आइए, खोजें कि गूगल बज़ में लोग आखिर क्या बजा रहे हैं…

SHARE:

अगर आप समझते हैं कि गूगल बज़ में आप सिर्फ अपने समूह के बीच वार्तालाप कर रहे हैं तो आप गलत हैं. गूगल बज़ में आपकी बजबजाहट एक तरह से सार्वज...

image

अगर आप समझते हैं कि गूगल बज़ में आप सिर्फ अपने समूह के बीच वार्तालाप कर रहे हैं तो आप गलत हैं. गूगल बज़ में आपकी बजबजाहट एक तरह से सार्वजनिक होती है (अपनी गोपनीयता सेटिंग जाँच लें!) और आमतौर पर उसे हर कोई देख-पढ़ सकता है. यहाँ तक कि सर्च इंजिनों के जरिए आपके बज़ पर खोज-खबर भी रखी जा सकती है.

अतएव, गूगल बज़ पर अपनी निजी वार्तालाप के दौरान – आपको सलाह दी जाती है कि मर्यादा बनाए रखें – कौन जाने कब आपका गुस्सैल बज़ आपके लिए आफत की पुड़िया बन जाए.

ये हैं कुछ बज़ जिन्हें गूगल रीयलटाइम खोज के जरिए खोजा गया है. जाहिर है, बज़ बड़े रोचक होते हैं, इसलिए ही समझ में आ जाता है कि जनता बजबजाने में क्यों पिली रहती है…

---

New results will appear below as they become available. PauseUpdating stopped. ResumeUpdating stopped. To resume, reload the page.

  1. धड़कते, साँस लेते, रुकते-चलते मैंने देखा है कोई तो है जिसे अपने मैं पलते मैंने देखा है ... तुम्हारी आदतों में ख़ुद को ढलते मैंने देखा है मेरी ख़ामोशियों में तैरती हैं,तेरी ... - More »

    Rupesh Gupta‎ - Google Buzz -

    258

    4 minutes ago

  2. ना मुज़्दा-ए-विसाल ना नज़ारा-ए-जमाल, मुद्दत हुई की आश्ती-ए-चश्म-ओ-गोश है!!

    Manish Agarwal‎ - Google Buzz -

    974

    16 minutes ago

  3. इस अभागे देश के सौभाग्य से आपको फिर एक बार चुनाव का टिकट मिल गया है। लगता है किसी अंधे ने फिर से रेवड़ियां बांटी हैं। आपके चुनाव-क्षेत्र के अंधे वोटरों के लिए निश्चय ही यह बड़े ... - More »
    आदरणीय प्रत्याशी जी!‎ - chhapas.com

    chhapas kumar‎ - Google Buzz -

    2220

    37 minutes ago

  4. एक अजनबी से मुझे इतना प्यार क्यूँ है, इंकार करके भी चाहत का इकरार क्यूँ है, उसे पाना तकदीर में नहीं, फिर भी हर मोड़ पर उसका इंतज़ार क्यों है?

    Sanjay Shakya‎ - Google Buzz -

    2456

    40 minutes ago

  5. इतना महाग कैसे रे तेरे यहा, वो कोपरेका भैया तो स्वस्त देता है!! कंदा काट के, चिर के मस्त ओम्लेट बनाने का और उपर से थोडा कोथिंबिर भुरभुरानेका!! अरे बाबा गाडी सावली मे लगा! ... - More »

    Avinash Savekar‎ - Google Buzz -

    2662

    44 minutes ago

  6. गम होते हैं तो तकलीफ सभी को होती है पर मुश्किल तो तब होती है जब मुस्कुराना भी पड़ता है और गम छुपाना भी होता हैI

    Vivek Verma‎ - Google Buzz -

    2706

    45 minutes ago

और, यदि आप गूगल बज़ के बाजू में लिखे प्रोफ़ाइल पर क्लिक करेंगे तो आगे उस प्रयोक्ता के सारे के सारे बज़ आप पढ़ सकेंगे. जैसे कि 5 वें नंबर के अविनाश सावेकर पर क्लिक करने पर उनका यह मजेदार बज़ मिला :

Avinash Savekar - Buzz - Public - Muted

मराठी लोकांची हिंदी:
पहलि बार पोहने गया तो क्या हुआ मालुम?
पहिले पानी मे शिरा, फिर पोहा और बाद मे बुडा!!
घाई करो भैया नही तो बस जायेगी, और हमारी पंचाईत होयेगी!!
सरबत मे लिंबु पिळा क्या!!
इतना महाग कैसे रे तेरे यहा, वो कोपरेका भैया तो स्वस्त देता है!!
कंदा काट के, चिर के मस्त ओम्लेट बनाने का और उपर से थोडा कोथिंबिर भुरभुरानेका!!
अरे बाबा गाडी सावली मे लगा!!
ए भाय, मेदुवडा शेपरेट ला, साम्बार मे बूडा के मत लाना!!
केस एकदम बारीक कापो भैया!!
खाओ पोटभर खाओ लाजो मत!!
धावते धावते गिर्‍या तो काडकन हात का हाड मोड्या!!

Comment

Like

---

आप भी ट्राई मार सकते हैं. गूगल बज़ में सीधे खोजबीन करने की सुविधा अभी नहीं है. अलबत्ता कुछ उपाय हैं. बज़ में खोजने का एक ऑनलाइन उपाय है – बज़ी.कॉम नाम का बज़ सर्च इंजिन -

http://buzzzy.com/

 

वैसे, आप गूगल ट्रेंड http://www.google.com/trends  में जाकर वहाँ मोर हॉट टॉपिक्स पर क्लिक कर रीयल टाइम सर्च में खोज सकते हैं जिनमें गूगल बज़ (ट्विटर इत्यादि की भी,) की ताज़ातरीन पोस्टें आपको सर्च रिजल्ट के रूप में मिलेंगीं. आप चाहें तो बज़ में सीधे खोजने के लिए यहाँ - http://www.google.com/search?q=site:google.com&tbs=mbl:1 जाकर वांछित हिंदी शब्द से गूगल बज़ में खोज-बीन कर सकते हैं.

नाम

तकनीकी ,1,अनूप शुक्ल,1,आलेख,6,आसपास की कहानियाँ,127,एलो,1,ऐलो,1,कहानी,1,गूगल,1,गूगल एल्लो,1,चोरी,4,छींटे और बौछारें,146,छींटें और बौछारें,340,जियो सिम,1,जुगलबंदी,49,तकनीक,51,तकनीकी,698,फ़िशिंग,1,मंजीत ठाकुर,1,मोबाइल,1,रिलायंस जियो,2,रेंसमवेयर,1,विंडोज रेस्क्यू,1,विविध,378,व्यंग्य,513,संस्मरण,1,साइबर अपराध,1,साइबर क्राइम,1,स्पैम,10,स्प्लॉग,2,हास्य,2,हिन्दी,505,hindi,1,
ltr
item
छींटे और बौछारें: आइए, खोजें कि गूगल बज़ में लोग आखिर क्या बजा रहे हैं…
आइए, खोजें कि गूगल बज़ में लोग आखिर क्या बजा रहे हैं…
http://lh6.ggpht.com/_t-eJZb6SGWU/S8QLSgdTcXI/AAAAAAAAHtM/5dPvsV3fWhQ/image_thumb.png?imgmax=800
http://lh6.ggpht.com/_t-eJZb6SGWU/S8QLSgdTcXI/AAAAAAAAHtM/5dPvsV3fWhQ/s72-c/image_thumb.png?imgmax=800
छींटे और बौछारें
https://raviratlami.blogspot.com/2010/04/blog-post_13.html
https://raviratlami.blogspot.com/
https://raviratlami.blogspot.com/
https://raviratlami.blogspot.com/2010/04/blog-post_13.html
true
7370482
UTF-8
Loaded All Posts Not found any posts VIEW ALL Readmore Reply Cancel reply Delete By Home PAGES POSTS View All RECOMMENDED FOR YOU LABEL ARCHIVE SEARCH ALL POSTS Not found any post match with your request Back Home Sunday Monday Tuesday Wednesday Thursday Friday Saturday Sun Mon Tue Wed Thu Fri Sat January February March April May June July August September October November December Jan Feb Mar Apr May Jun Jul Aug Sep Oct Nov Dec just now 1 minute ago $$1$$ minutes ago 1 hour ago $$1$$ hours ago Yesterday $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago more than 5 weeks ago Followers Follow THIS PREMIUM CONTENT IS LOCKED STEP 1: Share to a social network STEP 2: Click the link on your social network Copy All Code Select All Code All codes were copied to your clipboard Can not copy the codes / texts, please press [CTRL]+[C] (or CMD+C with Mac) to copy Table of Content