टेढ़ी दुनिया पर रवि रतलामी की तिर्यक, तकनीकी रेखाएँ...

उम्रदराजी और स्मार्टनेस


ये माना जाता रहा है कि महिलाएँ अपनी उम्र को लेकर बहुत सतर्क रहती हैं और वो हमेशा से ये चाहती रही हैं कि उनकी उम्र 16 बसंत पार करके ठीक वहीं पर ठहर जाए. उधर पुरुष वर्ग भी अपने बाइसेप्स को 20-21 वर्ष पर या बहुत हुआ तो 25 वें ग्रीष्म पर स्थिर कर देना चाहते हैं. माथे पर उम्र की लकीरें, बालों पर उम्र की सफेदी, गालों पर उम्र के गड्ढे छुपाने के लिए अरबों-खरबों जतन किये जाते रहे हैं. महिलाओं के उम्र से संबंधित ढेरों चुटकुले आपको याद होंगे तो पुरुषों के उम्र से पहले ही सठियाने के चुटकुले भी कोई कम नहीं होंगे. ये तो कहावत भी है कि किसी भद्र महिला से उसकी उम्र और भद्र पुरुष से उसकी आय नहीं पूछनी चाहिए.

पर, अब आप राहत की सांस ले सकते हैं. आप पुरुष हों या महिला, अब किसी को भी अपनी उम्र छिपाने की जरा सी भी आवश्यकता नहीं है. अब अपनी असली उम्र को बताने में किसी को भी कोई झिझक, कोई शर्म नहीं होनी चाहिए. बल्कि कुछ मायनों में, विश्वास रखिए, लोग कुछ जोड़ जाड़कर अपनी उम्र बताने लगेंगे – अपनी वास्तविक उम्र से अधिक बताने लगेंगे. आखिर, कोई भी अपने आपको डम्ब, बेवकूफ़, बुद्धिहीन कहलवाना पसंद करेगा भला?

एक नए अध्ययन के अनुसार यह सिद्ध हो गया है कि व्यक्ति की स्मार्टनेस, उसकी बुद्धिमत्ता उसके उम्र बढ़ने के साथ साथ बढ़ती ही जाती है. अभी तक तो ये माना जाता रहा था कि किसी व्यक्ति का सर्वश्रेष्ठ काल उसकी जवानी के दिनों में होता है – 20-30 की उम्र में तब उसकी बुद्धि उसका शरीर उसका मस्तिष्क सबसे उर्वर होता है क्योंकि बाद में शारीरिक-बौद्धिक क्षमताएँ घटने लगती हैं. परंतु इस नए अध्ययन ने इस धारणा को उलट दिया है. डेनमार्क के अराहस विश्वविद्यालय में कोई साढ़े चार हजार व्यक्तियों पर अध्ययन किया गया. इस अध्ययन में उनके 20 वें वर्ष की आयु पर और फिर बीस साल बाद, 40 वें वर्ष की आयु पर उनके तमाम किस्म के स्मार्टनेस को जांचा परखा गया. अध्ययन में पाया गया कि 40 वर्ष की आयु की उम्र में आकर व्यक्ति ज्यादा, कहीं ज्यादा स्मार्ट हो जाता है. तो, इस तरह यह साबित किया जा चुका है कि उम्र आपकी स्मार्टनेस में इजाफ़ा करते हैं और, उम्रदराज व्यक्ति ज्यादा सयाने होते हैं.

जरा कल्पना करें कि इसके निहितार्थ क्या होंगे? तमाम परिभाषाएँ बदलेंगी. अब आप जरा किसी को ये कॉम्प्लीमेंट देकर देखिए – आप आज बहुत यंग लग रहे/रही हैं. वो बंदा आप पर निकल लेगा. आप अप्रत्यक्ष रूप से उसके स्मार्टनेस को कम कर के आंक रहे होते हैं. वो यंग होगा, जवान होगा तो उसकी स्मार्टनेस जाहिर है कम होगी. वो उम्रदराज होगा तो उसकी स्मार्टनेस ज्यादा होगी, वो ज्यादा बुद्धिशाली होगा. तो अब आपको सामने वाले को दूसरी, सही तरह से कॉम्प्लीमेंट देना सीख लेना चाहिए. अब किसी से मिलें तो कहें – आज आप जरा ज्यादा उम्रदराज लग रहे हैं. सामने वाले को खुशी होगी – उसे अपने आप पर, अपनी स्मार्टनेस पर गर्व होगा.

नए तरह के ब्यूटी पार्लर खुलेंगे. पुराने तरीकों, पुराने विश्वासों के पार्लरों की दुकानें पुरानी तकनीक की तरह कालातीत हो जाएंगी और उनमें कोई नहीं जाएगा, या फिर उन्हें अपना धंधा-अपना व्यवसायिक नजरिया बदलना पड़ेगा. उम्र के चंद बढ़े हुए साल की लकीरें माथे पर डालने वाले एजिंग पार्लर खुलेंगे. नाई की दुकानों में बालों में सफेदी की लटें डालने वालों की लाइनें लगा करेंगीं, और एंटीएजिंग क्रीम की जगह फास्टएजिंग क्रीम का प्रचलन चल निकलेगा.

अपने ऑर्कुट प्रोफ़ाइलों को लोग अद्यतन करने लगेंगे. अब वे अपने प्रोफ़ाइल में अपने जवान, यंग दिखने वाले फोटुओं के बजाए कुछ उम्रदराज से दिखाई देने वाले फोटो लगाएंगे ताकि वे ज्यादा स्मार्ट के रुप में पहचाने जा सकें. और इस तरह से उनके हजारों लाखों फैन-फॉलोअर्स बन सकें. क्योंकि अब लोग यंग, जवान चेहरे वाले ऑर्कुटिया पर निगाह डालना बंद कर देंगे. लोग सोचेंगे- ये तो यंग है, जवान है. इसे अभी स्मार्ट होने में अभी चंद वर्षों की देर है. और इसीलिए तमाम लोग फ़ोटोशॉप के इफ़ैक्ट का प्रयोग कर अपने फोटो ज्यादा उम्र के बनाएंगे और ऑर्कुट पर टांगेंगे. और कभी खुदा न खास्ता कभी किसी से प्रत्यक्ष भेंट हो गई तो वे अपने फोटो के बनिस्बत अपने जवान दिखने का राज - कुछ यूं छुपाते फिरेंगे – वो क्या है ना, पिछले हफ़्ते फ़्लू का प्रकोप हो गया था, थोड़ी तबीयत नासाज सी हो गई थी, काया दुबला गई है इसीलिए यंग लग रहा होऊंगा, परंतु मैं हूं उम्रदराज ही. यकीन मानिए. यानी, स्मार्टनेस में कमी का कोई कारण नहीं चलेगा. कतई नहीं चलेगा. उम्र की बात हो तो बिलकुल नहीं.

कोई व्यक्ति किसी जॉब का इंटरव्यू देने जाएगा तो वो अपना स्मार्टनेस बढ़ाने के लिए चेहरे पर थोड़ा झुर्रियाँ डलवा लेगा. भले ही उसका सर्टिफ़िकेट कुछ कहे, मगर अपने व्यक्तित्व में वो उम्र की खेंच डलवाएगा. कुछ अतिरेकी किस्म के लोग अपने सर्टिफिकेटों में अवैध तरीके से उम्र बढ़ाएंगे ताकि वे ज्यादा स्मार्ट समझे जाएँ और इस तरह इंटरव्यू में उनके चुने जाने की संभावनाएँ ज्यादा हों. प्लास्टिक सर्जनों को और सौंदर्य विशेषज्ञों को विशेष पुनश्चर्या कार्यक्रमों में भाग लेना होगा. उन्हें नए तरह की ट्रेनिंग लेनी होगी. जवान काया में उम्रदराजी के चिह्न डालने के.

