वर्धा ब्लॉग सेमिनार 2013 : फ़ेसबुक, ट्विटर और ब्लॉग की जंग में जीत किसकी?

पिछले सेमिनार की भांति इस वर्ष भी हमने वर्धा में अपनी उपस्थिति आभासी दर्ज करवाई. अलबत्ता इस बार कुछ अलग तरीके से.

एक ऑडियो विजुअल प्रस्तुति तैयार कर भेजा गया, जिसे बताया गया कि सेमिनार के उद्घाटन सत्र में दिखाया गया तोलोगों को अच्छा खासा पसंद आया.

अब, जाहिर सी बात है कि इसमें कोई दो मत नहीं कि यदि किसी प्रस्तुति में यूनुस ख़ान की मख़मली, खनकदार, शानदार आवाज़ हो तो उस प्रस्तुति को हजार गुना प्रभावी तो होना ही था.

बहरहाल, आप ये प्रस्तुति यू-ट्यूब पर इस लिंक से देख-सुन व डाउनलोड कर सकते हैं -

http://www.youtube.com/embed/Uuq7WxHHbhI

यदि आपका ब्राउजर आधुनिक किस्म का है, और नीचे यू-ट्यूब प्लेयर दिख रहा है तो आप इस वीडियो प्रस्तुति को नीचे दिए गए प्लेयर में प्ले बटन दबाकर यहीं पर देख सकते हैं. हाँ, स्पीकर फुल वॉल्यूम में ऑन करना न भूलिएगा :). -

यदि प्रस्तुति के पाठ (टैक्स्ट) धुंधले नजर आ रहे हों तो वीडियो HD मोड में चलाएं.

एक टिप्पणी भेजें

आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति बुधवारीय चर्चा मंच पर ।।

कुछ भी हो, ब्लॉग का मुकाबला नही है।
बहुत बढिया प्रस्तुति
आभार आप दोनों का

प्रणाम स्वीकार करें

सुना जी, बढ़ि‍या है.
ब्‍लॉगिंग अभी भी शब्‍दों की ही दुनि‍या है, चि‍त्रों की नहीं :-)

............
............

yugalbandi achhi hai.......


jai blogging


pranam.

रवि जी ये अच्छी बात नहीं है। इस बार आपसे भोपाल में मुलाकात नहीं हुई सोचा वर्धा में तो पक्का ही मिलेंगे। यहां भी आप आभासी गच्चा दे गए।

ब्लॉगमेव जयते, सच में, अत्यन्त प्रभावी प्रस्तुतीकरण।

May i know whose voice is this?
Excellent Voice Quality...........congrats

If you listen from very begining, you will know that the voice is Yunus Khan's - the famous Radio Announcer from Vividh Bharti, Mumbai.

छा गए आप और युनुस -जब दो हुनरमंद मिलते हैं तो कुछ कमल हो जाता है -जबरदस्त प्रस्तुति! हैट्स आफ तो यू बोथ !

बहुत बढ़िया ...अभिव्यक्ति के इस माध्यम से जुड़ा सशक्त प्रस्तुतीकरण

उद्घाटन सत्र की जान थी यह प्रस्तुति..

सुनाने की कोशिश करते हैं (y)

सुंदर प्रस्तुति !

मैंने ये वीडियो देखा, बहुत सुन्दर आवाज़ में प्रस्तुत किया है युनुस जी, आप दोनों का बहुत ही अच्छा विश्लेषण है ये!! आभार।।

ऐसे आयोजन ही हिंदी ब्‍लॉगिंग और सोशल मीडिया को समृद्ध करेंगे।

फेसबुक अपनी जगह है और ब्‍लॉगिंग अपनी जगह। दोनों की तुलना इस लिहाज से करना कि कौन श्रेष्‍ठ है। मुझे उचित नहीं लगता।

दोनों माध्‍यम अपने अपने स्‍तर पर काम करते हैं। एक का काम रचनाधर्मिता को प्रशय देना है तो दूसरे का काम नेटवर्क बनाना।

जो लोग घालमेल कर रहे हैं, यह दोष उनका है कि वे दोनों में एक का चुनाव कर रहे हैं। लेकिन जो लोग जहां स्‍वतंत्रता या मुक्ति पा रहे हैं, उन्‍हें वहीं होना चाहिए।

बीस से अधिक ब्‍लॉगरों को मैं जानता हूं जो लिखने के लिए ब्‍लॉग में जाते हैं और सोश्‍ल कनेक्‍शन के लिए फेसबुक या ट्विटर पर मौजूद हैं...

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

[blogger][facebook]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget