मंगलवार, 14 मई 2013

अमर उजाला पोर्टल / ब्लॉग-एग्रीगेटर हेतु हिंदी ब्लॉगरों को आमंत्रण

अमर उजाला पोर्टल में भी अब जागरण जंक्शन और नवभारत टाइम्स की तर्ज पर हिंदी ब्लॉगरों की चौपाल सजेगी. इसमें इन दोनों के विपरीत खूबी यह है कि इसमें हिंदी ब्लॉग एग्रीगेटर भी सम्मिलित रहेगा. अभी तो आमंत्रण मिला है. देखते हैं आगे क्या सुविधा मिलती है. जो भी हो, यह है शुभ समाचार.

आमंत्रण निम्न है, जो सार्वजनिक है. यानी आपके लिए भी मुस्‍कान

 

प्रिय ब्लॉगर,
जैसा कि आपको विदित है अमर उजाला ब्लॉग पोर्टल आरंभ हो रहा है। हमें बेहद खुशी होगी कि यदि आपके ब्लाग पोस्ट भी हमारे इस मंच का हिस्सा बनें।
अमर उजाला का ब्लाग प्लेटफॉर्म आपकी बेहतरीन रचनाओं को और ज्यादा लोगों तक पहुँचाएगा। आइए जानें कैसे- 


प्रिंट सिंडीकेशनः
आने वाले समय में बेहतरीन ब्लॉग को अमर उजाला के संपादकीय पेज पर - 'संपादक की पसंद' के नाम से प्रकाशित करने की योजना है।
इसके अलावा विभिन्न मुद्दों पर ब्लागर्स की राय भी हम अखबार में प्रकाशित की जा सकती है


फेसबुक:
करीब 58 हजार लोगों से जुड़े अमर उजाला के फेसबुक पेज की वाल पर नियमित तौर पर दो ब्लॉग पोस्ट प्रकाशित करने की योजना है।
इसके माध्यम से आपकी पोस्ट वायरल होकर लगभग एक लाख लोगों तक पहुंच सकती है।


समसामयिक:
करेंट अफेयर और खास मौकों पर आ‌धारित ब्लॉग कांटेस्ट की योजना है, जिसके विजेता ब्लॉगर की रचना को हम प्रिंट एडिशन में भी स्थान देंगे।

 
कुछ अपेक्षाएं :
रचनाएं मौलिक होने के साथ साथ शाब्दिक स्तर पर संपन्न हों।
राष्ट्रीय और समाजिक नैतिकता का ध्यान रखें।
भड़काऊ और आपत्तिजनक सामग्री से परहेज रखें।


हमारी योजना:
अमर उजाला पर खुद का ब्लाग बनाएँ -  अमर उजाला का ब्लाग लांच होते ही आपको सूचना भेजी जाएगी। आप सीधे अपनी लॉगिन आईडी बनाकर हमारे प्लेटफार्म पर ब्लॉग लिख सकते हैं।
एग्रीगेटर -अमर उजाला एग्रीगेटर के जरिए भी विभिन्न ब्लॉग RSS फीड लेने की योजना बना रहा है। इसके लिए हमें चाहिए सिर्फ आपकी सहमति और आपके ब्लाग का नाम।


क्या करें :
तो अमर उजाला के ब्लॉगर परिवार में आपका स्वागत है। अपनी सहमति vinita@del.amarujala.com पर भेजें।
Vineeta Vashisth

Deputy News Editor
Amar Ujala Publication
C-21-22, Sec-59, Noida

16 blogger-facebook:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि की चर्चा कल बुधवार (15-05-2013) के "आपके् लिंक आपके शब्द..." (चर्चा मंच-1245) पर भी होगी!
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  2. आज की ब्लॉग बुलेटिन ब्लॉग बुलेटिन पर मेरी पहली बुलेटिन में आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है। सादर आभार।।

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुन्दर प्रयास, साहित्य और ब्लॉग का विस्तार हो।

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत उपयोगी जानकारी...

    उत्तर देंहटाएं
  5. बढ़िया ,मैंने अपनी सहमती भेज दी.

    उत्तर देंहटाएं
  6. आपका प्रयास सराहनीय है .... सफलता की अनंत शुभकामनाओं के साथ
    आभार

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत सुखद समाचार,आशा है शीघ्र ही शुरू होगी साईट आपकी और शायद शेष सबसे बेहतर भी.

    उत्तर देंहटाएं
  8. इस बारे में आपसे व्‍यक्तिगत रूप से बात करनी पडेगी।

    उत्तर देंहटाएं

  9. ईमेल से प्राप्त प्रवीण कुमार की टिप्पणी :


    आपकी पोस्ट पढ़कर अमर उजाला को भेजा गया ईमेल.

    धन्यवाद

    आपका हितचिन्तक:
    प्रवीण
    आदरणीय विनीता जी
    अमर उजाला
    कानपुर


    आपका प्रयास अतिउत्तम है पर आपत्तिजनक और भड़काऊ सामग्री वाली बात समझ नहीं आई. इसमें आपको क्या कठिनाई है जबकि आप स्वयं पहले दर्जे की अश्लील सामग्री अपनी वेबसाइट पर डाल रहे हैं. भाषा की जहाँ तक बात है उसका तो कचरा आप लोग पहले ही कर चुके हैं हिन्दी में अंग्रेजी जबरन घुसाकर ऊपर से अब देवनागरी लिपि का भी आप लोगों ने दिवाला निकाल दिया है, हर जगह रोमन घुसाई जा रही है जैसे हिन्दी और देवनागरी कंगाल हो चुकी हों.

    आधुनिकता के नाम पर हिन्दी का विनाश बंद करवाईए. और आपत्तिजनक और भड़काऊ सामग्री पर दोगुलापन बंद कीजिए. मैं अपने परिवार के साथ आपकी वेबसाइट खोल कर नहीं बैठ सकता. क्या हिन्दी समाचार-पत्र इतने निम्न स्तर तक चले गए हैं.

    वकील हूँ यहाँ मुंबई में, आप लोग वेबसाइट पर अश्लील सामग्री डालकर कई नियमों का उल्लंघन कर रहे हैं.

    आपसे अनुरोध है अपनी वेबसाइट से अश्लील और आपत्तिजनक सामग्री तुरंत हटवा दें.

    हिन्दी में अंग्रेजी की घुसपैठ बंद करवाएँ.

    आपके उत्तर की प्रतीक्षा है, उत्तर अवश्य भेजें.

    भवदीय
    प्रवीण कुमार
    मुंबई

    उत्तर देंहटाएं

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

---------------------------------------------------------

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------