मंगलवार, 29 जुलाई 2008

आइए, विश्व के सबसे बड़े सर्च इंजिन पर खोजें हिन्दी

cuil - world's biggest search engine home page

विश्व का सबसे बड़ा (world’s biggest) सर्च इंजिन कौन सा है? आपके दिमाग में दन्न से कौंधेगा – गूगल. माफ़ कीजिए, आप ग़लत हैं. विश्व का सबसे बड़ा सर्च इंजिन है कुइल (Cuil – उच्चारण क्या सही है?)

cuil - world's biggest search engine

कुइल इसी सोमवार को जारी किया गया, और जारी होते ही इसने दावा किया कि ये विश्व का सबसे बड़ा सर्च इंजिन है – गूगल से भी बड़ा और माइक्रोसॉफ़्ट से भी बड़ा.

आइए, देखें कि इसके दावे में कितना दम है –

मैंने एक छोटे से, कम प्रचलित शब्द – Ratlam के लिए ढूंढा.

कुइल ने परिणाम कुछ यूँ फेंका –

cuil the new search for Ratlam

और गूगल ने कुछ यूँ दिखाया –

cuil the new search for Ratlam comparing with google

चलिए, यहाँ तो कुइल कुछ बाजी मारता दिखता है. उसका प्रस्तुतिकरण का अंदाज मजेदार और बढ़िया है, और अपने को काम की चीज पर दन्न से जाने में दिक्कत नहीं होगी. सर्च परिणाम भी संदर्भित और काम के हैं, और तीव्र प्राप्त हुए.

फिर मैंने हिन्दी में सर्च किया – प्रचलित शब्द ब्लॉगवाणी.

गूगल ने निकाले 75300 पृष्ठों की कड़ियाँ. आइए, देखें कि कुइल क्या कहता है –

cuil - world's biggest search engine searching for blogvani

लगता है कुइल हिन्दी नहीं समझता. हालाकि रोमन में ढूंढने से हिन्दी पृष्ठों को दिखाता तो है, परंतु सर्च इंटरफेस में हिन्दी डालते ही मामला गड़बड़ हो जाता है. तो, जब तक हिन्दी को ये ढूंढ कर नहीं बताएगा, इसे कैसे मान लें कि ये विश्व का सबसे बड़ा सर्च इंजिन है? विश्व का सबसे बड़ा सर्च इंजिन होने का दावा और हिन्दी खोज में सक्षम नहीं – बात कुछ जमी नहीं.

तो इसके मायने क्या? मायने यही कि अभी भी गूगल ही विश्व का सबसे बड़ा सर्च इंजिन है – मानो या ना मानो!

16 blogger-facebook:

  1. Cuil में एक और दिक्कत है, उसके परिणाम संख्या में तो बहुत हैं, लेकिन लगता है कि अभी रैंकिंग सिस्टम सटीक नहीं है. इसलिये पहले आने वाले परिणाम प्रमुझ साइटों के ही हैं, चाहे वो विषय पर इतनी जानकारी न दें. शायद आगे यह सब भी सही हो जाये.

    वैसे कुइल का आना शुभ संदेश है. अभी पिछले कुछ दिनों से गूगल दिशा से भटक रहा है और माइक्रोसॉफ्ट की तरह over-confidence में कम्युनिटि के विपरीत फैसले ले रहा है. मुझे कुइल और searchme जैसे प्रोजेक्ट्स से उम्मीद बंधती है

    उत्तर देंहटाएं
  2. अरे ये कई सर्च के लिए रोमन भी नहीं समझता :-) कल ही इसे ट्राई किया... कुछ ख़ास नहीं लगा, निराशा ही हाथ लगी.

    उत्तर देंहटाएं
  3. मैं इस सर्च इंजिन पर जा कर आया और फिर आपकी पोस्ट देखी. अंग्रेजी में तो सर्च कर रहा था, मगर हिन्दी में नहीं. इस पर पोस्ट ठेलने की सोची की आपकी पोस्ट दिख गई.


    फिलहाल तो गूगल ही सही है.

    उत्तर देंहटाएं
  4. Cuil अभी एक नया इंजिन है, सिर्फ अंगरेजी बोलता-लिखता है। हिंदी का एक भी शब्द मैं उसे नहीं सिखा सका हूं। देखते हैं, शायद कुछ बदलाव आयेगा जल्द ही। आखिर १ अरब लोगों का सवाल है!

    उत्तर देंहटाएं
  5. mere naam se kisi dusare ke baare me info de raha hai.. boo hoo hoo... :(

    google badhiya hai.. kam se kam mera naam se sahi info to deta hai.. :D

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत उपयोगी जानकारी. गूगल के लिये एक प्रतिस्पर्धी का होना जरूरी है.

    उत्तर देंहटाएं
  7. नाम का सही उच्चारण है "कूल"

    उत्तर देंहटाएं
  8. सहमत गूगल अभी भी सिरमौर है

    उत्तर देंहटाएं
  9. सही जानकारी , सही विश्लेषण । गूगल जिंदाबाद।

    उत्तर देंहटाएं
  10. अपने मुंह मियां मिठ्ठू!

    उत्तर देंहटाएं
  11. यह भी खूब रही! वाह, खोदा पहाड़ निकली चुहिया... और वह भी मरी हुई।

    उत्तर देंहटाएं
  12. रवी जी अभी तो गुगल ही बेहतर है.

    उत्तर देंहटाएं
  13. हमने भी इतवार को इसके बारे में अखबार में पढ़ा था, शास्त्री जी ने सही कहा, इसका सही उच्चारण बताया गया है कूल, और इसे बनाने वाले गूगल के ही पूर्व कर्मचारी हैं जो गूगल की रग रग से वाकिफ़ है तो अभी शायद ये गूगल के मुकाबले कम पड़ता हो लेकिन गूगल को भी अपनी सत्ता बनाये रखने के लिए कमर कसनी होगी और इन दो बिल्लियों की लड़ाई में यकीनन फ़ायदा हम बंदरों का यानि कि उपभोक्ताओं का ही होगा तो कूल का स्वागत है। गूगल ने भी चुनौती स्वीकार कर ली है। देखे आगे क्या होता है

    उत्तर देंहटाएं
  14. बेनामी9:16 pm

    रवी जी बहुत अच्छी जान्कारी दी है धन्यवाद
    click here
    www.fvsoft.blogspot.com

    Full Version Software Widget
    http://widgetbox.com/w.../full-version-softwares-ilu1434

    उत्तर देंहटाएं

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

---------------------------------------------------------

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------