आदमी के सड़ा अचार बनने की तथा कथा...

sada aachar

वैसे, यूं तो आदमी, आदमी ही होता है. मगर कभी वो कुत्ता, कभी उल्लू, कभी गधा और कभी सूअर बन जाता है. यदा कदा कुछ अतिरेकी मामलों में वो बैल या शेर भी बन जाता है. मगर सड़ा अचार?

आधुनिक, कलियुग में वो सड़ा अचार भी बनने लगा है. यही तो कलियुग की पराकाष्ठा है कि अब आदमी हर काल्पनिक रूप से संभव निम्नतम रूप धारण कर सकता है. वो यह भी बन सकता है, वो वह भी बन सकता है और वो सड़ा अचार भी बन सकता है. खासकर भारत की धरती पर. यहाँ की मिट्टी और पानी में कुछ ऐसी खासियत है कि आदमी देखते देखते, दन्न से सड़ा अचार बन जाता है. एक दिन पहले तक वो पूज्यनीय, आदरणीय होता है, मगर किसी शानदार सुबह को पता चलता है कि अरे! वो तो सड़ा अचार हो गया है! आइए, जरा पड़ताल करें कि आदमी आखिर सड़ा अचार कब और क्यूं बन जाता है.

आदमी अगर बड़ा नेता है तो वो सड़ा अचार तब बन जाता है जब उसका करिश्मा खतम हो जाता है. उसके उठाए मुद्दे वोट खैंचू रूप से प्रभावी नहीं रहते. वो अपने दम पर अपने दल के, अपनी पार्टी के उम्मीदवारों को चुनाव नहीं जितवा सकता.

ठीक इसके उलट, आदमी अगर वोटर है, तो वो नेताओं के नजरों में भले ही हर पांचवें साल ऐन चुनावों के वक्त देवता माफ़िक हो, मगर चुनावों के निपटते ही वो सड़ा अचार के माफ़िक हो जाता है जो बिलावजह उनके द्वारा किए गए चुनावी वायदों को पूरा करने करवाने के लिए हाथ धोकर पीछे पड़ा रहता है.

आदमी अगर सरकारी अफसर है तो वो सड़ा अचार तब होता है जब वो ईमानदार होता है, रिश्वत नहीं लेता-देता और इस तरह से न तो वो जनता के किसी काम का होता है और न अपने बीवी बच्चों के. वो तो पूरे सिस्टम के लिए सड़ा अचार होता है – जो लेन-देन के चैनल को ब्रेक करता है. और, जाहिर है, ऐसे सड़े अचार अकसर लूप लाइन में पड़े रहते हैं.

कई मामलों में आदमी सड़ा अचार तब हो जाता है जब वो धर्मांधता का चश्मा पहन लेता है – पर फिर यहां बड़ी विडंबना यह होती है कि उसे अपने अलावा दूसरे सभी विधर्मी और सड़े अचार नजर आते हैं.

आदमी अगर बड़ा साहित्यकार है तो वो सड़ा अचार तब हो जाता है जब वो खुद तो लिखना अर्से से बन्द कर चुका होता है, मगर साहित्य की वर्तमान दशा पर, समकालीन साहित्यकारों पर, नवोदित रचनाकारों पर, सुधी पाठकों पर यानी कि सब पर अपनी भड़ास निकालता होता है कि लोग साहित्य का कचरा कर रहे हैं और इस तरह से वो अपने आप को छोड़ बाकी की सारी साहित्यिक जनता को सड़ा अचार बताने पर तुला होता है. कुछ एक्स्ट्रीम केसेज में वो प्रेमचंद और भारतेंदु को भी सड़ा अचार सिद्ध करने में तुल जाता है.

आदमी अगर संपादक है तो वो यकीनन उन तमाम लेखकों की नजर में सड़ा अचार होता है जिन्हें वो संपादक नहीं छापता. और इसके ठीक विपरीत ये लेखक संपादक की नजरों में सड़े अचार होते हैं जो सड़े अचार की माफ़िक घोर अपठनीय-अप्रकाशनीय रचनाओं पर रचनाएँ लिख मारते हैं. वैसे, इसे मरफ़ी के सड़े अचार का नियम कहा जा सकता है और यह सामान्य नियम सर्वत्र, जीवन के हर क्षेत्र में लागू होता है. उदाहरण के लिए, प्रेमी-प्रेमिका विवाह पश्चात् एक दूसरे के लिए सड़े अचार के माफ़िक हो जाते हैं.

