ़िया धूम धड़ाका.
meridhun
मेरीधुन नाम के एक नए विचार ने जन्म लिया है और एक नजर में यह धूम धड़ाका ही है. मेरीधुन अपने तरह की एक नई सेवा है जिसे इंटरनेट पर जारी किया गया है. इसके बारे में आपको और बताएँ, इससे पहले आप ये गाना सुनें. और, ईमानदारी से, पूरा गाना सुनें, फिर आगे पढ़ें. (नोट - फ्लैश प्लेयर प्लगइन आवश्यक, नहीं तो यहाँ से डाउनलोड कर सुनें)

…. घर आजा वे…

सुन लिया गाना? कैसा लगा?
मूल गाना है – चन्ना वे घर आजा वे. इसे मनमाफिक परिवर्तित कर रविरतलामी घर आजा वे में बदल कर रीमिक्स रूप में रेकॉर्ड किया गया है.
meridhun channave remix
जी हाँ, मेरीधुन सेवा प्रचलित प्रसिद्ध गीतों को आपके मनपसंद, मगर थोड़े से सीमित तरीके से फेरबदल कर रेकॉर्ड कर आपको प्रस्तुत करती है. इसके लिए आपसे न्यूनतम रु 99/- से लेकर और अधिक राशि गानों के हिसाब से ली जाती है. आप गीतों को जन्मदिन, सालगिरह इत्यादि के मौकों के हिसाब से उपहार देने योग्य तैयार करवा सकते हैं. नववर्ष, होली-दीपावली इत्यादि के मौकों के लिए भी आप अपने मनमाफिक गीत तैयार कर सकते हैं. गीतों को आपके आदेश करने के उपरांत 72 घंटों में डिलीवर कर दिया जाता है, जिसे आप एमपी3 के रूप में डाउनलोड कर सकते हैं. आप चाहें तो इसकी सीडी के लिए भी आर्डर कर सकते हैं.
नए पंजीकृत प्रयोक्ताओं को रु 99/- का एक गीत मनमाफिक बनाने की सुविधा मुफ़्त में दी जा रही है. मैंने इन गीतों को मुफ़्त में ही बनवाया है.
बढ़िया, धूम धड़ाका है ना यह सेवा? तो फिर, एक गीत और सुनें (फ्लैश प्लेयर प्लगइन आवश्यक नहीं तो यहाँ से एमपी3 डाउनलोड कर सुनें). यह, आपको पता है कि मैंने किसके लिए रेकॉर्ड करवाया और किसे भेंट दिया? स्वर जरूर स्त्री के हैं, मगर भाव मेरे अपने हैं! आप भी अपने खड़ूस बॉस के नाम का एक गीत पप्पू कांट डांस साला वाला रेकॉर्ड कर उसे उपहार में दे सकते हैं.

… प्यार में हम संवरने लगे…?

टिप्पणियाँ

  1. वाह बहुत ही बढ़िया ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बाकी सब तो ठीक है, बस गाना ही नहीं बजा...कुछ गड़बड़ है ?

    उत्तर देंहटाएं
  3. काजल कुमार जी, कृपया देखें कि आपके ब्राउजर में फ्लेश प्लेयर प्लगइन इंस्टाल है या नहीं. वैसे, एमपी3 डाउनलोड की लिंक भी दे दी है. इसे डाउनलोड कर सुनें.

    उत्तर देंहटाएं
  4. आपने सही कहा...फ्लैश ही गड़बड़ था...mp3 डाउनलोड लिंक के लिए भी धन्यवाद .

    उत्तर देंहटाएं
  5. यह तो बहुत अच्छी सेवा है पर कुछ शंकाये हैं।

    क्या धुन और गाने के बोल के कॉपीराइट का उलंघन नहीं हो रहा है। क्योंकि इनकी वेबसाइट यह नहीं कह रही है कि यह लोग कॉपीराइट मालिक को कोई पैसा दे रहें हैं या उससे कोई अनुमति ले रहें हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  6. गुड है जी! आ ही जाइये अब जब कोई कह रहा है!

    उत्तर देंहटाएं
  7. उन्मुक्त जी,
    मौजूदा भारतीय क़ानूनों के अनुसार कॉपीराइट का मामला नहीं बनता क्योंकि गीतों को रीमिक्स रूप में रेकॉर्ड किया जाता है.

    उत्तर देंहटाएं
  8. वाह जी वाह, बढ़िया जुगाड़ है! लेकिन और मज़ा तो तब आवे जब ये लोग तुरंत ही गीत में बदलाव कर दे दें, इंटरनेट एप्लिकेशन्स के ज़माने में 72 घंटे की प्रतीक्षा मानो एक उम्र बीत जाने की सी बात है! :)

    उत्तर देंहटाएं
  9. वाह जी, मज़ा आ गया। यह तो बड़ी अच्‍छी सेवा है। क्‍या दिमाग लगाया है बनाने वाले ने!
    - आनंद

    उत्तर देंहटाएं
  10. मतलब सब असली गानों को कचरा करने का विकल्प…।

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

विशाल लाइब्रेरी में से पढ़ें >

अधिक दिखाएं

---------------

छींटे और बौछारें का आनंद अपने स्मार्टफ़ोन पर बेहतर तरीके से लें. गूगल प्ले स्टोर से छींटे और बौछारें एंड्रायड ऐप्प image इंस्टाल करें.

इंटरनेट पर हिंदी साहित्य का खजाना:

इंटरनेट की पहली यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित व लोकप्रिय ईपत्रिका में पढ़ें 10,000 से भी अधिक साहित्यिक रचनाएँ

हिन्दी कम्प्यूटिंग के लिए काम की ढेरों कड़ियाँ - यहाँ क्लिक करें!

.  Subscribe in a reader

इस ब्लॉग की नई पोस्टें अपने ईमेल में प्राप्त करने हेतु अपना ईमेल पता नीचे भरें:

FeedBurner द्वारा प्रेषित

ऑनलाइन हिन्दी वर्ग पहेली खेलें

***

Google+ Followers

फ़ेसबुक में पसंद करें