एक बिहारी, सब पे भारी!

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

उम्मीद करें कि यह सुविधा केवल उद्घाटन समारोह तक के लिये ही न हो!




इस समाचार पर एक मजेदार आलेख यहाँ http://lokranjan.blogspot.in/2014/02/blog-post.html पर है.

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

2 टिप्पणियाँ "एक बिहारी, सब पे भारी!"

  1. वाह, १० वर्ष पहले होता तो हम भी लाभ उठाते।

    उत्तर देंहटाएं
  2. उम्मीद पर डिस्कनेक्ट फिर रहा है..

    उत्तर देंहटाएं

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.