आसपास की कहानियाँ ||  छींटें और बौछारें ||  तकनीकी ||  विविध ||  व्यंग्य ||  हिन्दी || 2000+ तकनीकी और हास्य-व्यंग्य रचनाएँ -

कितने दूर, कितने पास?

image

 

वैसे भी, कहावत है ही – जर, जमीन और जोरू. जोरू याने नारी. सारे झगड़े की जड़ ये ही हैं. ये अगर दूर रहें, आदमी की जिंदगी से बहुत दूर रहें तो किसी तरह की समस्या ही न हो. महिलाएँ पुरूषों से दूर रहें तो फिर निरूपमा जैसे कांडों को सिरे से नकारा नहीं जा सकता?

क्यों न अब आदमीयत की सारी शक्ति इस बात पर लगा देनी चाहिए कि महिलाओं को पुरुषों से कैसे दूर कर दिया जाए. अब भले ही महिलाएँ माँ, बहन, बेटियाँ हों, बहुएँ, सास हों, मामी – चाची हों. इन्हें पुरुषों से दूर करना ही होगा. दफ़्तर हो या घर. मस्जिद हो या मंदिर क्या फर्क पड़ता है? वैसे भी, किसी धर्म स्थल और पब में आखिर क्या कोई अंतर होता है? वहाँ भी दर और दीवार होते हैं यहाँ भी. पब तो फिर भी ज्यादा सुसज्जित और लाइवली होता है – और शायद इसी वजह से कुछ समय पूर्व महिलाओं को पब से दूर रहने की सलाहें दी गईं थीं…

 

व्यंज़ल

कोई पास है कोई दूर है

वो पास रहकर भी दूर है


निरूपमा जैसी बेटियों की

दिल्ली अभी बहुत दूर है


आसमान तो मुट्ठी में है

मगर धरती क्यों दूर है


दूरी कदम भर की है पर

मंजिल क्यों बहुत दूर है


सबके के दिलों में है रवि

खुद से दूर, बहुत दूर है


-----.

टिप्पणियाँ

  1. दूर रहिये, मजबूर रहिये ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. औरों को नसीहत और खुद मियां....
    मियांजी को घर में तो चार चार की दरकार है।
    शरियत में तो औरत को नौकरी ही नगवार है।
    घडी को उलटी घुमा रहे हो मियां........
    इतने बच्चो के लिए दोहरी आमदनी ही सरोकार है।

    उत्तर देंहटाएं
  3. ये औरत को दिमाग से निकाल नहीं सकते. इसलिए ना ना बहानों से उसे कोसते रहते है.

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

विशाल लाइब्रेरी में से पढ़ें >

अधिक दिखाएं

---------------

छींटे और बौछारें का आनंद अपने स्मार्टफ़ोन पर बेहतर तरीके से लें. गूगल प्ले स्टोर से छींटे और बौछारें एंड्रायड ऐप्प image इंस्टाल करें.

इंटरनेट पर हिंदी साहित्य का खजाना:

इंटरनेट की पहली यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित व लोकप्रिय ईपत्रिका में पढ़ें 10,000 से भी अधिक साहित्यिक रचनाएँ

हिन्दी कम्प्यूटिंग के लिए काम की ढेरों कड़ियाँ - यहाँ क्लिक करें!

.  Subscribe in a reader

इस ब्लॉग की नई पोस्टें अपने ईमेल में प्राप्त करने हेतु अपना ईमेल पता नीचे भरें:

FeedBurner द्वारा प्रेषित

ऑनलाइन हिन्दी वर्ग पहेली खेलें

***

Google+ Followers

फ़ेसबुक में पसंद करें