प्रायोजक

---प्रायोजक---

---***---

हिंदी कंप्यूटिंग समस्या समाधान हेतु खोजें

छपास की पीड़ा...

साझा करें:

राजेन्द्र यादव ने हंस, जुलाई २००४ के संपादकीय में बड़े ही मज़ेदार तरीक़े से, चुटकियाँ लेते हुए, हिंदी साहित्य संसार के प्रायः सभी नए-पुराने ...

राजेन्द्र यादव ने हंस, जुलाई २००४ के संपादकीय में बड़े ही मज़ेदार तरीक़े से, चुटकियाँ लेते हुए, हिंदी साहित्य संसार के प्रायः सभी नए-पुराने समकालीन लेखकों/कवियों के बारे में टिप्पणियाँ की है कि किस प्रकार लोग अपनी छपास की पीड़ा को तमाम तरह के हथकंडों से कम करने की नाकाम कोशिशों में लगे रहते हैं. अगर यादव जी हंस के संपादन के इस तरह के अनुभवों को पहले प्रकाशित करते तो बहुतों का भला हो जाता और वे हंस की ओर अपने छपास की आस लगाए नहीं फ़िरते. बहरहाल, धन्यवाद राजेन्द्र यादव जी. वैसे भी हिंदी साहित्य अब राइटर्स मार्केट बन गया है. रीडर्स मार्केट भले ही कभी रहा हो, पर अब, लेखक हैं हज़ार तो पाठक हैं एकाध (स्वयं अपनी रचना का पाठ कर खुश होने वाले -- इनमें सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन भी रहे हैं, जो नदियों को कविता सुनाते थे)

ऐसी स्थिति में, छपास पीड़ा हरण के लिए इंटरनेट के व्यक्तिग़त पृष्ठ और ब्लॉग से बढ़कर भला और क्या हो सकता है? यहाँ पर आकर आप मुफ़्त में अपनी बकवास आराम के साथ, मज़े में, दिन प्रति दिन , साल दर साल लिख कर छाप सकते हैं, और यह भी उम्मीद कर सकते हैं कि आपके लिखे गए पन्ने किसी एक रूपए के ग़र्म भजिए के पुड़िए में बांधा नहीं जाएगा और भजिया खाकर ऊंगली पोंछकर कूड़ेदान (यहाँ भारत में कोई कूड़ेदान का उपयोग करता है क्या? और करता भी है, तो कितने कूड़ेदान हैं? हमारे लिए तो सड़कें, प्लेटफॉर्म इत्यादि कूड़ेदान के बेहतरीन सब्स्टीट्यूट हैं) में फ़ेंका नहीं जाएगा.

मैं भी छपास की अपनी थोड़ी सी पीड़ा हरण करने का प्रयास निम्न ग़ज़ल के साथ करता हूँ. मुलाहिज़ा फ़रमाएँ:
***
ग़ज़ल
***

सब सुनाने में लगे हैं अपनी अपनी ग़ज़ल
क्यों कोई सुनता नहीं मेरी अपनी ग़ज़ल

रंग रंग़ीली दुनिया में कोई ये बताए हमें
रंग सियाह में क्यों पुती है अपनी ग़ज़ल

छिल जाएंगी उँगलियाँ और फूट जाएंगे माथे
इस बेदर्द दुनिया में मत कह अपनी ग़ज़ल

मज़ाहिया नज़्मों का ये दौर नया है यारो
कोई पूछता नहीं आँसुओं भरी अपनी ग़ज़ल

जो मालूम है लोग ठठ्ठा करेंगे ही हर हाल
मूर्ख रवि फ़िर भी कहता है अपनी ग़ज़ल

*+*+*+

टिप्पणियाँ

ब्लॉगर: 3
  1. बेशुमार टी वी चैनलों की उपस्थिति कि वजह से एक और किस्म की पीड़ा के भुक्तभोगी भी आपने देखें होंगे। ये है "फुटास" की पीड़ा (अगर सही याद कर पा रहा हूँ तो मनोहर श्याम जोशी ने यह शब्द उछाला था), यानी छोटे पर्दे पर "फुटेज" खाने की चाह से उपजे कष्ट के शिकार। चेनलों को "बाईट" देने की प्रथा के चलन में आने के बाद से इससे छुटभैये से लेकर नामी गिरामी नेता, समाजसेवी, फिल्मकार, कलाकार सभी कभी न कभी ग्रसित होते रहे हैं।

