हिंदी कंप्यूटिंग समस्या समाधान हेतु खोजें

अमरीका ऑनलाइन इन ???????

साझा करें:

एओएल.इन भारतीय इंटरनेट परिदृश्य में धूमधड़ाके से प्रविष्ट हुआ है और अपनी पैठ बनाने के लिए हर संभव प्रयास कर रहा है. प्रिंट मीडिया से लेक...



एओएल.इन भारतीय इंटरनेट परिदृश्य में धूमधड़ाके से प्रविष्ट हुआ है और अपनी पैठ बनाने के लिए हर संभव प्रयास कर रहा है.

प्रिंट मीडिया से लेकर अन्य दृश्य-श्रव्य मीडिया में भी एओएल.इन के विज्ञापन धुआंधार चले आ रहे हैं. भारतीय ब्लॉगों – खासकर हिन्दी चिट्ठों में जहाँ जहाँ एडसेंस हैं, एओएल का जमूरा जब तब मुँह से आग उड़ाता दिख जाता है.

इसी आग से प्रभावित होकर मैंने भी सोचा कि चलो, एक ई-मेल खाता एओएल पर खोल ही लिया जाए.

एओएल मेल दिखने में पूरा का पूरा याहू! मेल का जुड़वां भाई दिखता है. इंटरफ़ेस वही घिसा-पिटा सा है और धीमा भी. मगर मुझे तो इसकी हिन्दी की परीक्षा लेनी थी. फटाफट इस नए खाते पर एक हिन्दी में ई-मेल भेजा और इसके जरिए एक हिन्दी में ई-मेल किया.

नतीजा – वही ढाक के तीन प्रश्न – यानी ??????

ईमेल की मुख्य सामग्री की यूनिकोड तो खंडित नहीं हुई, मगर प्रेषक / प्राप्तकर्ता और विषय के यूनिकोड खंडित हो गए.

एओएल – भारत में नए सिरे से, नए ब्रॉड नाम से पैठ बनाने की कोशिश कर रही है तो कम से कम इधर तो उसे ध्यान देना ही था – या उसकी नजर सिर्फ अंग्रेज़ी इस्तेमाल करने वाले भारतीयों पर है?

क्या एओएल भारत में कुछ कर दिखाएगा? संभवतः नहीं. वैसे, यह तो समय ही बताएगा, चूंकि इसमें नया-सा कुछ भी नहीं है जिसके कारण उपयोक्ता इसके प्रति आकर्षित हों.

हाँ, एओएल की एक बात पसंद आई. इसका स्पैम हैंडलिंग दमदार प्रतीत होता है. जिस वैकल्पिक ईमेल खाते से मैंने इस पर पंजीकृत किया था, उसी खाते से ईमेल भेजने पर इसने उसे स्पैम में डाल दिया :)

फ़ैसला - हिन्दी के लिए सर्वोत्तम - जीमेल, आईगूगल.

टिप्पणियाँ

ब्लॉगर: 6
Loading...
.... विज्ञापन ....

-----****-----

-- विज्ञापन --

---

|हिन्दी_$type=blogging$count=8$page=1$va=1$au=0$src=random

-- विज्ञापन --

---

|हास्य-व्यंग्य_$type=complex$count=8$page=1$va=0$au=0$src=random

-- विज्ञापन --

---

|तकनीक_$type=blogging$au=0$count=7$page=1$src=random-posts

नाम

तकनीकी ,1,अनूप शुक्ल,1,आलेख,6,आसपास की कहानियाँ,127,एलो,1,ऐलो,1,गूगल,1,गूगल एल्लो,1,चोरी,4,छींटे और बौछारें,142,छींटें और बौछारें,336,जियो सिम,1,जुगलबंदी,49,तकनीक,40,तकनीकी,683,फ़िशिंग,1,मंजीत ठाकुर,1,मोबाइल,1,रिलायंस जियो,2,रेंसमवेयर,1,विंडोज रेस्क्यू,1,विविध,371,व्यंग्य,508,संस्मरण,1,साइबर अपराध,1,साइबर क्राइम,1,स्पैम,10,स्प्लॉग,2,हास्य,2,हिन्दी,496,hindi,1,
ltr
item
छींटे और बौछारें: अमरीका ऑनलाइन इन ???????
अमरीका ऑनलाइन इन ???????
http://1.bp.blogspot.com/_t-eJZb6SGWU/Rodap4K4DzI/AAAAAAAABCY/VfGnmsR8CwY/s400/aol-in+hindi+support1.JPG
http://1.bp.blogspot.com/_t-eJZb6SGWU/Rodap4K4DzI/AAAAAAAABCY/VfGnmsR8CwY/s72-c/aol-in+hindi+support1.JPG
छींटे और बौछारें
https://raviratlami.blogspot.com/2007/07/blog-post.html
https://raviratlami.blogspot.com/
https://raviratlami.blogspot.com/
https://raviratlami.blogspot.com/2007/07/blog-post.html
true
7370482
UTF-8
सभी पोस्ट लोड किया गया कोई पोस्ट नहीं मिला सभी देखें आगे पढ़ें जवाब दें जवाब रद्द करें मिटाएँ द्वारा मुखपृष्ठ पृष्ठ पोस्ट सभी देखें आपके लिए और रचनाएँ विषय ग्रंथालय खोजें सभी पोस्ट आपके निवेदन से संबंधित कोई पोस्ट नहीं मिला मुख पृष्ठ पर वापस रविवार सोमवार मंगलवार बुधवार गुरूवार शुक्रवार शनिवार रवि सो मं बु गु शु शनि जनवरी फरवरी मार्च अप्रैल मई जून जुलाई अगस्त सितंबर अक्तूबर नवंबर दिसंबर जन फर मार्च अप्रैल मई जून जुला अग सितं अक्तू नवं दिसं अभी अभी 1 मिनट पहले $$1$$ minutes ago 1 घंटा पहले $$1$$ hours ago कल $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago 5 सप्ताह से भी पहले फॉलोअर फॉलो करें यह प्रीमियम सामग्री तालाबंद है चरण 1: साझा करें. चरण 2: ताला खोलने के लिए साझा किए लिंक पर क्लिक करें सभी कोड कॉपी करें सभी कोड चुनें सभी कोड आपके क्लिपबोर्ड में कॉपी हैं कोड / टैक्स्ट कॉपी नहीं किया जा सका. कॉपी करने के लिए [CTRL]+[C] (या Mac पर CMD+C ) कुंजियाँ दबाएँ