आसपास की कहानियाँ ||  छींटें और बौछारें ||  तकनीकी ||  विविध ||  व्यंग्य ||  हिन्दी || 2000+ तकनीकी और हास्य-व्यंग्य रचनाएँ -

पीपल बीटा : एक नया, बढ़िया ऑनलाइन ऑफ़िस सूट



और, आपके लिए बिलकुल मुफ़्त.!

पीपल बीटा को एक नज़र में देखने पर इसमें एक अत्यंत उम्दा ऑनलाइन ऑफ़िस सूट बनने की पूरी संभावना दिखाई देती है. यह आम, व्यक्तिगत इस्तेमाल के लिए मुफ़्त है. इसमें पंजीकरण भी अत्यंत आसान है बस आपको उपयोक्ता-नाम तथा पासवर्ड भरना होता है और एक वैध ई-मेल खाता पुष्टिकरण के लिए आवश्यक होता है बस.

पीपल बीटा में शब्द संसाधक और एक्सेल जैसा प्रोग्राम तो है ही, ऑनलाइन केलकुलेटर भी है तथा उपयोक्ता के ऑनलाइन भंडारित फ़ाइलों के प्रबंधन के लिए फ़ाइल प्रबंधक भी है. यह गूगल के राइटली या ऐसे ही अन्य प्रोग्रामों की अपेक्षा तीव्र गति से चलता है तथा पीएचपी आधारित होने के बावजूद तीव्रता में एजेक्स आधारित अनुप्रयोगों जैसा कमाल दिखाता है.

इसमें हिन्दी (यानी यूनिकोड) का पूर्ण और बढ़िया समर्थन है. आप फ़ाइलों को हिन्दी नामों से भी ऑनलाइन सहेज सकते हैं तथा उनका प्रबंधन कर सकते हैं.

इसका शब्द संसाधक पीपल वेबराइटर तो लगभग पूर्ण है और सभी आवश्यक औजारों से युक्त है. परंतु इसका एक्सेल जैसा प्रोग्राम - पीपल वेबशीट बहुत ही साधारण किस्म का है और एक तरह से यह अनुपयोगी ही है क्योंकि इसमें आपको कक्षों में भरे गए सूत्रों को देखने का कोई विकल्प अभी नहीं दिखता. उम्मीद है इसके भविष्य के संस्करणों में इन्हें शामिल किया जाएगा. इसका पीपलकेल्कुलेटर भी बहुत ही साधारण किस्म का जोड़-घटाना-गुणा-भाग के लिए ही है वैज्ञानिक गणनाओं के फंक्शन इसमें नहीं हैं.


इस पोस्ट को इसी ऑनलाइन औजार से लिखकर पोस्ट किया जा रहा है. इसके जरिए आप पाठ को फ़ॉर्मेट कर सकते हैं, पाठ में रूप रंग भर सकते हैं और वह बढ़िया, साफ सुथरा कोड युक्त होता है. अनावश्यक फ़ॉर्मेटिंग के कोड न होने से आपका हिन्दी पाठ आकार में छोटा होता है और आपका पृष्ठ तेज गति से लोड होता है. यह फ़ॉयरफ़ॉक्स तथा इंटरनेट एक्सप्लोरर पर बढिया चलता है. यहाँ तक कि कनेक्शन के टूट जाने पर भी आप इसमें काम करते रह सकते हैं. हाँ, फ़ाइलों को सहेजने के लिए आपको ऑनलाइन होना आवश्यक है.


लगता है भविष्य में हम सभी ऑनलाइन अनुप्रयोगों पर अच्छे खासे निर्भर होने वाले हैं. और एमएस ऑफ़िस सूट जैसे भारी भरकम और महंगे डेस्कटॉप अनुप्रयोगों का कोई लेवाल नहीं रहेगा.


