आसपास की कहानियाँ ||  छींटें और बौछारें ||  तकनीकी ||  विविध ||  व्यंग्य ||  हिन्दी || 2000+ तकनीकी और हास्य-व्यंग्य रचनाएँ -

मैं आज भी कभी किसी से माफ़ी नहीं मांगता

या, माफ़ी माँगना मेरी फितरत में नहीं है!

टिप्पणियाँ

  1. संजय दत्त की गलती बस इतनी है की उसने लायसेंस नहीं लिया और गन रखा लिया हालाँकि हम जिस देश में रहते हैं उसकी न्याय व्यवस्था का सम्मान करना चाहिए। गलत गलत है किन्तु सजा भी एक हद तक ही ....मेरी सोच में लायसेंस न होने के लिए डेढ़ साल पर्याप्त हैं जो विचारणीय है

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. सर जी ak 56 एक एसल्ट राइफल है ... एक बार मे पूरी मगजीन खाली होती है ... .32 का पिस्टल रखा होता बिना लायसेंस का तो एक बार को बात समझ मे आती है पर इस मामले मे केवल हथियार रखना ही संजय की गलती नहीं है ... धमाके की साजिश की जानकारी भी थी और इस जानकारी को पुलिस के साथ सांझा नहीं करना भी गलत है ! जब लोग उन को नायक मानते हो ... ऐसे कारनामे कर ही वो खलनायक बने है ! सज़ा जायज़ है ... कानून सब के लिए एक सा होना चाहिए !

      हटाएं
  2. किए की सज़ा तो मिलनी ही चाहिए भले ही माफी मांगे या न मांगे !


    आज की ब्लॉग बुलेटिन 'खलनायक' को छोड़ो, असली नायक से मिलो - ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  3. इतना हल्ला और ड्रामा क्यों | असल ज़िन्दगी में भी फ़िल्मी ड्रामा कर रहे हैं मामू | बहुत बढ़िया लेख | पढ़कर आनंद आया | आभार

    कभी यहाँ भी पधारें और लेखन भाने पर अनुसरण अथवा टिपण्णी के रूप में स्नेह प्रकट करने की कृपा करें |
    Tamasha-E-Zindagi
    Tamashaezindagi FB Page

    उत्तर देंहटाएं
  4. मर्यादा से सत्य स्वीकार्य हो..

    उत्तर देंहटाएं
  5. संजय दत्त को मासूम बताने की मुहिम चल रही है हालाँकि पुलिस के पास उनके विभिन्न गैंगस्टरों और आतंकियों से बातचीत के रिकॉर्ड हैं। उसने केवल एक राइफल ही नहीं बल्कि कई गन तथा ग्रेनेड भी अपने घर में रखे। अब बोल तो ऐसे रहा है जैसे आत्मसमर्पण करके देश पर कोई अहसान करेगा।

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

विशाल लाइब्रेरी में से पढ़ें >

अधिक दिखाएं

---------------

छींटे और बौछारें का आनंद अपने स्मार्टफ़ोन पर बेहतर तरीके से लें. गूगल प्ले स्टोर से छींटे और बौछारें एंड्रायड ऐप्प image इंस्टाल करें.

इंटरनेट पर हिंदी साहित्य का खजाना:

इंटरनेट की पहली यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित व लोकप्रिय ईपत्रिका में पढ़ें 10,000 से भी अधिक साहित्यिक रचनाएँ

हिन्दी कम्प्यूटिंग के लिए काम की ढेरों कड़ियाँ - यहाँ क्लिक करें!

.  Subscribe in a reader

इस ब्लॉग की नई पोस्टें अपने ईमेल में प्राप्त करने हेतु अपना ईमेल पता नीचे भरें:

FeedBurner द्वारा प्रेषित

ऑनलाइन हिन्दी वर्ग पहेली खेलें

***

Google+ Followers

फ़ेसबुक में पसंद करें