आसपास की कहानियाँ ||  छींटें और बौछारें ||  तकनीकी ||  विविध ||  व्यंग्य ||  हिन्दी || 2000+ तकनीकी और हास्य-व्यंग्य रचनाएँ -

नुक्ता चीनी कादम्बिनी नवंबर 04 अंक में अवतरित

बधाईयाँ. अंततः प्रिंट मीडिया में भी अपने हिंदी ब्लॉग (ब्लांग? जैसा कि छपा है, पर

उम्मीद है यह प्रूफ़ की गलती है - क्यों गौरी पालीवाल जी?) की चर्चा हो रही है.कादम्बिनी

के नवंबर 04 अंक में नुक्ता-चीनी, अभिव्यक्ति तथा प्रतीक-पुनीत के हिंदी ब्लॉग की चर्चा रही. आइए,

उम्मीद करें कि एक दिन हमारे हिंदी ब्लॉग प्रिंट मीडिया से ज़्यादा पढ़े जाएँगे.

निम्न ग़ज़ल उसी पत्रिका की समस्या 'मुस्कराओ' की पूर्ति है.

*****
ग़ज़ल
***

बात तो तब है जब दर्द में मुस्कराओ
चाहे चीत्कारो भीतर बाहर मुस्कराओ

नायाब दोस्तों की ये फ़ितरत है नई
भोंक के खंजर वो कहते हैं मुस्कराओ

सियासती चालों ने मजबूर किया है
बिसूरती हालातों में तुम मुस्कराओ

गुजरनी है ज़िंदगी जब आँसुओं में
हिचकियों के बीच तनिक मुस्कराओ

सीख लो जमाने से कुछ आदतें रवि
पर-पीड़ा में तुम भी तो मुस्कराओ

टिप्पणियाँ

  1. That's agreat news Ravi. Having grown up on diet of Kadambini, Navneet, Sarita, Mukta, Parag, Indrajal comics I fondly remeber this literary/cultural magazine though not following it lately. Would try and get it of the stands, I hope I get it at Pune.

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

विशाल लाइब्रेरी में से पढ़ें >

अधिक दिखाएं

---------------

छींटे और बौछारें का आनंद अपने स्मार्टफ़ोन पर बेहतर तरीके से लें. गूगल प्ले स्टोर से छींटे और बौछारें एंड्रायड ऐप्प image इंस्टाल करें.

इंटरनेट पर हिंदी साहित्य का खजाना:

इंटरनेट की पहली यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित व लोकप्रिय ईपत्रिका में पढ़ें 10,000 से भी अधिक साहित्यिक रचनाएँ

हिन्दी कम्प्यूटिंग के लिए काम की ढेरों कड़ियाँ - यहाँ क्लिक करें!

.  Subscribe in a reader

इस ब्लॉग की नई पोस्टें अपने ईमेल में प्राप्त करने हेतु अपना ईमेल पता नीचे भरें:

FeedBurner द्वारा प्रेषित

ऑनलाइन हिन्दी वर्ग पहेली खेलें

***

Google+ Followers

फ़ेसबुक में पसंद करें