आख़िर, कौन किसके चंगुल में है?

मियाँ मनमोहन, अब जरा ये भी तो बता दें कि आख़िर आप किसके चंगुल में हैं?

changul

 

--

व्यंज़ल

 

क्या फ़र्क कौन किसके चंगुल में है

जनता सदा से नेता के चंगुल में है

 

भविष्य  स्वर्णिम है यकीनन हमारा

क़ानून बाहुबलियों के चंगुल में है

 

अपनी मांद में ख़ैर मना लिए बहुत

अंतत: राठौर रूचिका के चंगुल में है

 

मेरे वतन का हो गया है अजब हाल

मंत्री अब नौकरशाहों के चंगुल में है

 

वक़्त ने पलटा है आज अपना पाँसा

वही वक़्त आज रवि के चंगुल में है

एक टिप्पणी भेजें

बहुत खूब !
मिंया पिछले ६-७ साल से सोनिया माता के चंगुल में है ! :)

देश "सेकुलरों" के चंगुल मे है. आधी समस्या तभी खत्म हो जाएगी जब देश उस चंगुल से निकल जाएगा.

बाकी तो जस राजा तस प्रजा
.. प्रधानमंत्री का बस नही तो फिर कोई क्या कहे

वक्त को चंगुल में फँसा लेने की बधाई :)

सर, बहुत सामयिक भावपूर्ण प्रस्तुति.. आभार

बहुत सामयिक भावपूर्ण प्रस्तुति.. आभार

नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं।

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

[blogger][facebook]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget