सोमवार, 2 मार्च 2009

एक नया, ताजातरीन, 100% शुद्ध ‘प्रखर देवनागरी फ़ॉन्ट परिवर्तक’

dangisoft hindi font converter1

(चित्र को स्पष्ट, बड़े आकार में देखने के लिए उस पर क्लिक करें)

एक नया फ़ॉन्ट परिवर्तक ‘प्रखर देवनागरी फ़ॉन्ट परिवर्तक’ हाल ही में रिलीज किया गया है जो दर्जन भर से ज्यादा पुराने आस्की हिन्दी फ़ॉन्टों – यथा कृतिदेव, डेवलिस, शुषा, युवराज, चाणक्य, डीवीटीटी योगेश इत्यादि को पूरी परिशुद्धता के साथ यूनिकोड हिन्दी फ़ॉन्ट में बदलता है.

वैसे तो तकनीकी हिन्दी समूह के फाइल खण्ड में अनुनाद सिंह और नारायण प्रसाद द्वारा बनाए गए दर्जनों किस्म के पुराने नए हिन्दी फ़ॉन्टों के यूनिकोड और यूनिकोड से वापस इन्हीं फ़ॉन्टों में परिवर्तक उपलब्ध हैं, और यही नहीं, ये हमेशा उपयोक्ताओं की मांग पर विविध हिन्दी फ़ॉन्टों के परिवर्तक मुक्त व मुफ़्त ओपन सोर्क की तर्ज पर तत्परता से उपलब्ध करवाते रहते हैं. मैं स्वयं इन परिवर्तकों का प्रयोग रचनाकार की सामग्री को परिवर्तित करने के लिए नित्य करता हूं, और इनमें से बहुत से परिवर्तक तो प्रायः शत-प्रतिशत तक शुद्धता से परिणाम देते हैं.

मगर ये परिवर्तक ब्राउजर आधारित होने से इनमें कुछ समस्याएँ यदा-कदा आती रहती हैं – जिनमें मुख्य है बहुत बड़ी फाइल को एक साथ फ़ॉन्ट परिवर्तन करने में समस्या. तथा अलग अलग फ़ॉन्टों के लिए अलग अलग फाइलें. इन समस्याओं का एक हल हो सकता है – जगदीप डांगी का बनाया हुआ नया हिन्दी फ़ॉन्ट परिवर्तक – प्रखर देवनागरी फ़ॉन्ट परिवर्तक.

इसका परीक्षण संस्करण मैंने यहाँ से उतारा (800 किबा आकार, परंतु आपके कम्प्यूटर पर .net संस्थापित होना आवश्यक) और चलाकर देखा तो पाया कि यह विभिन्न फ़ॉन्टों के परीक्षण पाठ को 100 प्रतिशत शुद्धता से परिवर्तित कर रहा है. अभी इसमें कोई दर्जन भर निम्न फ़ॉन्टों के परिवर्तक उपलब्ध हैं, जिनमें बढ़ोत्तरी की जा रही है –

1. DevLys 010
2. DevLys 020
3. DevLys 020 Thin
4.DV-TTYogeshEN
5.DVW-TTSurekh
6.DVW-TTYogeshEN
7.Kruti Dev 010
8. Kruti Dev 020
9. Kruti Dev 020 (Space)
10.Shusha
11.Shusha05
12.Yuvraj

13.Chanakya

dangisoft hindi font converter3

जाहिर है, परीक्षण संस्करण सिर्फ एक पैरा पाठ को ही परिवर्तित करता है और बाकी के पाठ के लिए यह संदेस देता है -

dangisoft hindi font converter2

इसका पूरा संस्करण प्राप्त करने के लिए जगदीप डांगी से सीधे संपर्क किया जा सकता है. यदि आपके पास कोई अन्य हिन्दी फ़ॉन्ट है जिसका परिवर्तक उपलब्ध नहीं है या आप चाहते हैं कि वो इसमें आए, तो भी आप इसके लिए इसके डेवलपर से सम्पर्क कर सकते हैं. इनका पता है –

Er. Jagdeep Dangi
Ward No. 2,
Behind Co-operative Bank,
Station Area Ganj Basoda,
Distt. Vidisha (M.P.) India.
PIN- 464 221
Res. (07594) 222457
Mob. 09826343498
Profile: http://www.iiitm.ac.in/iiitm/Scientist_Eng/JDangi.htm

---

14 टिप्पणियाँ./ अपनी प्रतिक्रिया लिखें:

  1. यह तो बहुत उपयोगी सूचना है.
    Jagdeep ji ko is software ke liye dhnywaad.

