टैगिंग में ग़लतियाँ...

घूमने जाना है? टिक्केट बूक करो होटेल बूक करो

टैगिंग की उत्तर पुस्तिका में रमण ने यह स्वीकारोक्ति की-

मेरी हर टिप्पणी में वर्तनी की मीन मेख निकालने की भी बीमारी मिलेगी आप को, ..यह अलग बात है कि कई बार मुँह की भी खाई है.

और उधर उनके गूगल विज्ञापन पर उनके ही चिट्ठे पर यह क्या नज़र आ रहा है-

तो रमण मियाँ, हमारे आपके तो हिसाब आज बराबर हुए. गूगल देव की सहायता से ही सही, हमने आपके चिट्ठे पर वर्तनी की मीन मेख निकाल ही दी. :)


अब आप करिए ठीक इसे!

टिप्पणियाँ

  1. खूब यह हुई न बात, देखते हैं रमण भैया अब इसे कैसे ठीक कराते हैं। :)

    उत्तर देंहटाएं
  2. रवि भाई, खूब पकड़ा। मैं अपनी डिफेन्स में यह कहना चाहता हूँ कि यह विज्ञापन मुझे कभी दिखा नहीं, वरना... (वरना क्या कर लेता?) दरअसल गूगल वाले बहुत तेज़ हैं। अलग देशों में अलग विज्ञापन दिखाते हैं। यहाँ मुझे अपनी साइट पर हिन्दी विज्ञापन कम ही दिखते हैं। यहाँ के विज्ञापन यहाँ बसे भारतीयों की ओर लक्ष्यित होते हैं। आप के लिए यहाँ फोटो चिपका दी है।

    उत्तर देंहटाएं
  3. संजय बेंगाणी11:19 am

    सबसे पहले तो आभार व्यक्त करता हूँ, आपने टिप्पणीयाँ जोड़े को ब्लिंक करवाया है.


    समझमें नहीं आ रहा, मीन-मेख अभियान कभी सफल नहीं हुआ, क्यों?

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

विशाल लाइब्रेरी में से पढ़ें >

अधिक दिखाएं

---------------

छींटे और बौछारें का आनंद अपने स्मार्टफ़ोन पर बेहतर तरीके से लें. गूगल प्ले स्टोर से छींटे और बौछारें एंड्रायड ऐप्प image इंस्टाल करें.

इंटरनेट पर हिंदी साहित्य का खजाना:

इंटरनेट की पहली यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित व लोकप्रिय ईपत्रिका में पढ़ें 10,000 से भी अधिक साहित्यिक रचनाएँ

हिन्दी कम्प्यूटिंग के लिए काम की ढेरों कड़ियाँ - यहाँ क्लिक करें!

.  Subscribe in a reader

इस ब्लॉग की नई पोस्टें अपने ईमेल में प्राप्त करने हेतु अपना ईमेल पता नीचे भरें:

FeedBurner द्वारा प्रेषित

ऑनलाइन हिन्दी वर्ग पहेली खेलें

***

Google+ Followers

फ़ेसबुक में पसंद करें