अरे! ये तो लालू का ब्लॉग है – वो भी हिन्दी में

लालू यादव को मानना पड़ेगा. कुछ समय पहले ये आईटी वाईटी क्या होता है कहने वाले ब्लॉग लिख रहे हैं - वो भी हिन्दी में. अब जब लालू लिखेंगे तो उनकी अपनी मजेदार स्टाइल होगी, भाषा होगी... देखिए वे मंहगाई अपने भयानक योगदान के बारे में क्या कैसे कह रहे हैं -

ये जो प्राइस राइज़ है, ये बिल्कुल नॅशनल ही नहीं इंटरनॅशनल क्राइसिस है. बहुत सारे देशों में अन्न नहीं मिल रहे हैं जैसे कि मैं अभी मलेशिया गया था, वहाँ कौलालंपूर मैं गया था, तो उन राष्ट्रों में, बांग्लादेश, बगल के राष्ट्र हैं, युरोपियन कौंट्रिस में भी ग्रैन को छोड़ दीजिए पर बाकि चीज़ें हैं, फ्रूट हैं, या अन्य चीज़ें हैं, या ग्रैन नहीं मिलता लोगों को. काफ़ी हार्डशिप है इन कंपॅरिज़न टू इंडिया. जो अनाज, आटा, दाल, चावल.

और हम अपने देश में जो लोग हैं भारत के नागरिक, कम से कम भोजन रोटी, मान लो कई एक आइटम नहीं मिले पर नमक रोटी का भी प्रबन्ध भी मिनिमम जो होना चाहिए वो हम लोगों ने किया है यहाँ पर. एक्सपोर्ट को रोका, बहुत सारी चीज़ों में हमने रियायतें दी, कस्टम ड्यूटी, एक्साइस ड्यूटी, को भी हमने .

और दुनिया भर में जो फुएल है, स्टील है, सिमेन्ट है, स्टील में भी कुछ राहत मिला. तो भारतीय रेल जो है, आज़ादी के 60 साल के बाद फुड ग्रेन्स को जो हमने स्टोर कर दिया,ढो करके यहाँ पर मतलब, बफर स्टेट हमने. हमको ज़रूर नहीं है अनाज और गेहु माँगने का. पहले मंगा भी लिया अब समस्या हो रही है कि इसका डिस्पोज़ल कैसे करें.

और हमने यहाँ ज़रूर जो फॉर्वर्ड मार्केट था, मुंबई से जो संचारित होता था , एसेन्षियल कमॉडिटीस के कई एक आइटम्स पर इसको हमने समझा और विरोध करके इसको वेक्केंट कराया और नतीजा है को हमरा जो ग्रैन है , राइस है, ये जो प्राइवेट प्लेयर्स थे, फॉर्वर्ड मार्केटवाले किसानों से सीधा जा के उँचा दम दे के ले लेते थे.

तो उसको समाप्त करने के बाद हमने एलान किया है कि मेरा जो भयानक योगदान मेरा हैं, शरद पवार जी के आजू बाजू में दवा कर रहे हैं. ये हमने साफ साफ कहा कि एक कड़वा , एक भी छटाक़ प्राइवेट लोगों का गेहु का हम लोडिंग नहीं करेंगे और उसको बंद करो. हमारा पहले एफ सी आई का लोडिंग होगा. और सीधे किसानो को जो समर्थन मूल्य दिया है हमने वीट का या राइस का, इसका भी हमको लाभ हुआ. तो इसका दूसरी तरफ नुकसान भी हुआ. इसको कोवोर्डैनेट करना चाहिए था, और समय लगता है इस में. आज बफर स्टेट हमारा हो गया है.

फुएल का दाम आप जानते हैं. जितना इंडिया कन्स्यूम करता है, जितना हमारे लोग उपभोग कर रहे हैं. एक एक आदमी को फॅमिली को जो होप्स हैं, उमको पाँच-पाँच गाड़ी हैं और ये ज़्यादा कन्संप्षन हमारा बड़ा है.

.... लालू का यह पूरा ब्लॉग हिन्दी में यहाँ पढ़ें. आप इसे वहीं पर  उपलब्ध आडियो बटन की सहायता से सुन भी सकते हैं. गुज्जर आंदोलन पर उनका बेलौस ब्लॉग यहाँ है.

भाषा अंग्रेजी में हिन्दी है कि हिन्दी में अंग्रेज़ी है? जो भी हो, पूरा का पूरा, भयानक रूप से माईपॉपकार्न है!

(चित्र - साभार माईपॉपकार्न.कॉम )

एक टिप्पणी भेजें

:)..
mast hai ji..

इन्होने अपने ब्लॉग की शुरूआत गुर्जर आन्दोलन पर टिप्प्णी करके की थी. हमें भी उस पर टिप्पणी मारते हुए प्रसन्नता हुई थी :)


दोस्तीचारा देखिये...ब्लोग लिखवाय.


बिग अड्डा, अनील अंबानी का है, उनके दोस्त अमिताभजी है.

माय पोपकोर्न जी का है और लालूजी से इनकी दोस्ती है. आइ.ई.एल को रेल्वे स्टेडियम देने का ऑफर किये थे. इनका बेटा भी क्रिकेटर है तो यहाँ नहीं तो वहाँ कहीं खिलवा लेंगे. :)

:) angrezi mein hindi ya hindi mein angrezi, bolte toh hain aur full entertainment paisa vasool...:)
aap ki chirparichit kavita nahi aayi post ke saath, uski kami khal rahi hai

सही लिंक दिया है, आभार.

LALOO JEE KA VISHWASH MATT BHASHAN SUNNA SUNKAR YAHEE SOCHENE PAR MAJBOOR HO KYA DURBHAGYAA HAI HAMARA KEE KAISE KAISE LEADER HAMARE BHGYE MEI AAYE. NUCLEAR DEAL PAR GAMBHEER BAAT HONEE CHAYEE THEEY PAR PURE TIME LALOO JEE MUSHKHAREE KARTE RAHE UNKE BHASAN MEI KOI GAMBHIRTA NAHEE SANSAD DESH KEE SABSE BHADEE PANCHYAT HAI PAR LALOO JEE USE LAFTER CHANELL KA MANCH SAMAJHTE HAI. AISE JOKER KO RAJNEETEE SE BHAR RASTA DEKHANA CHAYEEYE.

ANIL GUPTA
NEW DELHI

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

[blogger][facebook]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget