आसपास की कहानियाँ ||  छींटें और बौछारें ||  तकनीकी ||  विविध ||  व्यंग्य ||  हिन्दी || 2000+ तकनीकी और हास्य-व्यंग्य रचनाएँ -

नेगेटिव एनर्जी से आपकी ऑनलाइन जीवनी आक्रांत है? जरा ये उपाय अपना देखें!

clip_image001

वास्तु-शास्त्रियों के मुताबिक मैनिट – यानी मौलाना आजाद नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉज़ी – संस्थान में एक फव्वारे को गलत दिशा में स्थापित किए जाने के कारण वहाँ नेगेटिव एनर्जी बह रही थी. और उस नेगेटिव एनर्जी को दूर भगाने के लिए उस खूबसूरत वाटर-फाउंटेन को ढहा दिया गया.

दरअसल, मेनिट समस्याओं से लंबे समय से ग्रस्त है. एक पूर्व मेनिट डायरेक्टर अपने कार्यकाल में घपलों घोटालों और अपने नजदीकियों को उपकृत करने और मनमानी नियुक्तियां देने में समस्या ग्रस्त रहे, तो वर्तमान में मेनिट के कुछ प्रोफ़ेसर तकनीकी कॉलेजों को स्वीकृति देने के मामले में घूस लेते रंगे हाथों पकड़े गए. कुछ छात्रों के साथ भी समस्याएं आती रही हैं. और यह सब नेगेटिव एनर्जी की वजह से होता रहा है.

फ़व्वारे को हटाने से शायद अब नेगेटिव इनर्जी का प्रवाह न हो, और संस्थान का भला हो! या फिर फ़व्वारे को नए सिरे से, जिस दिशा में स्थापित था उसकी उल्टी दिशा में स्थापित करें तो शायद पॉजिटिव एनर्जी बहने लगे, और समस्या ग्रस्त डायरेक्टर, प्रोफ़ेसरों और छात्रों का कल्याण हो!

मेनिट ने तो अपना भला कर लिया. पर, क्या आपने अपने बारे में सोचा है?

आप अपनी ऑनलाइन जीवनी से आक्रांत हैं? आप ब्लॉग पर, फेसबुक पर एक से एक धांसू पोस्ट पे पोस्ट लिखते हैं, हर दस मिनट में स्टेटस अपडेट करते हैं, मगर कोई नामुराद न तो कमेंट मारने आता है न लाइक करके जाता है. कोई गूगल प्लस में जोड़ता भी नहीं. जबकि दूसरे चार लाइन की पोस्ट मारते हैं तो चौबीसों लाइनों वाली चालीसों टिप्पणियाँ मिलती हैं. दूसरे जब स्टेटस अपडेट मारते हैं कि वो मुंह धो रहे हैं तो सैकड़ों लाइक हो जाते हैं जबकि आप देश की स्थिति के बारे में गंभीर से गंभीर स्टेटस अपडेट मारते हैं तो कोई मक्खी भी वहां मुंह नहीं मारती.

कारण समझ में आया?

वही, नेगेटिव एनर्जी. जो आपके कंप्यूटर और लैपटॉप के आजू बाजू प्रवाहित होते रहती है, वही आपके लिए समस्या पैदा करती है.

अब जरा देखें कि इसके लिए क्या किया जा सकता है. इस समस्या को लेकर मैंने कुछ जानकार वास्तुशास्त्रियों से बातचीत की तो उन्होंने अपनी ओर से कुछ समाधान मुझे बताए. मैं स्वार्थी नहीं बनना चाहता लिहाजा  आपके लिए वे सारे जबरदस्त समाधान लेकर आया हूँ. अब आपको सफल ब्लॉगर और फेसबुकिया बनने से कोई नहीं रोक सकता. बस निम्न उपाय आजमाएं.

