बुधवार, 28 मार्च 2018

किंडल ईबुक संबंधी आम प्रश्नों के उत्तर kindle FAQ Hindi

( किंडल ईबुक - पेपर व्हाइट एडीशन)


किंडल क्या है?

किंडल, बड़े स्क्रीन वाला, स्मार्टफ़ोन जैसा दिखने वाला एक हार्डवेयर है, जिसे केवल किताब जैसे पढ़ने के उत्तम अनुभव के लिए डिजाइन किया गया है. वर्तमान में तीन किस्म के किंडल मिलते हैं, जिनकी कीमत छः हजार से दस हजार रुपए के बीच है. एक किंडल में सैकड़ों किंडल ईबुक डाउनलोड कर रख सकते हैं. एक तरह से यह आपकी चलती फिरती लाइब्रेरी होती है. इसी किस्म के कुछ और हार्डवेयर हैं कोबो, नोबल आदि, परंतु ये उतने प्रचलित नहीं हैं.

किंडल ईबुक क्या है?

किंडल ईबुक खासतौर पर किंडल उपकरणों पर पढ़ने की सुविधा हेतु प्रकाशित किए जाते हैं. यह सॉफ़्ट-कॉपी होती है, कुछ कुछ पीडीएफ फ़ाइल की तरह परंतु इसमें उन्नत सुविधा होती है – टैक्स्ट आकार को छोटा बड़ा करने, नोट लेने, नोट लिखने, शब्दार्थ समझने की अंतर्निर्मित सुविधा आदि (हिंदी भाषा में कुछ सुविधाएँ अभी अनुपलब्ध हैं). किंडल ईबुक डीआरएम सक्षम होती हैं, यानी इन्हें बिना शुल्क चुकाए आसानी से वितरण / साझा इत्यादि नहीं किया जा सकता. आमतौर पर सभी किंडल ईबुक बेहद सस्ते होते हैं (प्रिंट व वितरण इत्यादि का खर्च नहीं लगता इसलिए) और किंडल अनलिमिटेड सदस्यता में हजारों किंडल ईबुक निःशुल्क पढ़े जा सकते हैं.

image

स्मार्टफ़ोन के किंडल ऐप्प पर डाउनलोड किए गए कुछ किंडल ईबुक.


किंडल ईबुक को किंडल के अलावा कैसे पढ़ा जा सकता है?

किंडल ईबुक को पढ़ने के लिए आपको खर्चीला किंडल उपकरण खरीदने की कतई जरूरत नहीं है. अपने कंप्यूटर उपकरणों अथवा स्मार्टफ़ोनों में आप निःशुल्क किंडल ऐप्प इंस्टाल कर किंडल ईबुक पढ़ सकते हैं. हालाकि अनुभव उतना अच्छा नहीं होगा, क्योंकि किंडल उपकरण के ई-इंक तकनीक से किताब पढ़ने जैसा अनुभव होता है, और स्मार्टफ़ोन की चमकीली स्क्रीन से देर तक पढ़ने से आँखों में तनाव का अनुभव हो सकता है. किंडल ऐप्प इंस्टाल करने के लिए प्लेस्टोर पर किंडल ऐप्प Kindle app सर्च करें और आधिकारिक अमेजन किंडल ऐप्प ही इंस्टाल करें. किंडल ईबुक खरीद कर डाउनलोड कर पढ़ने से पहले आप इनके सेंपल को निःशुल्ड डाउनलोड कर पढ़ कर कंटेंट का अंदाजा भी लगा सकते हैं. इससे आपको खरीदी करने के निर्णय लेने में आसानी होती है – किताब काम का है, रूचि का है भी या नहीं.

image

अमेजन किंडल ऐप्प जिससे आप अपने स्मार्टफ़ोन पर किंडल ईबुक पढ़ सकते हैं.


अपना पसंदीदा किंडल ईबुक मैं कैसे खोज सकता हूँ

किंडल पर सर्च की उत्तम सुविधा है. किंडल ऐप्प पर भी आप उत्तम सर्च सुविधा का लाभ ले सकते हैं. अपने किंडल पर अथवा अपने स्मार्टफ़ोन के किंडल ऐप्प (पहली बार उपयोग करते समय आपको एक खाता बनाना जरूरी होगा) में कीवर्ड से सर्च करें – जैसे कि ‘कुबेर’ . आपके सामने किंडल पर कुबेर के व्यंग्य नामक ईबुक, (यदि किंडल में कभी भी प्रकाशित हुई हो तो) आ जाएगी, अथवा मिलती जुलती किताबें दिखाई देंगी.

image

किंडल पर कीवर्ड "कुबेर" से  सर्च


क्या किंडल ईबुक प्रिंट रूप में भी मिलती हैं?

अंग्रेज़ी की किताबें अधिकांशतः प्रिंट ऑन डिमांड के तहत अमेजन से प्रिंट में भी खरीदा जा सकता है. हिंदी की कुछ किंडल किताबें प्रिंट में मिलती हैं, परंतु कुछ नहीं. रचनाकार के तहत प्रकाशित किताबें अभी प्रिंट में उपलब्ध नहीं हैं. शायद निकट भविष्य में अमेजन यह सुविधा प्रारंभ कर दे.

अब आप पढ़ते रहिए किंडल पर किंडल ईबुक.

और हाँ, रचनाकार के जरिए किंडल ईबुक प्रकाशित करने की निःशुल्क सुविधा उपलब्ध है. अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर जाएँ.

रविवार, 25 मार्च 2018

बेहतर लिखना तो ठीक है साहब, बेहतर पढ़ने वालों में असली बुद्धिमत्ता कहाँ से लाएँगे?

image

... पत्थर का एक टुकड़ा भी!


कृत्रिम बुद्धिमत्ता से अब उच्चकोटि का साहित्य लिखा जाएगा. कविताई-शविताई, ग़ज़ल-शज़ल, व्यंग्य-श्यंग्य  सब. एक बात तो इससे बढ़िया हो जाएगी. एक कवि दूसरे से नहीं जलेगा. एक व्यंग्यकार दूसरे व्यंग्यकार के व्यंग्य में सरोकार या मार्मिकता या पंचादि ढूंढने की कोशिश नहीं करेगा, बल्कि एआई ऐप्प को थ्रीस्टार, फाइवस्टार रेटिंग देगा - ये वाला ऐप्प बढ़िया व्यंग्य लिखता है. इस ऐप्प ने तो इस बार व्यंग्य में व्यंग्य नहीं, फूहड़ हास्य भर दिया. इसलिए, जीरो रेटिंग.

पर एक यक्ष प्रश्न उठेगा. कृत्रिम बुद्धिमत्ता से बढ़िया साहित्य रच लिया जाएगा. पढ़ेगा कौन? उच्च कोटि के साहित्य को पढ़ने व समझने के लिए असली बुद्धिमत्ता भी कृत्रिम बुद्धिमत्ता से गढ़नी होगी. और आदमी अपने बुद्धूपन की ओर एक कदम और बढ़ा लेगा Smile

जै हो तकनीक की!

शुक्रवार, 23 मार्च 2018

आर यू स्टिल ऑन फ़ेसबुक?

image

क्या आप अभी भी फ़ेसबुक पर हैं?

पांच-छः साल पहले लोग गर्व से कहते थे – आ’यम ऑन फ़ेसबुक. आर यू ऑन फ़ेसबुक?

और यदि कोई नहीं होता था फ़ेसबुक में तो, वो अपने आप को तकनीकी रूप से बेहद पिछड़ा, अति पिछड़ा, अति अति पिछड़ा आदि आदि न जाने क्या क्या समझने लगता था.

और, अब मुंह छुपाने का समय आ गया है.


लोग कह रहे हैं – आर यू स्टिल ऑन फ़ेसबुक?


