यहाँ बहुत कुछ है. कुछ कीवर्ड से अपने काम का कुछ खोज देखें -

लोड हो रहा है. . .

रविवार, 16 नवंबर 2008

चुनावी गाइड : चुनाव जीतने के चंद श्योर शॉट तरीके

raviratlami's election guide

पता नहीं बराक ओबामा ने इस किताब की सहायता ली थी या नहीं, मगर अमरीकी चुनावों के दौरान माइकल मूर की किताब – माइक्स इलेक्शन गाइड 2008 की भरपूर बिक्री हुई. माइकल ने अपनी किताब में चुनाव जीतने के एक से एक बेहतरीन अंतर्राष्ट्रीय फंडे दिए हैं.

मगर, भारतीय संदर्भ में माइकल मूर के चुनावी फंडे पूरे असफल साबित होंगे. उनका चुनावी गाइड घोर असफल साबित होगा. यहाँ तो रविरतलामी के फंडे चलेंगे. कुछ फंडे अभी हालिया चुनावों में तमाम पार्टियाँ अपना चुकी हैं, और बाकी बचे फंडे आने वाले लोकसभा चुनावों में अपनाए जाएंगे. मतदाता तो जागरूक हो ही रहा है, लिहाजा चुनाव जीतने के लिए नेताओं को डबल जागरूक होना होगा. तमाम चुनावी गाइड और फंडों को यहाँ प्रकाशित करना संभव नहीं है, अलबत्ता हैप्पी चुनाव के लिए कुछ श्योर शॉट, आजमाए, अनुभूत नुस्ख़े यहाँ दिए जा रहे हैं –

1 – जनता जनार्दन बहुत दुःखी है. दुखी जनता को टीवी की बहुत आवश्यकता है. मुफ़्त में रंगीन टीवी देने का वादा अपने चुनावी घोषणापत्र में करें. इस एक घोषणा मात्र से तख्ता-पलट हो सकता है.

2 – भारत में गरीबी बहुत है. गरीबी बनाए रखना जरूरी है. वहीं से तो वोट हासिल होते हैं. चुनाव में वादा कीजिए दो रुपए किलो चावल देने का. यदि सामने वाली विरोधी पार्टी ने ये वादा पहले ही कर दिया है तो एक रुपए किलो में चावल देने का वादा करें.

3 – जातिवाद, क्षेत्रवाद, वंशवाद का गेम प्लान लाएं. दक्षिण से उत्तर भारतीयों और उत्तर से दक्षिण भारतीयों को (उदाहरण के तौर पर महाराष्ट्र से यूपी-बिहारी भाई को भगाने का नारा) भगाने का नारा लाएँ.

4 – मतदाताओं को शराब, करेंसी बांटें. एक एक वोट के लिए आप कितना बांट देंगे? मगर सोचिए, जीत गए तो कितने मिलेंगे!

5 – चुनाव में स्टार प्रचारकों का जमकर प्रयोग करें!

6 – कुछ दिमागदार मतदाता पप्पू बनने की सोचने लगे हैं. उन्हें लुभाने के नए तरीके अपनाएँ, नए चक्कर चलाएँ.

----