· कंप्यूटर पर अपने बैठने की दिशा बदल दें. पूरब में बैठते हों तो पश्चिम की ओर मुख कर लें, और पश्चिम में मुख रहता हो तो पूर्व की ओर कर लें. बैठ कर लिखते हों तो लेटकर लिखें और यदि लेपटॉप में लेटकर आराम से लिखने की आदत है तो बैठ कर या फिर खड़े होकर लिखें. अति उत्तम समाधान के लिए बाबा श्री श्री खड़ेश्वर देव की तरह एक टाँग पर खड़े होकर भी लिख सकते हैं जिसमें परिपूर्ण धनात्मक ऊर्जा की पूरी गारंटी है, तब फिर नेगेटिव ऊर्जा तो आपके आसपास कहीं फटक भी नहीं पाएगी.

· आप कौन सा कीबोर्ड प्रयोग करते हैं? मैं रेमिंगटन-इनस्क्रिप्ट-फ़ोनेटिक की बात नहीं कर रहा. आईबाल, इंटैक्स या टीवीएस की बात कर रहा हूँ. जल्द से जल्द अपना ब्रांड बदलें. आपके वर्तमान ब्रांड का कीबोर्ड आपकी पोस्टों-अपडेटों में जबर्दस्त नेगेटिव एनर्जी भर रहा है.

· प्रोसेसर, ऑपरेटिंग सिस्टम कौन सा प्रयोग कर रहे हैं? आपके द्वारा वर्तमान में प्रयोग किए जा रहे सिस्टम में नेगेटिव ही नेगेटिव एनर्जी है. भला चाहते हैं तो वर्तमान को तत्काल तोड़ कर निकालें और बदल लें. तोड़ कर निकालने से नेगेटिव ऊर्जा का प्रवाह भी टूट जाएगा.

· आपने अपने ब्लॉग और फेसबुक पेज में कौन सी कलर थीम लगाई है? आपका वर्तमान कलर थीम तो नेगेटिव ऊर्जा से भरपूर है. वो तो आपको क्या आपके ब्लॉग प्रशंसकों और फेसबुक मित्रों को भी अपनी चपेट में ले रहा है. अपनी नहीं तो कम से कम दूसरों का भला तो करें. जल्द से जल्द थीम बदलें. एकदम डार्क थीम बहुत बेहतरीन होता है. क्योंकि पठन-पाठन में कठिनाई होने से टिप्पणियोँ और लाइक मिलने की संभावना बहुत बढ़ जाती है. क्योंकि यह तो सर्वविदित तथ्य है कि जितना ज्यादा पढ़ा और समझा जाता है, टिप्पणियों के प्राप्त होने, लाइक होने की संख्या उतनी ही कम होती जाती है.

· अब जरा बताएंगे कि आप अपने पीसी में मॉनीटर कौन सा प्रयोग करते हैं? कितने इंची वाला प्रयोग करते हैं? एलसीडी प्रयोग करते हैं या एलईडी? यही हाल लैपटॉप का भी है. अपना वर्तमान ब्रांड जो आपके साइबर दुनिया में नेगेटिव एनर्जी भर रहा है, उसे दन्न से बदल डालें. अभी.

· और, अंत में – सबसे बड़ा समस्याकारक है आपका कंप्यूटर टेबल. उसमें एक अतिरिक्त पाया लगवा लें जो नेगेटिव एनर्जी को दूर करता है और भरपूर पॉजीटिव ऊर्जा लाता है. वैकल्पिक रूप से आप टेबल का एक पाया तोड़ लें, और स्टेबल करने के लिए दीवार का सहारा लें. दीवार के सहारे नेगेटिव एनर्जी धरती में चली जाएगी, और आपका साइबर कल्याण होने में देर नहीं लगेगी. यदि आप ऑनलाइन कामधाम के लिए लैपटॉप/टैबलेट/मोबाइल फ़ोनों का प्रयोग करते हैं तो जल्द से जल्द इनसे छुटकारा पा लें. क्योंकि ये तो नेगेटिव ऊर्जा से भरपूर होते हैं. वापस पीसी का प्रयोग करना चालू कर दें और, ऊपर बताया गया टोटका अपनाएं. पॉजिटिव देवता जो पॉजिटिव ऊर्जा देते हैं आपका कल्याण करेंगे और नेगेटिव असुर को आपसे दूर रखेंगे.

