आसपास की कहानियाँ ||  छींटें और बौछारें ||  तकनीकी ||  विविध ||  व्यंग्य ||  हिन्दी || 2000+ तकनीकी और हास्य-व्यंग्य रचनाएँ -

साइबर क़ैफ़े के विंडोज़ 98 पर यूनिकोड हिन्दी में काम कैसे करें


If you can't read Hindi, then Read this article in English here :

How to work in Unicode Hindi at Cyber Café's Windows 98 PCs


अभी भी, भारत में तमाम कारणों के चलते आमतौर पर सभी साइबर कैफ़े में आपको विंडोज़ 98 ही मिलते हैं.

विंडोज़ 98 में डिफ़ॉल्ट रूप में यूनिकोड हिन्दी संस्थापित नहीं होता है. इस वजह से साइबर कैफ़े में यूनिकोड हिन्दी में काम करना कुछ समय पहले तक बहुत ही मुश्किल भरा था. तमाम औजार जुटाने पड़ते थे तब कहीं विंडोज़ 98 में यूनिकोड हिन्दी दिखाई देती थी और उस पर काम किया जा सकता था.

अब कुछ अच्छे ऑनलाइन कुंजीपट के जरिए विंडोज़ 98 में यूनिकोड हिन्दी में काम करना अत्यंत आसान हो गया है. अतः साइबर कैफ़े में जहाँ विंडोज़ 98 पीसी ही आमतौर पर मिलते हैं, उनमें भी आसानी से यूनिकोड हिन्दी में काम किया जा सकता है. प्रस्तुत है चरण-दर-चरण विवरण -

प्रथम चरण - बीबीसी हिन्दी की साइट पर उपलब्ध यूनिकोड फ़ॉन्ट यहाँ से डाउनलोड कर उसे संस्थापित करें. इसे संस्थापित करने के लिए आपको कुछ नहीं करना है, बस इसे दोहरा क्लिक कर एक नियमित प्रोग्राम की तरह चलाना है. इसके बाद कम्प्यूटर को एक बार रीबूट अवश्य कर लें. यदि फ़ॉन्ट डाउनलोड कर चलाने में कुछ समस्या आए तो यहां पर दिया गया विवरण अवश्य पढ़ें.

अब आपका विंडोज़ 98 कम्प्यूटर यूनिकोड हिन्दी को दिखाने लायक तैयार हो गया है. किसी भी यूनिकोड हिन्दी साइट जैसे कि सृजनगाथा पर इंटरनेट एक्सप्लोरर के जरिए जाएँ तो यह अब आपको हिन्दी में पठन-पाठन योग्य दिखेगा.

अब सवाल यह है कि इस कम्प्यूटर पर यूनिकोड हिन्दी में टाइप कैसे करें. यह भी अब अत्यंत आसान है.

द्वितीय चरण - यूनिकोड हिन्दी टाइप करने के लिए आपको ऑनलाइन कुंजीपट चुनना होगा. साइबर क़ैफे में काम करने के लिए यही सर्वोत्तम और आसान विकल्प है. वैसे तो अब बहुत से ऑनलाइन कुंजीपट हैं विकल्प के तौर पर, परंतु प्रयोग में रमण कौल द्वारा बनाए गए ऑनलाइन कुंजीपट बेहतर और बढ़िया कार्य करते हैं और इनमें आपको कोई समस्या नहीं आती. यहाँ आपको हिन्दी कुंजीपट हेतु चार विकल्प मिलते हैं ध्वन्यात्मक, इनस्क्रिप्ट, शुषा और रेमिंगटन. कृतिदेव हिन्दी कुंजीपट आधारित एक ऑनलाइन कुंजीपट यहाँ पर भी है जिसका भी आप इस्तेमाल कर सकते हैं.

हिन्दी की जो सामग्री आपको लिखनी है, वह इनमें से किसी एक ऑनलाइन कुंजीपट में टाइप कर लें फिर कॉपी-पेस्ट कर उस सामग्री का इस्तेमाल आप कहीं पर भी कर सकते हैं.

ध्यान रखें - टाइप की गई यूनिकोड हिन्दी सामग्री का इस्तेमाल आप ऑनलाइन कार्यों - मसलन ब्लॉग लेखन, टिप्पणी लेखन व प्रकाशन, ईमेल प्रेषण इत्यादि के लिए ही कर सकते हैं. इस सामग्री को विंडोज़ 98 में स्थानीय कम्प्यूटर पर स्थानीय अनुप्रयोगों के जरिए सहेजने में आमतौर पर त्रुटियाँ आ जाती हैं, अतः इन्हें ऑनलाइन ही सहेजें.