फ़ेसबुक का मेरा परीक्षण (हाँ, यह एक तरह से अभी भी परीक्षण खाता ही है, क्योंकि मैं इसमें सक्रिय कभी भी नहीं रहा) खाता स्व. ओरकुट (RIP) के जमाने से है. और इसकी पॉलिसी मुझे कभी भी रास नहीं आई. पहले पहल तो यह कि कहीँ भी, किसी भी उपकरण में फ़ेसबुक के सार्वजनिक पृष्ठों को भी पढ़ने देखने के लिए आपको एक अदद खाता बनाना पड़ेगा और लॉगिन करना होगा.

फ़ेसबुक पर जो सामग्री लिखी जाती है उसका सर्च इत्यादि से ढूंढ पाना मुश्किल होता है. फ़ेसबुक ने बेहद शातिराना तरीके से सर्च इंजन बनाया है जो कि अपने उपयोगकर्ताओं से पैसे ऐंठ कर अथवा विज्ञापनदाताओं से पैसे वसूल कर उनके मनमाफ़िक सामग्री को सदैव आगे प्रदर्शित करता रहता है. और यही बात अप उसके गले की हड्डी बनती जा रही है.

शायद इसी तरह की घटिया, मगर शातिराना पॉलिसी के कारण, और संभवतः बेहद सरल इंटरफ़ेस और मजमा जमाने (लड़ी दार टिप्पणी करने की बेहतरीन सुविधा) की सुविधा के कारण फ़ेसबुक उत्तरोत्तर लोगों में फैलता भी गया. परंतु घड़ियाल के मुंह में खून लग गया था. उसने अपने उपयोगकर्ताओं के डेटा उचित अनुचित तरीके से उपयोग में लेने भी प्रारंभ कर दिए. नतीजा सामने है.

आर यू स्टिल ऑन फ़ेसबुक?

इफ़ यस, दैन गो बैक टू ब्लॉग, यू फ़ूल! Smile

बुधवार, 21 मार्च 2018

आइए, आज होशियारी भरा एक काम करें,

अपना फ़ेसबुक का खाता सदा के लिए मिटा दें...

image

फ़ेसबुक से बाहर निकालने वालों के अपने अपने फंडे हैं. इन महाशय ने एक नया, वाट्सएप्प प्रतिद्वंद्वी किस्म का ऐप्प लांच किया है. शायद उस ओर मक्खियों को आकर्षित करने की कोई योजना हो... Smile

गुरुवार, 15 मार्च 2018

हुर्रे! आ गया!! आ गया !! गूगल असिस्टेंट हिंदी में आ गया

google assistance 2

यूँ तो गूगल असिस्टेंट हिंदी में पिछले कुछ समय से सीमित उपयोग में काम कर रहा था, परंतु अब गूगल ने इसे आधिकारिक तौर पर हिंदी में पूरी सुविधाओं से लैस जारी कर दिया है.

अब आप हर किस्म के कमांड हिंदी में बोलकर दे सकेंगे जिसे यह पूरी दक्षता के साथ पूरा करने की कोशिश करेगा, और यही नहीं, यह नित्य सीखता भी रहेगा.

मैंने गूगल असिस्टेंट को हिंदी में बोलकर कुछ कमांड दिए – मसलन पूछा – पास में ATM कहाँ है. तो इसने नक्शा पेश कर दिया, दिशानिर्देश के विकल्प सहित. मुलाहिजा फरमाएँ -

google assistance 3


फिर मैंने इसे कॉल करने को कहा, तो यह मेरे फ़ोनबुक में हिंदी में सहेजे गए नाम में से सही सही चुनकर (फ़ोनेटिक रोमन में से भी काम करता है) फोन  लगा दिया!

google assistance 4

यह आपकी गतिविधि लॉग को सुरक्षित रखता है. और भी ढेरों काम कर सकता है. जैसे कि कैलेंडर सेट कर अगले महीने आने वाले किसी जन्मदिवस पर बिना भूले अपने मित्र को बधाई व शुभकामना संदेश देना.


जीवन बहुत आसान हो रहा है. सचमुच बहुत आसान.