रविवार, 24 अप्रैल 2011

अब हिंदी में करो मजेदार एसएमएस जी-भरके!

मैं शर्त लगा सकता हूँ कि आपके मोबाइल फ़ोन में हिंदी (रोमन तथा आजकल यूनिकोड दोनों में ही,) में एसएमएस वार-त्यौहार इक्का दुक्का ही सही  कभी न कभी आया ही होगा. और यदि आप एसएमएस प्रेमी हैं तो फिर क्या कहने. आपने सैकड़ों  हिंदी एसएमएस स्वयं भेजे होंगे, उससे ज्यादा फारवर्ड मारे होंगे और बहुत सारा इंटरनेट से कॉपी-पेस्ट भी किया होगा.

इंटरनेट पर हिंदी में मजेदार एसएमएस की अब दर्जनों साइटें हैं, जहाँ से आप हर किस्म के हर मूड के हर अवसर के एसएमएस रोमन/यूनिकोड हिंदी में प्राप्त कर सकते हैं और उनका बखूबी प्रयोग कर सकते हैं.

ऐसी ही एक साइट है हिंदी एसएमएस http://www.hindi-sms.com/ . यहाँ आपको हर तरह के एसएमएस मिलेंगे. हजारों की तादाद में. यदि आप किसी खास मूड के लिए एसएमएस ढूंढ रहे हैं तो आपकी खोज, बहुत संभव है कि हिंदी एसएमएस में खत्म हो जाएगी.

तेजी से लोकप्रिय होती इस  साइट के कुछ फ़ैक्ट फ़ाइल हैं -

 

  • इंटरनेट पर देवनागरी में SMS एकमात्र बहुत बड़ा संग्रह है जहां 600 पृष्ठों पर लगभग 5000 से अधिक SMS संग्रहित हैं, और नित्य अपडेट होता है. 
  • पहले इसे ब्लॉस्पॉट ब्लॉग पर बनाया गया था और जनवरी 2010 में स्वयं के डोमेन पर लाया गया।
  • मार्च 2011 मैं इस साइट पर 90000 युनीक विजिटर और 230000 पेजलोड्स थे। यानी मासिक पेजलोड्स ढाईलाख तक पहुँचता हुआ. रचनाकार पर प्रचुर रचनाएँ हैं. तीन हजार से ऊपर, मगर इसका मासिक पेजलोड एक लाख तक ही पहुँच पा रहा है. इससे हिंदी एसएमएस की लोकप्रियता व साइट की उपयोगिता का अंदाजा लगाया जा सकता है.
  • इस साइट पर 1600 से अधिक नियमित फीड रीडर हैं। - मैं उनमें से एक हूँ.
  • अधिकतर विजिटर युवा अथवा किशोर हैं और वे भारत के विभिन्न छोटे-बड़े शहरों से आते हैं।
  • इस साइट के प्रयोक्ता इसके लिंक फेसबुक और IBIBO जैसी साइटों पर भी डालते रहते हैं जिससे इस साइट को बहुत से विजिटर मिलते हैं।

 

साइट से  एक ताज़ा एसएमएस -

 

Der raat jab kisi ki yad sataye,

thandi hawa jab zulfon ko sehlaye.

Kar lo ankhe band or so jao kya pata,

jiska hai khyal wo khwabon main aa jaye.

 

देर रत जब किसी की याद सताए,

ठंडी हवा जब जुल्फों को सहलाये.

कर लो आंखे बंद और सो जाओ क्या पता,

जिसका है ख्याल वो ख्वाबों में आ जाये.

---

क्या खयाल है? कॉपी पेस्ट कर फ़ारवर्ड मार दें?

11 blogger-facebook:

  1. पर मोबाइल हिन्दी पढ़ पायें भी पर अपना लिख तो नहीं सकते हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुन्दर सी जानकारी के लिए धन्यवाद|

    उत्तर देंहटाएं
  3. बढि़या जानकारी.

    उत्तर देंहटाएं
  4. जाट देवता की राम-राम,
    आपकी जानकारी के लिये आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  5. निस्‍सन्‍देह उपयोगी और महत्‍वपूर्ण जानकारी।

    उत्तर देंहटाएं
  6. Bajarang dass vaishnav1:42 pm

    राम राम सा

    उत्तर देंहटाएं

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

---------------------------------------------------------

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------