तृतीय चरण (वैकल्पिक) - साइबर कैफ़े में आमतौर पर विंडोज़ 98 का डिफ़ॉल्ट इंटरनेट एक्सप्लोरर संस्करण 5 ही रहता है जो कि बहुत ही असुरक्षित है और उसमें आधुनिक सुविधा जैसे कि टैब्ड ब्राउज़िंग इत्यादि नहीं मिलती है. टैब्ड ब्राउज़िंग और सुरक्षित ब्राउज़िंग के लिए आप फ़ॉयरफ़ॉक्स या ऑपेरा डाउनलोड कर संस्थापित कर सकते हैं. ये सिर्फ लगभग 5 मे.बा. आकार के होते हैं, तीव्रता से डाउनलोड होते हैं और कुछ ही समय में आप इन्हें विंडोज़ 98 में संस्थापित कर सकते हैं. इनमें यूनिकोड हिन्दी थोड़ी सी टूटी फ़ूटी दिखाई देगी, मगर इसमें आपका काम चल जाएगा.

इन्हीं विधियों का प्रयोग कर मैंने एक साइबर कैफ़े के विंडोज़ 98 कम्प्यूटर से यह ब्लॉग प्रविष्टि लिखी थी, और बड़ी आसानी से लिखी थी.

तो, अगली दफ़ा, साइबर कैफ़े के विंडोज़ 98 कम्प्यूटरों पर गरियाएं नहीं, लानतें नहीं भेजें और बस इन थोड़े से विकल्पों के जरिए अपना काम बख़ूबी निकालें.

Tag ,,,

टिप्पणियाँ

  1. इसी की तलाश थी। इससे से बहुत लोगों की बहुत बड़ी समस्या हल हो गई। धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बेहद उपयोगी जानकारी है. बहुतों को लाभ मिलेगा. "सारथी" पर ऊपर की पट्टी पर "उपयोगी लेख" नाम से एक नये एवं स्थायी लेख में इस लेख की एक स्थायी कडी दी जायगी.

    उत्तर देंहटाएं
  3. रवि भाई सदा आपकी यही कोशिश रहती है कि कम्यूतर पर हिन्दी में लिखने में कोई समस्या है तो उसका समाधान निकले ताकि हिन्दी में न लिख पाने के बहाने कम हों।

    मेरे खयाल से विन्डोज ९८ के लिये बिना इन्टरनेट से जुड़े (आफलाइब रहकर) भी हिन्दी लिखने के लिये उपकरण का अपना ही लाभ और महत्व है। इसके लिये मैं ओंकार जोशी का "गमभन" नामक टूल सुझाऊंगा।
    http://www.var-x.com/gamabhana/

    उत्तर देंहटाएं
  4. सरजी
    कुछ ज्ञान दें।
    नारद पर जब ब्लाग की नयी पोस्टिंग उभरती है, तो कुछ विद्वानों के फोटू पोस्टिंग के बायीं तरफ आते हैं(आपके भी आते हैं,समीरजी के आते हैं, बहुतों के आते हैं)
    अपना फोटू इस तरह से लाने के लिए क्या करना पड़ता है, सो कहें
    एडवांस में धन्यवाद
    इसे यहीं बता दें
    या फिर मेरा ईमेल है-puranika@gmail.com
    आलोक पुराणिक

    उत्तर देंहटाएं
  5. मैंने साइबर कैफ़े से पूरे १२ महीने ब्लॉगिंग की है, जहाँ प्रत्यके सिस्टम पर ९८ होता था। पिछले साल रमण भाई ने ये विधियाँ सूझाये थे। तब से मैं हर हफ़्ते १-२ साइबर-प्रयोक्ता को यह बताता रहता हूँ। मैंने आपका यह लेख देखा तो सोचा कि मुझे मेहनत नहीं करनी पड़गी, प्रश्नकर्ताओं को यह लिंक थमा दिया करूँगा। लेकिन बिना भोमियो की मदद से ९८ पर इसे भी नहीं पढ़ा जा सकेगा क्योंकि जब बीबीसी पर जायेगा तब न देवनागरी पढ़ेगा? खैर अच्छा और ज्ञानप्रद आलेख है।

    उत्तर देंहटाएं
  6. शैलेश जी, आपका कहना सही है. इसे अंग्रेज़ी में अनुवाद कर भी छापता हूँ.

