रविवार, 8 मई 2011

भगवान के लिए, टिप्पणियाँ माडरेट करें.​

यह चित्र देखें -​



यहां एक  प्रविष्टि पर २२६ टिप्पणियाँ दर्ज हैं.​
शुरू के १०-१५ तो जेनुइन हैं, और उसके बाद के सारे के सारे स्पैम. फर्जी साइटों के लिंक लिए हुए.​

अगर आप अपनी टिप्पणियों को माडरेट नहीं करते हैं तो चेत जाइए. देखिए कि आपके चिट्ठे की पुरानी पोस्टों में ऐसे स्पैम कमेंट डेरा डाले तो नहीं बैठे हैं.​

यह जाँच प्रविष्टि लिपिक.इन (http://lipik.in/hindi.html) के आनलाइन इनस्क्रिप्ट (​आप रेमिंगटन यानी कृतिदेव और फ़ोनेटिक में भी लिख सकते हैं) हिंदी टाइपिंग औजार के जरिए बिना हार्ड ड्राइव युक्त नोटबुक कंप्यूटर (हार्डड्राइव खराब हो गया तो यूएसबी पेन ड्राइव प्रयोग में) में बूटेबल लिनक्स मिंट यूएसबी पेन ड्राइव के जरिए, रिलायंस डेटा कार्ड का प्रयोग करते हुए यात्रा के बीच लिखा जा रहा है.​\

टेक्नोलाजी वाकई एडवांस हो गई है. एक मरते हुए नोटबुक को काम लायक जिंदा देखना, वो भी ब्राउजर में उपलब्ध सारे संसाधनों के जरिए. रोचक, अचंभित करने वाला अनुभव है.

7 टिप्पणियाँ./ अपनी प्रतिक्रिया लिखें:

  1. बहुत ही सुंदर जानकारी

    उत्तर देंहटाएं
  2. बूटेबल लिनक्स मिंट यूएसबी पेन ड्राइव के जरिए, रिलायंस डेटा कार्ड का प्रयोग करते हुए यात्रा के बीच लिखा जा रहा है
    @ मजेदार है लिनक्स | इन्स्टाल करते हुए भी अंतरजाल से सम्बंधित अपना कार्य करते रहो | ये लिनक्स में ही संभव है :)

    उत्तर देंहटाएं
  3. यथाप्रयास हिन्दी में ही लिखता हूँ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. हाय, किसका ब्लॉग है, समीरलाल को बीटता नजर आ रहा है! :)

    उत्तर देंहटाएं
  5. मेरे ब्लौग पर askimet ज्यादातर काम कर देता है. कुछ टिप्पणियां देखने में तो निर्दोष लगतीं हैं पर स्पैम होती हैं. ऐसी टिप्पणियों की बानगी देखिये:

    1. Wow, wonderful website! I regret why I didn't come here before.
    2. I congratulate you for your remarkable views and opinions on this article.
    3. I didn't know I'd get so much to read on your blog. I must check your archive now.

    अब मैं ऐसे कमेंट्स देखते ही पहचान लेता हूँ. ये सारे कमेंट्स फर्जी हैं और इनमें कहीं कहीं किसी लोन या SEO की बात भी लिंक्बद्ध होती है. लेकिन मैंने ऐसे बहुतेरे ब्लौग देखे जहाँ इन्हें संजो कर रखा गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  6. कहीं ऐसा तो नहीं कि ऐसा सिर्फ पोपुलर ब्लोग्स के साथ होता है :)

    उत्तर देंहटाएं
  7. एक टिप्पणी मेरी भी थी मेरे नाम से. वो स्पैम तो नहीं थी! कहां चली गई?

    उत्तर देंहटाएं

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

----

नया! छींटे और बौछारें का आनंद अपने स्मार्टफ़ोन पर बेहतर तरीके से लें. गूगल प्ले स्टोर से छींटे और बौछारें एंड्रायड ऐप्प image इंस्टाल करें. ---