आसपास की कहानियाँ ||  छींटें और बौछारें ||  तकनीकी ||  विविध ||  व्यंग्य ||  हिन्दी || 2000+ तकनीकी और हास्य-व्यंग्य रचनाएँ -

ग़रीब कौन?

clip_image002

ग़रीब कौन?

धन्य है, योजना आयोग, धन्य है सरकार. ग़रीब को ग़रीब न छोड़ा. अमीर बना के ही दम लिया. सरकार के मुताबिक यदि कोई दिन भर के खाने में न्यूनतम 26 रुपया खर्च करता है, तो वो गरीब नहीं है. दूसरे शब्दों में वो अमीर है.

यदि किसी के खाने में 100 रुपए किलो की दाल है, भले ही पानीदार और पतली ही सही, तो वो गरीब नहीं है.

यदि किसी ने दिन में दो कट चाय पी ली, और एक अदद समोसा खा लिया तो वो गरीब नहीं है.

यदि किसी ने भूले भटके कभी 60 रुपए किलो की फूलगोभी की सब्जी खा ली तो वो किसी सूरत गरीब नहीं होगा.

और, मैं नाहक अपने आप को ग़रीब समझता था जो पेट्रोल के बढ़ते दाम को देखकर हायाबुसा और हार्लेडेविडसन के सपने देखना छोड़ अपनी पुरानी फटफटिया पर चिपका पड़ा था और किसी दिन पैदल हो जाने की संभावना को दिल से स्वीकार करने को तैयार बैठा था!

आपका अपने बारे में क्या विचार है? इस लिहाज से आप भी शर्तिया ग़रीब नहीं हो सकते. आप तो सात पुश्तों से बेहद अमीर खानदान से हैं. है ना?

---

व्यंज़ल

यहाँ कौन है अमीर और कौन ग़रीब

सरकार है गरीब या जनता ग़रीब

 

मानता था अपने को मैं अमीरों में

आज पता चला मुझसा नहीं ग़रीब

 

अमीर बनके देख लिया चारों तरफ

शांति के लिए बना जाए अब ग़रीब

 

संसद ही कर सकती है कायापलट

आज अमीरों में है जो कल था ग़रीब

 

मलाईदार पद कबाड़ी है हमने रवि

अब अपने को दिखाएँ कैसे ग़रीब

---

टिप्पणियाँ

  1. अमीरी का लेबल लगा गया कोई गरीब के माथे :)

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह बहुत ही सटीक चित्रण किया है।

    उत्तर देंहटाएं
  3. मैं तो गरीब हूँ इस हिसाब से। मेरे पिता इस हिसाब से तो बहुत अमीर हुए। चलिए अब गरीबों की संख्या देश में कम हो गयी। थू सरकार! थू सरकार!

    उत्तर देंहटाएं
  4. एक झटके में खुशहाली आ गयी।

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत ही सटीक चित्रण किया है। धन्यवाद|

    उत्तर देंहटाएं
  6. हम खुद को अमीर फील कर रहे हैं। जय हो!

    उत्तर देंहटाएं
  7. इस लिहाज से मैं तो अरबपति हो गया।

    उत्तर देंहटाएं
  8. इस हिसाब से तो हम सब अमीर ही है ... तो यह देश भी अमीर |वाह... वाह हमारी सरकार और योजना आयोग |रवि जी आपका व्यंग हमें पसंद आया |

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

विशाल लाइब्रेरी में से पढ़ें >

अधिक दिखाएं

---------------

छींटे और बौछारें का आनंद अपने स्मार्टफ़ोन पर बेहतर तरीके से लें. गूगल प्ले स्टोर से छींटे और बौछारें एंड्रायड ऐप्प image इंस्टाल करें.

इंटरनेट पर हिंदी साहित्य का खजाना:

इंटरनेट की पहली यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित व लोकप्रिय ईपत्रिका में पढ़ें 10,000 से भी अधिक साहित्यिक रचनाएँ

हिन्दी कम्प्यूटिंग के लिए काम की ढेरों कड़ियाँ - यहाँ क्लिक करें!

.  Subscribe in a reader

इस ब्लॉग की नई पोस्टें अपने ईमेल में प्राप्त करने हेतु अपना ईमेल पता नीचे भरें:

FeedBurner द्वारा प्रेषित

ऑनलाइन हिन्दी वर्ग पहेली खेलें

***

Google+ Followers

फ़ेसबुक में पसंद करें