आमीन!

टिप्पणियाँ

  1. बदल बदल का खेल खेलते रहें, कभी न कभी सफलता मिल जायेगी।

    उत्तर देंहटाएं
  2. मेरा धाँसू विश्लेषण कहता है पिले रंग का सुअर नेगेटिव उर्जा दे रहा है. इसे नीला कर दें. कोई कारण नहीं कि अब तक तीस टिप्पणियाँ न आती, मगर सब उर्जा का खेल है.

    अच्छा अपके चश्में की डंडी किस रंग की है? :)

    उत्तर देंहटाएं
  3. यह पढ़ते ही नेगेटिव एनर्जी झटक दी मैने!

    उत्तर देंहटाएं
  4. फिर भी समस्या दूर ना हो तो रचनाकार के नाम Rs ५०० का चेक
    भेज दें ,कृपा आनी शुरू हो जायेगी,यानी + energy की supply
    होने लगेगी.

    उत्तर देंहटाएं
  5. जय बाबा ऑनलाइन वाले :)

    उत्तर देंहटाएं
  6. आपके बताए उपायों पर अमल करने से तो अच्‍छा है कि मैं नेगेटिव एनर्जी के साथ ही रहूँ।

    खूब खबर ली आपने। मजा आ गया।

    उत्तर देंहटाएं
  7. जो भी भाई नैगेटिव ऍनर्जी भगाने के लिये कीबोर्ड, प्रोसैसर वगैरा बदल रहा हो, पुराना फेंकने की बजाय मुझे भिजवा दे। :)

    उत्तर देंहटाएं
  8. एक और कारगर तरीका है, अगर अब तक पॉजिटिव ही लिखते आए हैं तो कुछ नेगेटिव भी लिखें। आपका अति पॉजिटिव बहुत नेगेटिव एनर्जी प्रॉड्यूस कर रहा है।

    नेगेटिव लिखते ही नेगेटिव एनर्जी आपके पास से निकलकर दूसरे के पास चली जाएगी और चस्‍केदार बातें बनाने का जो आनन्‍द है वह भी उसके साथ ही दूसरे तक पहुंच जाएगा और आपकी पोस्‍ट और स्‍टेटस अपडेट पर टिप्‍पणियों की बाढ आ जाएगी।

    यह तरीका कारगर है, अभी एक राष्‍ट्रीय अखबार का संपादक और राष्‍ट्रीय आलोचक यह करते हुए पाए गए और खूब टिप्‍पणियां बटोरकर ले गए हैं...


    कभी कभार नेगेटिव प्‍लस नेगेटिव = पॉजिटिव भी हो जाता है.... :)

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

विशाल लाइब्रेरी में से पढ़ें >

अधिक दिखाएं

---------------

छींटे और बौछारें का आनंद अपने स्मार्टफ़ोन पर बेहतर तरीके से लें. गूगल प्ले स्टोर से छींटे और बौछारें एंड्रायड ऐप्प image इंस्टाल करें.

इंटरनेट पर हिंदी साहित्य का खजाना:

इंटरनेट की पहली यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित व लोकप्रिय ईपत्रिका में पढ़ें 10,000 से भी अधिक साहित्यिक रचनाएँ

हिन्दी कम्प्यूटिंग के लिए काम की ढेरों कड़ियाँ - यहाँ क्लिक करें!

.  Subscribe in a reader

इस ब्लॉग की नई पोस्टें अपने ईमेल में प्राप्त करने हेतु अपना ईमेल पता नीचे भरें:

FeedBurner द्वारा प्रेषित

ऑनलाइन हिन्दी वर्ग पहेली खेलें

***

Google+ Followers

फ़ेसबुक में पसंद करें