शनिवार, 30 सितंबर 2006

अरे! ये क्या हो गया? मेरे शहर का रावण ही चोरी हो गया!

.

रावण की चोरी

अजीबो-गरीब किस्म की चोरी की वारदातों के बारे में आपने सुना होगा. परंतु आपने 20 फुट ऊंचे रावण के पुतले के चोरी चले जाने की वारदात के बारे में नहीं सुना होगा. लोगों का सही कहना है. घोर कलजुग आ गया है. अब तो चोर रावण को भी चोरी कर ले जाने लगे हैं. वैसे, दूसरे विचार में, चोर राम को थोड़े ही ले जाएगा चोरी करके. सीता को भी नहीं ले जाएगा. राम जैसा सत्यवादी उसका क्या भला करेगा और सत्यवती सीता से उसे क्या मिलेगा? उन्हें भी खिलाना पिलाना जो पड़ेगा. बहुत हुआ तो राम का मुकुट और धनुष बाण - यदि वे खालिस सोने के हुए तो - चोरी कर ले जाएगा अन्यथा चोर के काम का तो रावण ही है!

*-**-*

.

.

व्यंज़ल

*-*
इस दौर में यारों सब हिसाब बदले गए
खबर ये है कि लोग रावण चुरा ले गए

प्रश्न मेरे मन में भी उठे थे बहुत मगर
जुबां पे आते आते जाने कहाँ चले गए

इन चोरों की अक्ल का अब क्या कहें
वक्त छोड़ गए, घड़ियाँ चुरा कर ले गए

वादे थे पाँच बरस में दुनिया बदलने के
रोटियों के बजाए टीवी से बहला ले गए

अंततः पराजितों में खड़ा हो गया रवि
विजेता होने के फ़ायदे कब के चले गए

**-**


3 टिप्पणियाँ./ अपनी प्रतिक्रिया लिखें:

  1. अरे यह क्या हो गया,
    खलनायक चोरी हो गया.
    जरूर राम ने चुराया होगा,
    महारावणो द्वारा,
    जलाने से बचाया होगा.

    उत्तर देंहटाएं
  2. तो अब चोरों की भी चोरी होने लगी..घोर कलयुग..!!
    रावण को भी अब पता चला होगा कि नई पीढी हमेशा पुरानी से एक कदम आगे होती है।

    चिठ्ठे का नया रूप सुन्दर लगा।

    उत्तर देंहटाएं
  3. "वादे थे पाँच बरस में दुनिया बदलने के
    रोटियों के बजाए टीवी से बहला ले गए"

    --बेहतरीन.

    उत्तर देंहटाएं

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

----

नया! छींटे और बौछारें का आनंद अपने स्मार्टफ़ोन पर बेहतर तरीके से लें. गूगल प्ले स्टोर से छींटे और बौछारें एंड्रायड ऐप्प image इंस्टाल करें. ---