आसपास की कहानियाँ ||  छींटें और बौछारें ||  तकनीकी ||  विविध ||  व्यंग्य ||  हिन्दी || 2000+ तकनीकी और हास्य-व्यंग्य रचनाएँ -

जूते की अभिलाषा

चाह नहीं मैं नेता मंत्री के

ऊपर फेंका जाऊँ,

 

चाह नहीं प्रेस कान्फ्रेंस में

किसी पत्रकार को ललचाऊँ,

 

चाह नहीं, किसी समस्या के लिए

हे हरि, किसी के काम आऊँ

 

चाह नहीं, मजनूं के सिर पर,

किसी लैला से वारा जाऊँ!

 

मुझे पहन कर वनमाली!

उस पथ चल देना तुम,

संसद पथ पर देस लूटने

जिस पथ जावें वीर अनेक।

 

(श्रद्धेय माखनलाल चतुर्वेदी की आत्मा से क्षमायाचना सहित,)

(चित्र – साभार : सीएवीएस संचार)

वैसे, एक लट्ठ की मार्मिक अभिलाषा भी आप यहाँ पढ़ सकते हैं.

टिप्पणियाँ

  1. चले लुटेरे संसद पथ-
    पर जूता साथ नही देता।
    पत्रकार से उलझे नेता,
    बूता साथ नही देता।

    उत्तर देंहटाएं
  2. behtarin bahut bahiya,jute ki bhi koi chah hoti hai apni.

    उत्तर देंहटाएं
  3. शानदार अभिलाषा है। इस पर सारा देश निसार होने को तैयार है।
    ----------
    तस्‍लीम
    साइंस ब्‍लॉगर्स असोसिएशन

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाह वाह ! अब तो आपके द्वारा लिखी हुई 'जूते की आत्मकथा' भी पढने का मन हो रहा है ! एक श्रृंखला लिख डालिए.

    उत्तर देंहटाएं
  5. Juton ki pida bhi chipi hai in panktiyon mein.

    उत्तर देंहटाएं
  6. मुझे पहन कर वनमाली!

    उस पथ चल देना तुम,

    संसद पथ पर देस लूटने

    जिस पथ जावें वीर अनेक।

    उत्तर देंहटाएं
  7. बढिया पैरोडी ---बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  8. माखन लाल जी की आत्मा आशीष दे रही होगी आपको!!! आजकल के नेताओं के यही पुष्प हैं. :)

    उत्तर देंहटाएं
  9. और अगर श्रद्धेय माखनलाल चतुर्वेदी की आत्मा ने क्षमायाचना स्‍वीकार नहीं की, तो क्‍या विकल्‍प है ?

    उत्तर देंहटाएं
  10. जय हो .... जय हो बडे भईया ।
    भंदई पनही अप गोड ले मूड कोती जाये चाहत हे, दुनिया बदलत हे, अब पागा के जघा पनही ह नेता मन के मूडी म बने सुघ्‍घर फबही तईसे लागत हे।

    उत्तर देंहटाएं
  11. दु:ख की बात कि यह कविता पहले नहीं पढ़ पाया। जूते से उसकी अभिलाषा भी जान लेनी चाहिए।

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

विशाल लाइब्रेरी में से पढ़ें >

अधिक दिखाएं

---------------

छींटे और बौछारें का आनंद अपने स्मार्टफ़ोन पर बेहतर तरीके से लें. गूगल प्ले स्टोर से छींटे और बौछारें एंड्रायड ऐप्प image इंस्टाल करें.

इंटरनेट पर हिंदी साहित्य का खजाना:

इंटरनेट की पहली यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित व लोकप्रिय ईपत्रिका में पढ़ें 10,000 से भी अधिक साहित्यिक रचनाएँ

हिन्दी कम्प्यूटिंग के लिए काम की ढेरों कड़ियाँ - यहाँ क्लिक करें!

.  Subscribe in a reader

इस ब्लॉग की नई पोस्टें अपने ईमेल में प्राप्त करने हेतु अपना ईमेल पता नीचे भरें:

FeedBurner द्वारा प्रेषित

ऑनलाइन हिन्दी वर्ग पहेली खेलें

***

Google+ Followers

फ़ेसबुक में पसंद करें