कंपनियों के ह्यूमन रिसोर्स विभाग को अपनी स्ट्रैटेजी बदलनी होगी. उन्हें अपनी योजना में रातों रात सुधार करने होंगे तभी वो बाजार की दौड़ में बने रह सकेंगे. क्योंकि फिर हर कोई ऐसा कर रहा होगा. कंपनियों के जॉब ऑफ़र्स के विज्ञापनों में चाहिए यंग, डायनॉमिक, स्मार्ट की जगह अब होगा – चाहिए उम्रदराज, डायनामिक. अब वे स्मार्ट नामक टैग को हटा ही देंगे विज्ञापनों में. उम्रदराज जो आ गया है शब्द में. उम्रदराज है तो स्मार्ट तो होगा ही. अब तक यंग के साथ वांछित स्मार्ट लगा रहना जरूरी था. उम्रदराज के साथ स्मार्टनेस फ्री में मिलेगा. अतिरिक्त. चाहे-अनचाहे. और, अब तक तो होता था कि समान योग्यता होने पर युवाओं को चुना जाता था, अब समान योग्यता होने पर उम्रदराजों को चुना जाएगा और शायद ये भी हो सकता है कि कुछ मामलों में उम्रदराजों की कुछ योग्यताओं में कमी भी दिल से स्वीकारी जानें लगेगी – वे ज्यादा स्मार्ट जो होंगे. सेवानिवृत्ति की आयु आगे खिसकेगी तो साथ ही औसत भर्ती की उम्र भी. अब आदमी अपना स्मार्टनेस हासिल करते करते 40 वसंत पार कर लेगा तब एचआर विभाग की नजरें इनायत उस पर होंगीं.

तो, अगर आप अपने आपमें लम्बा, वृहद् वास्तविक स्मार्टनेस चाहते हैं तो जल्दी ही बूढ़ा होना शुरू कर दें. आज, अभी से!

-------.

व्यंज़ल

नज़र बदली है तो वो है उम्र का तकाजा

कोई बदल सका है भला उम्र का तकाजा


उसे मेरी बेवफ़ाई नहीं कहना मेरे सनम

लोग कहते हैं फकत है उम्र का तकाजा


तेरे सिजदे में मेरा सर अब झुकता नहीं

क्या कोई बीमारी है या उम्र का तकाजा


क्रांति की बातें अब समझ में नहीं आतीं

यारों मान भी जाओ ये उम्र का तकाजा


देखो मानने लगा है स्वयं को स्मार्ट रवि

इस सोच के पीछे है बस उम्र का तकाजा

*************.

एक टिप्पणी भेजें

अब इस उम्र में टिप्पणी विप्पणी नहीं...दी..जाती...

स्मार्ट सा महसुस करने लगा हूँ..

वाकई अब तीस के बाद मैं अपने को ज्यादा बेहतर महसूस करता हूं

Being a computer engineer I am really impressed by the design of your blog. Keep it up!

क्या बात है ,मै खुद को आइने मे देख रही हूँ...

रवि जी, मुझे भी लगता है कि अब ज्‍यादा अकल आई है। पहले जो निर्णय करते थे वे सही नहीं होते थे और न ही गंभीर चिंतन होता था। 20 से 30 बरस की आयु में जो चीजें हासिल न कर सकें वे अब कर रहे हैं। और ज्‍यादा स्‍मार्ट बनें...इसके फंडे बताते रहना

लो जी आप ने तो दिल खुश कर दिया, मेरी फ़ोटू देख कर तो कोई भी समझ जाएगा कि मै सबसे ज्यादा स्मार्ट हूं चलो कहीं तो नंबर वन हो लिए बिना कुछ किए

Gazal ka har ek sher lajawaab hai. khas karke yeh




क्रांति की बातें अब समझ में नहीं आतीं

यारों मान भी जाओ ये उम्र का तकाजा

shabdon mein khayal ko bunne ke liye daad
Devi

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

अन्य रचनाएँ

[random][simplepost]

व्यंग्य

[व्यंग्य][random][column1]

विविध

[विविध][random][column1]

हिन्दी

[हिन्दी][random][column1]
[blogger][facebook]

तकनीकी

[तकनीकी][random][column1]

आपकी रूचि की और रचनाएँ -

[random][column1]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget