ओ तेरी! तो क्या अब नेता जाति और धर्म विहीन होंगे?

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------


उम्मीद तो कर ही सकते हैं। आशा में ही आकाश टंगा है।

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

0 टिप्पणी " ओ तेरी! तो क्या अब नेता जाति और धर्म विहीन होंगे? "

एक टिप्पणी भेजें

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.