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत काम की जानकारी.. अभी आजमाते हैं.. हिन्दी तकनीक के विकास और प्रचार-प्रसार के लिए जगदीश डांगी जी और आपका बहुत-बहुत आभार..

    उत्तर देंहटाएं
  3. डांगीजी के परिवर्तक के बारे में एक दो जगह पढ़ा, अब आपने भी लिखा है. आजमाया तो नहीं है, मगर अब देखना ही पड़ेगा.

    उत्तर देंहटाएं
  4. डांगी जी एक बेहद समर्पित कार्यकर्ता हैं, उन्हें मेरा नमन, जब इसका पूरा वर्जन आ जायेगा उसी समय डांगी जी माँग लेंगे… इस प्रकार के निस्वार्थ लोग ही हम जैसे "तकनीकी अज्ञानियों" के लिये एक लाइट हाउस का रूप होते हैं…

    उत्तर देंहटाएं
  5. सुरेश जी, पूरा संस्करण आ चुका है. तो आप डांगी जी से पूरा संस्करण मंगा सकते हैं. इस हेतु उनसे मोबाइल पर संपर्क कर सकते हैं. साइट पर डाउनलोड के लिंक में डेमो संस्करण का दिया गया है ताकि आप उसे एक बार प्रयोग कर देख लें कि वो कैसे चलता है, आपके काम का है भी या नहीं इत्यादि.

    उत्तर देंहटाएं
  6. शुक्रिया ..ढेरो शुक्रिया

    उत्तर देंहटाएं
  7. आपके सन्‍तुष्‍ट होने के बाद मुझ जैसों को तो कुछ समझना ही नहीं है। बस, आपके रतलाम आगमन की प्रतीक्षा मात्र करनी है।

    उत्तर देंहटाएं
  8. बढ़िया है, अपने तो किसी काम का नहीं लेकिन जिन लोगों का मसौदा अन्य फाँट में टाइप किया पड़ा है उनको इंटरनेट पर डालने के लिए यूनिकोड में बदलने में काफ़ी सहायक होगा! :)

    उत्तर देंहटाएं
  9. उपयोगी जानकारी है आपने, आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  10. इस उपयोगी तंत्र की जानकारी प्रदान करने के लिये आभार !!

    सस्नेह -- शास्त्री

    -- हर वैचारिक क्राति की नीव है लेखन, विचारों का आदानप्रदान, एवं सोचने के लिये प्रोत्साहन. हिन्दीजगत में एक सकारात्मक वैचारिक क्राति की जरूरत है.

    महज 10 साल में हिन्दी चिट्ठे यह कार्य कर सकते हैं. अत: नियमित रूप से लिखते रहें, एवं टिपिया कर साथियों को प्रोत्साहित करते रहें. (सारथी: http://www.Sarathi.info)

    उत्तर देंहटाएं
  11. सचमुच डांगी जी का कर्मठता और सृजनशीलता हम सबके लिये प्रेरणास्पद है। हिन्दी को अन्तरजाल पर प्रत्तिष्ष्ठ करने मे उनका योगदान बहुत बड़ा है। इस फाण्ट परिवर्तक से हिन्दी का और भी कन्टेन्ट यूनिकोडित होकर अन्तरजाल पर आये, यही कामना है।

    उत्तर देंहटाएं
  12. बेनामी4:37 pm

    this added here in this great tool

    http://sanskrittools.ourtoolbar.com

    उत्तर देंहटाएं

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

----

नया! छींटे और बौछारें का आनंद अपने स्मार्टफ़ोन पर बेहतर तरीके से लें. गूगल प्ले स्टोर से छींटे और बौछारें एंड्रायड ऐप्प image इंस्टाल करें. ---