    जवाब देंहटाएं
  2. मित्र आपकी गजल पढ़ी। मजा आया। सीधी बात, नो लाग लपेट। कुछ मीडिया पर कहिये ना। मीडिया आज अपने आप में विषय बन गया है। शेष चकाचक है।
    आपका आलोक पुराणिक

    जवाब देंहटाएं
आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

---प्रायोजक---

---***---

---प्रायोजक---

---***---

---प्रायोजक---

---***---

विविध

---प्रायोजक---

---***---

|हिन्दी_$type=blogging$count=8$page=1$va=1$au=0$src=random

|हास्य-व्यंग्य_$type=complex$count=8$page=1$va=0$au=0$src=random

रचनाकार : हिंदी साहित्य का आनंद लें

---प्रायोजक---

---***---

|तकनीक_$type=blogging$au=0$count=7$page=1$src=random-posts

नाम

तकनीकी ,1,अनूप शुक्ल,1,आलेख,6,आसपास की कहानियाँ,127,एलो,1,ऐलो,1,कहानी,1,गूगल,1,गूगल एल्लो,1,चोरी,4,छींटे और बौछारें,143,छींटें और बौछारें,337,जियो सिम,1,जुगलबंदी,49,तकनीक,46,तकनीकी,689,फ़िशिंग,1,मंजीत ठाकुर,1,मोबाइल,1,रिलायंस जियो,2,रेंसमवेयर,1,विंडोज रेस्क्यू,1,विविध,374,व्यंग्य,512,संस्मरण,1,साइबर अपराध,1,साइबर क्राइम,1,स्पैम,10,स्प्लॉग,2,हास्य,2,हिन्दी,502,hindi,1,
ltr
item
छींटे और बौछारें: छपास की पीड़ा...
छपास की पीड़ा...
छींटे और बौछारें
https://raviratlami.blogspot.com/2004/07/blog-post_19.html
https://raviratlami.blogspot.com/
https://raviratlami.blogspot.com/
https://raviratlami.blogspot.com/2004/07/blog-post_19.html
true
7370482
UTF-8
सभी पोस्ट लोड किया गया कोई पोस्ट नहीं मिला सभी देखें आगे पढ़ें जवाब दें जवाब रद्द करें मिटाएँ द्वारा मुखपृष्ठ पृष्ठ पोस्ट सभी देखें आपके लिए और रचनाएँ विषय ग्रंथालय SEARCH सभी पोस्ट आपके निवेदन से संबंधित कोई पोस्ट नहीं मिला मुख पृष्ठ पर वापस रविवार सोमवार मंगलवार बुधवार गुरूवार शुक्रवार शनिवार रवि सो मं बु गु शु शनि जनवरी फरवरी मार्च अप्रैल मई जून जुलाई अगस्त सितंबर अक्तूबर नवंबर दिसंबर जन फर मार्च अप्रैल मई जून जुला अग सितं अक्तू नवं दिसं अभी अभी 1 मिनट पहले $$1$$ minutes ago 1 घंटा पहले $$1$$ hours ago कल $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago 5 सप्ताह से भी पहले फॉलोअर फॉलो करें यह प्रीमियम सामग्री तालाबंद है STEP 1: Share to a social network STEP 2: Click the link on your social network सभी कोड कॉपी करें सभी कोड चुनें सभी कोड आपके क्लिपबोर्ड में कॉपी हैं कोड / टैक्स्ट कॉपी नहीं किया जा सका. कॉपी करने के लिए [CTRL]+[C] (या Mac पर CMD+C ) कुंजियाँ दबाएँ