मंगलवार, 6 मार्च 2007

और, अब धार्मिक ऑपरेटिंग सिस्टम भी !



सच है. धर्म को आप अपने से अलग नहीं कर सकते. आप उसे जितना दूर फेंकने की कोशिश करते हैं, वह उतनी ही तीव्रता से बाउंस होकर आपके गले पड़ता है. तेजी से लोकप्रियता की ओर अग्रसर हो रहे उबुन्तु लिनक्स के एक वेरिएन्ट को उबुन्तु मुसलिम संस्करण के नाम से जारी किया गया है.

पर, रुकिए, इसमें तालिबानी सोच जैसा कुछ भी नहीं है. इसमें मुसलिम प्रार्थनाएँ, इबादतें, कुरान अध्ययन के व अरबी पढ़ने के औजार तथा मुसलिम तिथियों इत्यादि माल-मसाला रखा गया है ताकि मुसलिम भाइयों को सहूलियतें हों.

(स्क्रीनशॉट - साभार उबुन्तुमी.कॉम)

लगता है कि अब अतिशीघ्र ही उबुन्तु हिन्दू संस्करण, उबुन्तु ईसाई संस्करण, उबुन्तु सिख-जैन-बुद्ध-और-न-जाने-क्या-क्या संस्करण शीघ्र ही निकलेगा!

मेरी उंगलियाँ धन चिह्न बनाकर अटकी हुई हैं.

अद्यतन - अनुराग ने बताया कि उबुन्तु का ईसाई संस्करण पहले से ही है. स्क्विरल ने बताया कि उबुन्तु का शैतानी संस्करण भी है.

यानी कि धार्मिक लिनक्सों का हिसाब किताब यहाँ भी शैतानी लिनक्स ने बराबर कर दिया!

Tag ,,,

Add to your del.icio.usdel.icio.us Digg this storyDigg this

9 टिप्पणियाँ./ अपनी प्रतिक्रिया लिखें:

  1. ये तो बिल्कुल नयी खबर सुनायी आपने, कहीं ऐसा ना हो अच्छे विचार से ये सब शुरू हो और फिर इंटरनेट में ही धर्मयुद्ध में तब्दील हो जाये

    उत्तर देंहटाएं
  2. उबुन्टू का इसाई वर्ज़न तो बहुत पहले से प्रचलन में है।

    उत्तर देंहटाएं
  3. तरुण,
    हाँ, कुछ मामलों में इंटरनेटी धर्मयुद्ध तो शुरु हो ही चुका है.

    अनुराग,
    आपका धन्यवाद. मुझे तो पता ही नहीं था कि उबुन्तु का ईसाई संस्करण भी है! अब तो बस इसे हिन्दू संस्करण आने की देरी है.

    उत्तर देंहटाएं
  4. जानकारी अच्छी दी आपने, लेकिन इन धार्मिक संस्करणों को सिर्फ़ युज़र फ़्रेंड्ली होने तक ही रखा जाये या प्रचारित किया जाये, धार्मिक आरोपण इन सबसे दुर ही रहेतब तो ठीक है।
    हमें तो इंटरनेटी धर्मयुद्ध के बारे में आपका यह चिठ्ठा पढ़कर ही मालुम चला।

    उत्तर देंहटाएं
  5. संजय बेंगाणी11:38 am

    यह कुछ व्यंग्य जैसा नहीं लग रहा? धार्मिक नेता नई तकनीको का विरोध करते रहे हैं और नई तकनीको का धार्मिकीकरण हो रहा है :)

    उत्तर देंहटाएं
  6. संजय,
    हाँ, यह तो ख़ालिस व्यंग्य ही है!
    और, सभी धर्मों के लिए है!

    उत्तर देंहटाएं
  7. संजय बेंगाणी6:14 pm

    अरे भाई, मैने भी सभी धर्मो के लिए ही लिखा है. कौए सभी जगह काले ही होते हैं :)

    उत्तर देंहटाएं
  8. बेनामी1:47 pm

    अच्छे विचार से ये सब शुरू हो और फिर इंटरनेट dfasd df

    उत्तर देंहटाएं
  9. अगर अच्छे मकसद से हो रहा है तो ठीक है। वैसे हिन्दू संस्करण आए तो बताइएगा।

    उत्तर देंहटाएं

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

----

नया! छींटे और बौछारें का आनंद अपने स्मार्टफ़ोन पर बेहतर तरीके से लें. गूगल प्ले स्टोर से छींटे और बौछारें एंड्रायड ऐप्प image इंस्टाल करें. ---