बहुत हो ली सड़े अचार की बातें. और इससे पहले कि मुंह का जायक़ा खराब हो और आप इस सड़ियल व्यंग्य को सड़े अचार का विशेषण दे दें, आपके लिए एक सड़ा अचार आई मीन, एक शेर पेशे-नज़र है -

--

मेरे देश का सिस्टम कुछ यूँ है यारों

यहाँ आदमी बन गया है सड़ा अचार

टिप्पणियाँ

  1. मैथिली गुप्त8:12 pm

    सिर्फ एक शेर बस्स? ये तो बहुत नाइंसाफी है!

    उत्तर देंहटाएं
  2. अथ श्री सड़ा अचार कथा

    उत्तर देंहटाएं
  3. भईया आप भी कमाल लिखा है बस आप ऐसे ही प्रेरणा के श्रोत बने रहें. अम तो कई दिनों से आप के पोस्ट का इंतजार कर रहे थे परन्तु आज पूरी हुई. हिन्दी में तकनीके ब्लागों की वास्तव में कमी बहुत अधिक है आप का ब्लोग इस कमी को पूरा करता रहा है.
    आप का पाठक

    उत्तर देंहटाएं
  4. सारे चिट्ठे सड़े अचार तब लगते है जब आप अपना ब्लॉग शुरू कर क्रांति लाने का मुगलता पालते है....


    सब बेकार है जी मेरे सामने....सड़े अचार है....फिर क्या टिप्पणी करूँ....


    जमाना खराब है स्माइली मारनी पड़ेगी :)

    उत्तर देंहटाएं
  5. संजय जी, ये पंक्ति लिख कर मैं इस आलेख को परिपूर्ण करना चाहता था, इसका शीर्षक भी देने वाला था - चिट्ठाजगत् के सड़े अचार... मगर पंगे होने के डर से लिहाज कर गया. बहरहाल, इस आलेख को परिपूर्ण बनाने पर आपको साधुवाद :)

    उत्तर देंहटाएं
  6. सही कहा पूरा सिस्टम ही सडा अचार बन गया है।

    दुर्गापूजा एवं दशहरा की हार्दिक शुभकामनाएँ।
    -Zakir Ali ‘Rajnish’
    { Secretary-TSALIIM & SBAI }

    उत्तर देंहटाएं
  7. संजय जी टिप्पणी ने तो वाकई इस व्यंग्य लेख को पूरा कर दिया |

    उत्तर देंहटाएं
  8. sunny8:03 pm

    waah kya sadda kar rakh diya hei

    उत्तर देंहटाएं
  9. raviji achar ki kya vyakhya ki hai aapne.mai itna sadaa achar hun ki yahan hindi main nahee likh sakta. kudha ka shukr hai ki aapne seva se nivrrt aadmi ko sadaa achar nahee likha .saduvad

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

विशाल लाइब्रेरी में से पढ़ें >

अधिक दिखाएं

---------------

छींटे और बौछारें का आनंद अपने स्मार्टफ़ोन पर बेहतर तरीके से लें. गूगल प्ले स्टोर से छींटे और बौछारें एंड्रायड ऐप्प image इंस्टाल करें.

इंटरनेट पर हिंदी साहित्य का खजाना:

इंटरनेट की पहली यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित व लोकप्रिय ईपत्रिका में पढ़ें 10,000 से भी अधिक साहित्यिक रचनाएँ

हिन्दी कम्प्यूटिंग के लिए काम की ढेरों कड़ियाँ - यहाँ क्लिक करें!

.  Subscribe in a reader

इस ब्लॉग की नई पोस्टें अपने ईमेल में प्राप्त करने हेतु अपना ईमेल पता नीचे भरें:

FeedBurner द्वारा प्रेषित

ऑनलाइन हिन्दी वर्ग पहेली खेलें

***

Google+ Followers

फ़ेसबुक में पसंद करें