हिंदी कंप्यूटिंग समस्या समाधान हेतु खोजें

प्रभासाक्षी ने कर दिखाया! दैनिक हिट 3 लाख के पार

साझा करें:

बालेंदु व प्रभासाक्षी को बधाईयाँ! ...


बालेंदु व प्रभासाक्षी को बधाईयाँ!

हिंदी हिंदी के प्रमुख समाचार-विचार पोर्टल प्रभासाक्षी.कॉम पर होने वाले दैनिक हिट्स की संख्या तीन लाख से अधिक हो गई है। दो जनवरी को पोर्टल पर तीन लाख एक हजार हिट दर्ज किए गए। प्रभासाक्षी प्रबंधन ने सन 2006 के अंत तक पोर्टल के दैनिक हिट्स की संख्या तीन लाख से अधिक हो जाने की संभावना जताई थी जो सटीक सिद्ध हुई। इस तरह, इंटरनेट पर हिन्दी पाठकों की कुल संख्या के करीब पंद्रह फीसदी हिस्से पर काबिज इस पोर्टल के मासिक हिट्स भी बढ़कर 85 लाख से अधिक हो गए हैं. उम्मीद है कि अगले तीन महीनों में पोर्टल के मासिक हिट्स की संख्या एक करोड़ का ऐतिहासिक आंकड़ा पार कर लेगी.

याद रहे, प्रभासाक्षी.कॉम के संपादक बालेन्दु दाधीच को तकनीकी क्षेत्र में उनके योगदान के लिए माइक्रोसॉफ्ट की तरफ से 'मोस्ट वेल्यूएबल प्रोफेशनल 2007' पुरस्कार प्रदान किया गया था। प्रभासाक्षी की लोकप्रियता निरंतर बढ़ रही है और पिछले एक साल में इस पर आने वाले इंटरनेट उपयोक्ताओं (सर्फरों) की संख्या लगभग तीन गुना हो गई है। हिंदी भाषी अप्रवासी भारतीयों और छोटे शहरों के हिंदी पाठकों के चहेते इस पोर्टल ने हिट्स के मामले में 26 अप्रैल 2006 को ढाई लाख का आंकड़ा पार किया था। प्रभासाक्षी ने प्रचार आदि पर भारी भरकम खर्च किए बिना अपनी संपादकीय और तकनीकी क्षमताओं के बल पर तीन लाख का आंकड़ा पार किया है। प्रभासाक्षी पर होने वाले हिट्स को लगातार वेबलॉगएक्सपर्ट और वेबट्रेंड्स सॉफ्टवेयरों की मदद से मॉनीटर किया जाता है।

निरंतर बढ़ती लोकप्रियता

प्रभासाक्षी.कॉम का संचालन द्वारिकेश संवाद लिमिटेड करता है जो श्री गौतम मोरारका के नेतृत्व वाले द्वारिकेश समूह का उपक्रम है। बालेन्दु दाधीच के संपादन में प्रकाशित किए जा रहे इस पोर्टल के हिट्स में लगातार वृध्दि का कारण उसकी स्वच्छ, सूचनापरक और विशद सामग्री, समाचार देने की गति, तकनीकी श्रेष्ठता व सरलता तथा प्रसिध्द व अनुभवी लेखकों का जुड़ाव माना जाता है। प्रभासाक्षी.कॉम का लक्ष्य भारत से संबंधित सूचनाओं का विश्वसनीय हिंदी स्रोत बनना है और वह सनसनीखेज या उत्तोजक सामग्री के प्रयोग से बचता है। समाचारों के मामले में भी यह पोर्टल पूरी तरह निष्पक्ष संपादकीय नीति पर चलता है और सभी पक्षों के विचारों को समान रूप से कवर करता है। प्रभासाक्षी में प्रयुक्त सामग्री परंपरा और नवीनता के प्रति संतुलन पर आधारित होती है। प्रगतिशील विचारों पर आधारित होने के बावजूद यह पोर्टल भारतीय संस्कृति के उज्ज्वल पक्षों के प्रति गहरा सम्मान और लगाव दिखाता है और साथ ही साथ दकियानूसी और कट्टरपंथी विचारों के विरोध में खड़ा रहता है।

पिछले एक साल में प्रभासाक्षी के पाठकों के अनुपात में भी बहुत दिलचस्प और महत्वपूर्ण बदलाव देखने को मिला है। साल भर पहले जहां इस पोर्टल के 65 फीसदी पाठक अनिवासी भारतीय तथा विदेशी थे वहीं अब उनकी संख्या घटकर लगभग पच्चीस फीसदी रह गई है और स्वदेशी पाठकों की संख्या बढ़कर 75 फीसदी तक जा पहुंची है। यह इस बात का परिचायक भी है कि भारत के छोटे शहरों और कस्बों में भी इंटरनेट का प्रचलन धीरे-धीरे बढ़ रहा है और हिंदी पाठकों में इंटरनेट के प्रयोग की अभिरुचि बढ़ रही है।

पिछले पांच साल की अवधि में प्रभासाक्षी भारत ही नहीं बल्कि विदेशों में रहने वाले हिंदी पाठकों के बीच भी अपनी जगह बनाने में सफल रहा है। भारत से विदेश गए लोगों को उनकी भाषा, भूमि और संस्कृति से जोड़े रखना इसके उद्देश्यों में प्रमुख है। जिन देशों में प्रभासाक्षी सबसे अधिक देखा जाता है उनमें अमेरिका, ब्रिटेन और कनाडा प्रमुख हैं। प्रभासाक्षी के कुल सर्फरों के आधे से अधिक अमेरिका से आते हैं। इस पोर्टल पर पांच श्रेणियों में समाचार और 26 श्रेणियों में गैर-समाचार सामग्री दी जाती है। प्रसिध्द लेखक-पत्रकार खुशवंत सिंह, मशहूर संपादक व मानवाधिकारवादी कुलदीप नायर, पूर्व केंद्रीय मंत्री अरुण नेहरू, पूर्व सांसद व संपादक दीनानाथ मिश्र आदि प्रभासाक्षी के लेखकों में शामिल हैं। विख्यात हिंदी कार्टूनिस्ट काक भी इससे जुड़े हुए हैं।

स्रोत: प्रभासाक्षी


(क्या यह बताना उचित रहेगा कि मेरे आलेख भी प्रभासाक्षी में आते रहे हैं? - रवि :) )

Tag ,,,

टिप्पणियाँ

ब्लॉगर: 13
Loading...
.... विज्ञापन ....

-----****-----

-- विज्ञापन --

---

|हिन्दी_$type=blogging$count=8$page=1$va=1$au=0$src=random

|हास्य-व्यंग्य_$type=complex$count=8$page=1$va=0$au=0$src=random

|तकनीक_$type=blogging$au=0$count=7$page=1$src=random-posts

नाम

तकनीकी ,1,अनूप शुक्ल,1,आलेख,6,आसपास की कहानियाँ,127,एलो,1,ऐलो,1,गूगल,1,गूगल एल्लो,1,चोरी,4,छींटे और बौछारें,142,छींटें और बौछारें,336,जियो सिम,1,जुगलबंदी,49,तकनीक,39,तकनीकी,682,फ़िशिंग,1,मंजीत ठाकुर,1,मोबाइल,1,रिलायंस जियो,2,रेंसमवेयर,1,विंडोज रेस्क्यू,1,विविध,370,व्यंग्य,508,संस्मरण,1,साइबर अपराध,1,साइबर क्राइम,1,स्पैम,10,स्प्लॉग,2,हास्य,2,हिन्दी,495,hindi,1,
ltr
item
छींटे और बौछारें: प्रभासाक्षी ने कर दिखाया! दैनिक हिट 3 लाख के पार
प्रभासाक्षी ने कर दिखाया! दैनिक हिट 3 लाख के पार
छींटे और बौछारें
https://raviratlami.blogspot.com/2007/01/3.html
https://raviratlami.blogspot.com/
https://raviratlami.blogspot.com/
https://raviratlami.blogspot.com/2007/01/3.html
true
7370482
UTF-8
सभी पोस्ट लोड किया गया कोई पोस्ट नहीं मिला सभी देखें आगे पढ़ें जवाब दें जवाब रद्द करें मिटाएँ द्वारा मुखपृष्ठ पृष्ठ पोस्ट सभी देखें आपके लिए और रचनाएँ विषय ग्रंथालय खोजें सभी पोस्ट आपके निवेदन से संबंधित कोई पोस्ट नहीं मिला मुख पृष्ठ पर वापस रविवार सोमवार मंगलवार बुधवार गुरूवार शुक्रवार शनिवार रवि सो मं बु गु शु शनि जनवरी फरवरी मार्च अप्रैल मई जून जुलाई अगस्त सितंबर अक्तूबर नवंबर दिसंबर जन फर मार्च अप्रैल मई जून जुला अग सितं अक्तू नवं दिसं अभी अभी 1 मिनट पहले $$1$$ minutes ago 1 घंटा पहले $$1$$ hours ago कल $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago 5 सप्ताह से भी पहले फॉलोअर फॉलो करें यह प्रीमियम सामग्री तालाबंद है चरण 1: साझा करें. चरण 2: ताला खोलने के लिए साझा किए लिंक पर क्लिक करें सभी कोड कॉपी करें सभी कोड चुनें सभी कोड आपके क्लिपबोर्ड में कॉपी हैं कोड / टैक्स्ट कॉपी नहीं किया जा सका. कॉपी करने के लिए [CTRL]+[C] (या Mac पर CMD+C ) कुंजियाँ दबाएँ