अद्यतन # पीपल के स्टीफ़न केली ने बताया है कि पीपल में पीएचपी तथा एजेक्स दोनों तकनॉलाजी का ख़ूबसूरती से प्रयोग किया गया है. साथ ही, जैसा कि मैंने अपने रीव्यू में लिखा है, स्प्रेड शीट पर काम जारी है और शीघ्र ही उसमें सूत्रों को दिखाने तथा अन्य विशेषताओं को शामिल किया जाएगा.

अद्यतन # पीपल बीटा का जाल स्थल यहाँ है

टिप्पणियाँ

  1. रवि जी
    वढिया जानकारी दी है आपने.. आप की खोज के कायल हैं हम.

    उत्तर देंहटाएं
  2. संजय बेंगाणी11:22 am

    यह तो मोइक्रोसोफ्ट ओफिस के लिए खतरे की घंटी बज रही है. :)

    उत्तर देंहटाएं
  3. क्या इसे save as करके ऑफ-लाइन भी चलाया जा सकता है?

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत उपयोगी जानकारी लेकर आए हैं रवि जी, हमेशा की तरह। धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  5. इसे गूगल डाक्स की बराबरी मे आने अभी समय लगेगा लेकिन इतना तय है कि एम एस आफीस के बारह बजने वाले है। उन्हे अपने उत्पादो की कीमत कम करनी होगी!

    उत्तर देंहटाएं
  6. हरिराम जी,
    जी हाँ, आप इसे सेव-एज कर कहीं भी (ऑन-लाइन रिमोट सर्वर पर या अपने कम्प्यूटर पर)सहेज सकते हैं फिर ऑफ़लाइन होकर काम करते रह सकते हैं. परंतु कुछ फंक्शनों के लिए तथा अंत में फ़ाइल सहेजने के लिए आपको ऑनलाइन तो होना ही होगा, चूंकि मूलतः यह एक ऑनलाइन अनुप्रयोग ही है.

    उत्तर देंहटाएं
  7. जो़हो को भी आजमा के देखें, निश्चित तौर पर गूगल डाक्स से अच्छा है।
    राजेश कुमार

    उत्तर देंहटाएं
  8. बडी सही जानकारी दिये हैं रवि जी

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत सही जानकारी लाए हैं रवि जी, इसके यूनिकोड समर्थित होने की जानकर खुशी हुई।

    बाकी तो सब ठीक है लेकिन इसका लिंक कहाँ है?

    उत्तर देंहटाएं
  10. श्रीश जी,
    कड़ी नहीं होने की गलती की ओर ध्यान दिलाने हेतु धन्यवाद. कड़ी जोड़ दी है.

    उत्तर देंहटाएं
  11. आपका ये लेख वहीं पे छाप दिया गया है, जहाँ आप सूचना दे के आये थे अपने ब्लाग की..या आपने कोई अनुबन्ध किया है। :)

    उत्तर देंहटाएं
  12. मिश्र जी, कृपया कड़ी बताएँ तो उन सज्जन की कुछ झाड़ फूंक करें :)

    उत्तर देंहटाएं
  13. इस उपयोगी जानकारी को जानकारी में लाने के लिये आभार.

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

विशाल लाइब्रेरी में से पढ़ें >

अधिक दिखाएं

---------------

छींटे और बौछारें का आनंद अपने स्मार्टफ़ोन पर बेहतर तरीके से लें. गूगल प्ले स्टोर से छींटे और बौछारें एंड्रायड ऐप्प image इंस्टाल करें.

इंटरनेट पर हिंदी साहित्य का खजाना:

इंटरनेट की पहली यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित व लोकप्रिय ईपत्रिका में पढ़ें 10,000 से भी अधिक साहित्यिक रचनाएँ

हिन्दी कम्प्यूटिंग के लिए काम की ढेरों कड़ियाँ - यहाँ क्लिक करें!

.  Subscribe in a reader

इस ब्लॉग की नई पोस्टें अपने ईमेल में प्राप्त करने हेतु अपना ईमेल पता नीचे भरें:

FeedBurner द्वारा प्रेषित

ऑनलाइन हिन्दी वर्ग पहेली खेलें

***

Google+ Followers

फ़ेसबुक में पसंद करें