    आलोक जी,

    नारद में ये कुछ तकनीकी समस्या है, और मेरे विचार में इसे जल्द ही ठीक करना चाहिए, और संभवतः ठीक हो भी सकता है - परंतु ...

    आप चाहते हैं कि आपकी भी फ़ोटू आए, तो आपको अपना यूजर नेम अंग्रेज़ी में करना होगा - अभी नारद हिन्दी यूजर नेम को समझ नहीं पाता है :(

    ब्लॉग के अंत में Posted by .. के बाद जो नाम आता है उसे नारद पकड़ता है. अगर वह अंग्रेज़ी में है तो वह समझ जाता है और उस ब्लॉगर का फ़ोटू लगा देता है यदि उसके पास उपलब्ध होता है. हिन्दी के मामले में अभी वह पूरा अंगूठा छाप है :(

    तो अभी ही अपना यूजर नेम बदल कर अंग्रेज़ी में कर दें व नारद मुनि को अपना एक ठो बढ़िया फ़ोटू भेज दें. आपका भी चित्र अवतरित हो जाएगा :)

    उत्तर देंहटाएं
  7. वाह जानकारी पूर्ण उपयोगी लेख, मैंने बहुत बार इस विषय पर लिखने का सोचा पर हमेशा परफैक्शन के चक्कर में रह जाता है।

    विंडोज 98/ME में इंटरनैट पर काम करने का सबसे अच्छा तरीका मुझे फायरफॉक्स में हिन्दी टाइपिंग एक्सटेंशनों का प्रयोग लगा क्योंकि उससे कहीं भी नैट पर हिन्दी टाइप कर सकते हैं लेकिन लोचा ये है कि 98/ME पर हिन्दी केवल इंटरनैट एक्सप्लोरर में सही दिखती ह।

    काफी समय से इस विषय पर खोज जारी है, सरलतम तरीका मिलने पर इस पर लिखूँगा।

    उत्तर देंहटाएं
  8. बेनामी9:28 pm

    रवि जी,
    आपके छींटों और बौछारों से मैं सचमुच आज सराबोर हो गया। मैंने युनिकोड़ में हिन्दी लिखना तो सीख लिया है। अपने कंप्युटर में XP है। कंट्रोल पैनल में Rigional and Language Option से भाषा हिन्दी और कुँजीपट इनस्क्रिप्ट या ट्रेडिशनल चुनता हूँ। फिर Notepad या Word कहीं भी लिखना शुरू कर देता हूँ। बायाँ Alt+ Shift दबाया अंग्रेजी लिखना चालू, फिर बायाँ Alt+ Shift दबाया हिन्दी लिखना चालू। बस एक परेशानी है। केवल Mangal Font उपलब्ध है। आपकी कृपा से और भी कुछ Unicode के Font उपलब्ध हो जाते तो मजा आ जाता। मेरा email ID है prembahadursnd@ovi.com

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. दर्जनों यूनिकोड फ़ॉन्ट डाउनलोड यहाँ से करें -
      http://raviratlami.blogspot.in/2012/07/blog-post_16.html

      हटाएं
  9. रवि जी,
    मंगल और Arial Unicode MS को छोड़कर अन्य युनिकोड फॉण्ट उपलब्ध कराने की कृपा करें।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. दर्जनों यूनिकोड फ़ॉन्ट नीचे दिए लिंक से डाउनलोड करें -
      http://raviratlami.blogspot.in/2012/07/blog-post_16.html

      हटाएं

एक टिप्पणी भेजें

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

विशाल लाइब्रेरी में से पढ़ें >

अधिक दिखाएं

---------------

छींटे और बौछारें का आनंद अपने स्मार्टफ़ोन पर बेहतर तरीके से लें. गूगल प्ले स्टोर से छींटे और बौछारें एंड्रायड ऐप्प image इंस्टाल करें.

इंटरनेट पर हिंदी साहित्य का खजाना:

इंटरनेट की पहली यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित व लोकप्रिय ईपत्रिका में पढ़ें 10,000 से भी अधिक साहित्यिक रचनाएँ

हिन्दी कम्प्यूटिंग के लिए काम की ढेरों कड़ियाँ - यहाँ क्लिक करें!

.  Subscribe in a reader

इस ब्लॉग की नई पोस्टें अपने ईमेल में प्राप्त करने हेतु अपना ईमेल पता नीचे भरें:

FeedBurner द्वारा प्रेषित

ऑनलाइन हिन्दी वर्ग पहेली खेलें

***

Google+ Followers

फ़ेसबुक में पसंद करें