---प्रायोजक---

---***---

हिंदी कंप्यूटिंग समस्या समाधान हेतु खोजें

इस देश का यारों क्या होगा...

साझा करें:

**** एक अखबार के संपादकीय में मैंने पढ़ा था कि नई सरकार ने जो कॉमन मिनिमम प्रोग्राम बनाया है वह जो भी हो, अगर उसका नाम इंडिया डेवलपमेंट प्...


****
एक अखबार के संपादकीय में मैंने पढ़ा था कि नई सरकार ने जो कॉमन मिनिमम प्रोग्राम
बनाया है वह जो भी हो, अगर उसका नाम इंडिया डेवलपमेंट प्रोग्राम रखा जाता तो शायद
उसका ज्यादा और भला असर लोगों पर पड़ता.

बहरहाल, जो भी हो, एक बात पर सभी आंखें मूंदे हुए हैं. देश की बढ़ती जनसंख्या.
उपलब्ध रिसोर्सेज़ सीमित हैं, और जनसंख्या दिन दूनी रात चौगुनी बढ़ती जा रही है.
सीएमपी कहता है कि दस लाख रोज़गार पैदा (कहाँ से?) किए जाएंगे. मान लिया भाई, पर
जनसंख्या तो अगले साल बीस लाख बढ़ गई.... यह एक बहुत बड़ी समस्या है और अपने
तत्कालीन राजनीतिक लाभ के लिए कोई भी सरकार उस तरफ़ निगाह नहीं डालना चाहती.
जाहिर है, इस साधन सम्पन्न राष्ट्र के साधन कुछ ही वर्षों में जब कम पड़ने
लगेंगे तो अराजकता से निपटने हेतु हमारे पास कुल्हड़ों के सिवा कुछ न रहेगा. सारा
देश कुल्हड़ मय हो जाएगा. या शायद हमें शीघ्र ही सद्बुद्धि आएगी...

इसी समस्या को सोचते दिमाग में कुछ पंक्तियाँ आईं तो लिख डाली एक ग़ज़ल जो पेश
हैः
(एक स्वीकारोक्ति करूँ, तो एक स्वस्थापित (?) ग़ज़लकार ने मेरी ग़ज़लें पढ़
टिप्पणी की कि लिखने से पहले मैं कोई उस्ताद ढूंढूं - ग़ज़ल कहना सीखने के
लिए... भाई वाह. क्या सलाह है. मगर, मुझे कोई यह बताए कि फिर उसका उस्ताद कौन है
जिसने जमाने की पहली ग़ज़ल कही... हा..हा..हा..हा...)

ग़ज़ल

धुआं ही धुआं भरा है क्यों हर तरफ़
सवाल ही सवाल फैले हैं क्यों हर तरफ़.

आखिर क्यों नहीं इस मर्ज़ का इलाज
भीड़ की भीड़ मौजूद है क्यों हर तरफ़.

समाज, देश, विश्व की बातें भूल कर
सब अपनी भलाई में हैं क्यों हर तरफ़.

खाने, पीने, पहनने, ओढ़ने का क्या हो
बिकवालों की बस्ती है क्यों हर तरफ़.

अगरचे यहाँ जीना है मुश्किल तो फिर
मरना अधिक कठिन है क्यों हर तरफ़.

कहते हैं लोग कि कल हो न हो रवि,
फिर कल की चिंता है क्यों हर तरफ़.

आपके अमूल्य समय के लिए बहुत सारा धन्यवाद.
अपनी टिप्पणी अवश्य लिखें ताकि मेरी लेखनी को संबल मिलता रहे...

टिप्पणियाँ

ब्लॉगर: 2
  1. छा गये रवि जी आप तो| कुछ रतलाम के बारे में भी लिख डालिए|

    उत्तर देंहटाएं
  2. कुछ तो हुआ है। कल हो न हो।
    बढ़िया है।

    उत्तर देंहटाएं
आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

---प्रायोजक---

---***---

---प्रायोजक---

---***---

---प्रायोजक---

---***---

---प्रायोजक---

---***---

|हिन्दी_$type=list$count=8$page=1$va=1$au=0$src=random

|हास्य-व्यंग्य_$type=list$count=8$page=1$va=0$au=0$src=random

---प्रायोजक---

---***---

|तकनीक_$type=list$au=0$count=7$page=1$src=random-posts

नाम

तकनीकी ,1,अनूप शुक्ल,1,आलेख,6,आसपास की कहानियाँ,127,एलो,1,ऐलो,1,कहानी,1,गूगल,1,गूगल एल्लो,1,चोरी,4,छींटे और बौछारें,143,छींटें और बौछारें,337,जियो सिम,1,जुगलबंदी,49,तकनीक,44,तकनीकी,687,फ़िशिंग,1,मंजीत ठाकुर,1,मोबाइल,1,रिलायंस जियो,2,रेंसमवेयर,1,विंडोज रेस्क्यू,1,विविध,374,व्यंग्य,511,संस्मरण,1,साइबर अपराध,1,साइबर क्राइम,1,स्पैम,10,स्प्लॉग,2,हास्य,2,हिन्दी,500,hindi,1,
ltr
item
छींटे और बौछारें: इस देश का यारों क्या होगा...
इस देश का यारों क्या होगा...
छींटे और बौछारें
https://raviratlami.blogspot.com/2004/06/blog-post_30.html
https://raviratlami.blogspot.com/
https://raviratlami.blogspot.com/
https://raviratlami.blogspot.com/2004/06/blog-post_30.html
true
7370482
UTF-8
सभी पोस्ट लोड किया गया कोई पोस्ट नहीं मिला सभी देखें आगे पढ़ें जवाब दें जवाब रद्द करें मिटाएँ द्वारा मुखपृष्ठ पृष्ठ पोस्ट सभी देखें आपके लिए और रचनाएँ विषय ग्रंथालय SEARCH सभी पोस्ट आपके निवेदन से संबंधित कोई पोस्ट नहीं मिला मुख पृष्ठ पर वापस रविवार सोमवार मंगलवार बुधवार गुरूवार शुक्रवार शनिवार रवि सो मं बु गु शु शनि जनवरी फरवरी मार्च अप्रैल मई जून जुलाई अगस्त सितंबर अक्तूबर नवंबर दिसंबर जन फर मार्च अप्रैल मई जून जुला अग सितं अक्तू नवं दिसं अभी अभी 1 मिनट पहले $$1$$ minutes ago 1 घंटा पहले $$1$$ hours ago कल $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago 5 सप्ताह से भी पहले फॉलोअर फॉलो करें यह प्रीमियम सामग्री तालाबंद है STEP 1: Share to a social network STEP 2: Click the link on your social network सभी कोड कॉपी करें सभी कोड चुनें सभी कोड आपके क्लिपबोर्ड में कॉपी हैं कोड / टैक्स्ट कॉपी नहीं किया जा सका. कॉपी करने के लिए [CTRL]+[C] (या Mac पर CMD+C ) कुंजियाँ दबाएँ