शनिवार, 18 नवंबर 2006

मंड्रिवा लिनक्स 2007 - बढ़िया, बहुभाषी, लिनक्स

मंड्रिवा लिनक्स 2007 : बहुभाषी लिनक्स हेतु एक शानदार विकल्प.

मंड्रिवा लिनक्स 2007 में 65 से अधिक भाषाओं का समर्थन है. हिन्दी, गुजराती, पंजाबी, तमिल इत्यादि समेत कई अन्य भारतीय भाषाओं का भी इसमें समर्थन है. मंड्रिवा संस्थापक का हिन्दी अनुवाद धनञ्जय शर्मा का है. मंड्रिवा को अपने कम्प्यूटर पर हिन्दी में संस्थापित करने के लिए निम्न, आसान चरण अपनाएँ-

मंड्रिवा लिनक्स 2007 संस्थापना के सबसे पहले चरण में भाषा चयन संवाद में जाने के लिए (जैसा कि नीचे दिए गए चित्र में दिया गया है) F2 कुंजी को दबाएँ.

अगले स्क्रीन पर आपको मंड्रिवा 2007 में उपलब्ध समर्थित भाषाओं की सूची दिखाई देगी. उस भाषा को चुनें जिसे आप डिफ़ॉल्ट अंग्रेज़ी के अतिरिक्त संस्थापित करना चाहते हैं. यदि आप एक से अधिक भाषा संस्थापित करना चाहते हैं तो Multi Languages टैब पर क्लिक करें. फिर उसमें उपलब्घ जितनी भाषाओं को संस्थापित करना चाहते हैं, उसे चुनें.

.

.

परंतु यह ध्यान रखें कि कुंजीपट भाषा खाका को अंग्रेज़ी में ही रखें, चूंकि टर्मिनल पर आपको हिन्दी में कमांड देने की सुविधा अभी नहीं है, और हो सकता है कि संस्थापना के दौरान कमांड देने की आवश्यकता पड़ जाए - जैसे कि उपयोक्ता नाम और पासवर्ड सेट करने या बूट पार्टीशन को पारिभाषित करने - इत्यादि.

मंड्रिवा का डिस्क पार्टीशन औजार बहुत ही अच्छा, इस्तेमाल में आसान और सरल सा है. यदि मंड्रिवा संस्थापक आपकी भाषा में उपलब्ध है जैसे कि हिन्दी तो यह डिस्क पार्टीशनर भी उस भाषा में उपलब्ध होता है.

मंड्रिवा 2007 के हिन्दी वातावरण में एक बग है - संस्थापना के चरणों में तो आपको हिन्दी बढ़िया दिखाई देती है, परंतु जब आप संस्थापना के पश्चात् हिन्दी वातावरण में बूट करते हैं तो गनोम में आपको हिन्दी खंडित दिखाई देती है और केडीई में हिन्दी की जगह डब्बे. जाहिर है, हिन्दी का फ़ॉन्ट सही प्रकार से संस्थापित होना रह जाता है. इसे सही करना आसान है. किसी एक यूनिकोड हिन्दी फ़ॉन्ट की प्रतिलिपि डिरेक्ट्री /usr/share/fonts/TTF में डालें और फिर chkfontpath कमांड चलाएँ. बस, हिन्दी फ़ॉन्ट सही संस्थापित हो जाता है और आपका मंड्रिवा बढ़िया, हिन्दी-मय कुछ यूं हो जाता है-.

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

---------------------------------------------------------

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------