जरा संभल के... कहीं कोई आपका स्टिंग तो नहीं कर रहा?!!

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

clip_image002

clip_image004

 

व्यंज़ल

 

तब आदमी जानता नहीं था स्टिंग

अब प्यार मुहब्बत में भी है  स्टिंग

 

ये कैसा जमाना आ गया है यारों

प्यार आसां नहीं है बिना स्टिंग

 

एकांत में प्यार में किए कस्मे वादे

सब कर रहे हैं फारवर्ड कर स्टिंग

 

प्यार के पल याद आने से पहले

जाने क्यों मन में आता है स्टिंग

 

प्यार करने से अब डरता है रवि

कहीं कोई कर न रहा हो स्टिंग

--

(कार्टून चित्र और समाचार शीर्षक - साभार 'पत्रिका' समाचार पत्र)

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

0 टिप्पणी "जरा संभल के... कहीं कोई आपका स्टिंग तो नहीं कर रहा?!!"

एक टिप्पणी भेजें

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.