ओ तेरी! तो क्या अब नेता जाति और धर्म विहीन होंगे?


उम्मीद तो कर ही सकते हैं। आशा में ही आकाश टंगा है।

कोई टिप्पणी नहीं