देखिए, कहीं आपके भीतर से एकाध एनजीओ न निकल आए...

image

वैसे भी, जब चहुँ ओर हाहाकार, मारामारी, अव्यवस्था हो तो चहुँ ओर एजीओओं की दरकार तो होगी ही...

 

व्यंज़ल

 

देखिए जरा कौन एनजीओ हो गया है

वो प्रेमी भी आज एनजीओ हो गया है

 

यूं उसने भी ली थीं नींदें बहुत मगर

ख्वाब उसका अब एनजीओ हो गया है

 

कभी रहते थे लोग  भी इस शहर में

हर शख्स यहाँ एनजीओ हो गया है

 

बहुत सुनते थे तख़्तापलट की बातें

शायद वो एक एनजीओ हो गया है

 

बहुत काम का था रवि भी कभी

सुना है अब वो एनजीओ हो गया है

टिप्पणियाँ

विशाल लाइब्रेरी में से पढ़ें >

अधिक दिखाएं

---------------

छींटे और बौछारें का आनंद अपने स्मार्टफ़ोन पर बेहतर तरीके से लें. गूगल प्ले स्टोर से छींटे और बौछारें एंड्रायड ऐप्प image इंस्टाल करें.

इंटरनेट पर हिंदी साहित्य का खजाना:

इंटरनेट की पहली यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित व लोकप्रिय ईपत्रिका में पढ़ें 10,000 से भी अधिक साहित्यिक रचनाएँ

हिन्दी कम्प्यूटिंग के लिए काम की ढेरों कड़ियाँ - यहाँ क्लिक करें!

.  Subscribe in a reader

इस ब्लॉग की नई पोस्टें अपने ईमेल में प्राप्त करने हेतु अपना ईमेल पता नीचे भरें:

FeedBurner द्वारा प्रेषित

ऑनलाइन हिन्दी वर्ग पहेली खेलें

***

Google+ Followers

फ़ेसबुक में पसंद करें