टेढ़ी दुनिया पर रवि रतलामी की तिर्यक, तकनीकी रेखाएँ...

ग़रीब कौन?

clip_image002

ग़रीब कौन?

धन्य है, योजना आयोग, धन्य है सरकार. ग़रीब को ग़रीब न छोड़ा. अमीर बना के ही दम लिया. सरकार के मुताबिक यदि कोई दिन भर के खाने में न्यूनतम 26 रुपया खर्च करता है, तो वो गरीब नहीं है. दूसरे शब्दों में वो अमीर है.

यदि किसी के खाने में 100 रुपए किलो की दाल है, भले ही पानीदार और पतली ही सही, तो वो गरीब नहीं है.

यदि किसी ने दिन में दो कट चाय पी ली, और एक अदद समोसा खा लिया तो वो गरीब नहीं है.

यदि किसी ने भूले भटके कभी 60 रुपए किलो की फूलगोभी की सब्जी खा ली तो वो किसी सूरत गरीब नहीं होगा.

और, मैं नाहक अपने आप को ग़रीब समझता था जो पेट्रोल के बढ़ते दाम को देखकर हायाबुसा और हार्लेडेविडसन के सपने देखना छोड़ अपनी पुरानी फटफटिया पर चिपका पड़ा था और किसी दिन पैदल हो जाने की संभावना को दिल से स्वीकार करने को तैयार बैठा था!

आपका अपने बारे में क्या विचार है? इस लिहाज से आप भी शर्तिया ग़रीब नहीं हो सकते. आप तो सात पुश्तों से बेहद अमीर खानदान से हैं. है ना?

---

व्यंज़ल

यहाँ कौन है अमीर और कौन ग़रीब

सरकार है गरीब या जनता ग़रीब

 

मानता था अपने को मैं अमीरों में

आज पता चला मुझसा नहीं ग़रीब

 

अमीर बनके देख लिया चारों तरफ

शांति के लिए बना जाए अब ग़रीब

 

संसद ही कर सकती है कायापलट

आज अमीरों में है जो कल था ग़रीब

 

मलाईदार पद कबाड़ी है हमने रवि

अब अपने को दिखाएँ कैसे ग़रीब

---

एक टिप्पणी भेजें

अमीरी का लेबल लगा गया कोई गरीब के माथे :)

वाह बहुत ही सटीक चित्रण किया है।

मैं तो गरीब हूँ इस हिसाब से। मेरे पिता इस हिसाब से तो बहुत अमीर हुए। चलिए अब गरीबों की संख्या देश में कम हो गयी। थू सरकार! थू सरकार!

एक झटके में खुशहाली आ गयी।

बहुत ही सटीक चित्रण किया है। धन्यवाद|

हम खुद को अमीर फील कर रहे हैं। जय हो!

इस लिहाज से मैं तो अरबपति हो गया।

इस हिसाब से तो हम सब अमीर ही है ... तो यह देश भी अमीर |वाह... वाह हमारी सरकार और योजना आयोग |रवि जी आपका व्यंग हमें पसंद आया |

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

अन्य रचनाएँ

[random][simplepost]

व्यंग्य

[व्यंग्य][random][column1]

विविध

[विविध][random][column1]

हिन्दी

[हिन्दी][random][column1]
[blogger][facebook]

तकनीकी

[तकनीकी][random][column1]

आपकी रूचि की और रचनाएँ -

[random][column1]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget