हमें भी चाहिए एक अदद नेतारबॉक्स!

लीजिए सुनिए! वैज्ञानिकों ने एक ऐसा कैटरबॉक्स बना लिया है जिसे बिल्लियों के गले में टांगने के बाद उसके मुँह से निकली हुई मियाँऊँ को मनुष्य (के समझने ) की आवाज में रूपांतरित किया जा सकता है।
अब, आपको नहीं लगता है कि हमारे नेताओं के श्रीमुख से निकलने वाले उवाचों के सही सही अर्थों के लिए नेतारबॉक्स बनाना चाहिए? फिर ये समस्या नहीं होगी कि उन्हें संदर्भ से बाहर समझा गया या उन्हें गलत उद्धृत किया गया।

कोई टिप्पणी नहीं